आज के समाचार

पिछला पृष्ठ
.

आबंटित नर्मदा जल का 2024 तक पूरा उपयोग करने के लिए रोडमैप बनाएं

नर्मदा घाटी की विभिन्न परियोजनाओं को समय से पूर्ण करें
मुख्यमंत्री श्री चौहान की अध्यक्षता में नर्मदा कंट्रोल बोर्ड एवं नर्मदा बेसिन प्रोजेक्ट कंपनी की बैठक संपन्न
 

भोपाल : गुरूवार, जुलाई 16, 2020, 19:10 IST

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि एन.डब्ल्यू.डी.टी अवार्ड के अनुसार मध्यप्रदेश को आवंटित पूरे नर्मदा जल का 2024 तक पूर्ण उपयोग करने के लिए रोडमैप बनाकर कार्रवाई करें। अवार्ड अनुसार मध्यप्रदेश को नर्मदा नदी का 18.25 एम.ए.एफ. पानी आंवटित किया गया है, जिसका वर्ष 2024 तक इस्तेमाल किया जाना है। नर्मदा नदी पर बनाई गई सभी परियोजनाओं को समय सीमा में पूर्ण कराया जाए। कार्यों की गुणवत्ता का भी पूरा ध्यान रखा जाए।

मुख्यमंत्री श्री चौहान मंत्रालय में नर्मदा कंट्रोल बोर्ड एवं नर्मदा बेसिन प्रोजेक्ट्स कंपनी की बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। बैठक में किसान कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री श्री कमल पटेल, वन मंत्री कुंवर विजय शाह, ऊर्जा मंत्री श्री प्रद्युमन सिंह तोमर, नर्मदा घाटी विकास राज्य मंत्री श्री भारत सिंह कुशवाह, मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव श्री आई.सी.पी. केशरी, अपर मुख्य सचिव श्री मनोज गोविल, प्रमुख सचिव श्री अजीत केसरी आदि उपस्थित थे।

नर्मदा जल उपयोग के लिए तीन योजनाएँ

अपर मुख्य सचिव श्री आई.सी.पी. केशरी ने बतायाकि एन.डब्ल्यू.डी.टी. अवार्ड के अंतर्गत मध्यप्रदेश को आवंटित 18.25 एम.ए.एफ नर्मदा जल में से 13.14 एम.ए.एफ नर्मदा जल के उपयोग के लिए तीन योजनाएँ अपर नर्मदा परियोजना, नर्मदा क्षिप्रा बहुउद्देशीय परियोजना एवं बदनावर माइक्रो सिंचाई परियोजना बनाई गई है तथा उनके क्रियान्वयन के लिए नाबार्ड से 4 हजार करोड़ का ऋण शीघ्र प्राप्त करने की कार्रवाई की जा रही है। बैठक में तदनुसार आवश्यक स्वीकृति प्रदान की गई।

सिंचाई परियोजनाओं की प्रगति की समीक्षा की

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने नर्मदा नदी पर आधारित विभिन्न निर्माणाधीन सिंचाई परियोजनाओं की प्रगति की समीक्षा की। उन्होंने सांवेर उद्ववहन सिंचाई परियोजना, उज्जैनी-देवास पाइप लाइन, अलीराजपुर उद्वहन सिंचाई परियोजना, ग्रुप माइक्रो इरीगेशन स्कीम, मालवा-गंभीर परियोजना, बरगी व्यपवर्तन परियोजना आदि की प्रगति की समीक्षा के दौरान आवश्यकता अनुसार समय वृद्धि किए जाने, कार्य समय-सीमा में पूर्ण किए जाने तथा गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखे जाने के निर्देश दिए। इंदिरा सागर नहर कार्य के बारे में बताया गया कि यह वर्ष 2008 की योजना है तथा इसे 6 बार समयवृद्धि दी गई है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कार्य का भौतिक सत्यापन कर यह देखने के निर्देश दिए कि आगे कार्य कराना उपयोगी है कि नहीं। तदनुसार कार्रवाई की जाए।


पंकज मित्तल
Post a Comment

"शिव-ज्योति" एक्सप्रेस जनता के कल्याण एवं प्रदेश के विकास के लिए निरंतर कार्य करेगी
मुख्यमंत्री श्री चौहान 26 सितम्बर को "मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना" का करेंगे शुभारंभ
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने डबरा क्षेत्र को दी कई बड़ी सौगातें
छोटे किसानों के लिए वरदान साबित होगी "मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना"
किसान सम्मान निधि का विस्तार, मुख्यमंत्री श्री चौहान का ऐतिहासिक निर्णय
स्ट्रीट वेंडर्स को ब्याज मुक्त कर्ज के साथ ही परिचय पत्र भी मिलेंगे : मुख्यमंत्री श्री चौहान
3 वर्ष में कोई भी घर कच्चा नहीं रहेगा
पत्रकार बीमा योजना में आवेदन करने की तिथि बढ़ी
मंत्री डॉ. मिश्रा दतिया में ग्रामीण पथ-विक्रेता ऋण वितरण कार्यक्रम में हुए शामिल
"खजाने की खोज प्रतियोगिता में अधिकतम 20 टीम हिस्सा लेंगी
टेरिटोरियल फाइट से बाँधवगढ़ में एक मादा बाघ की मृत्यु की हुई पुष्टि
बैरसिया को आद्योगिक क्षेत्र बनाने पर विचार - मंत्री श्री सखलेचा
निष्ठा विद्युत मित्र योजना से महिलाएं हुईं आत्मनिर्भर
ग्रामीण पथ विक्रेताओं को भी मिलेगी हरसंभव मदद : मंत्री श्री पटेल
घरेलू नल कनेक्शन से जलापूर्ति की हो रही कारगर पहल
अब ग्रामीण पथ विक्रेता भी होंगे आत्मनिर्भर- स्कूल शिक्षा मंत्री श्री परमार
प्रदेश में 5 हजार आदिवासी युवाओं को दिलाया जायेगा कौशल उन्नयन प्रशिक्षण
नोवल कोरोना वायरस (COVID-19) मीडिया बुलेटिन
अवेयरनेस, अडापटेबिलिटी और एटीट्यूड से इण्डस्ट्री एकेडमी संकट को बदला जा सकता है
निवाड़ी में एमएसएमई कार्यालय शुरू होगा
वर्षाकाल 2020 में प्रमुख नदियों एवं जलाशयों का दैनिक जल स्तर की जानकारी
पोस्टल बैलेट वाले मतदाता घर से ही दे सकेंगे वोट
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सुरजनपुर पहुँकर स्व. श्री अमर सिंह डण्डोतिया को पुष्पांजलि अर्पित की
किसान का कोई भुगतान शेष नहीं - कलेक्टर हरदा
1