आज के समाचार

पिछला पृष्ठ
.

चम्बल एक्सप्रेस-वे के लिए 781 करोड़ स्वीकृत

अब चम्बल एक्सप्रेस-वे नहीं, चम्बल प्रोग्रेस-वे है - मुख्यमंत्री श्री चौहान 

भोपाल : शनिवार, जुलाई 4, 2020, 19:08 IST

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि चंबल एक्सप्रेस-वे के बनने से प्रदेश के बीहड़ एवं पिछड़े क्षेत्र को औद्योगिक सेक्टर के रूप में विकसित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि वे इस प्रोजेक्ट को 'चम्बल एक्सप्रेस-वे' नहीं 'चम्बल प्रोग्रेस-वे' के रूप में देखते हैं। केन्द्रीय परिवहन मंत्री श्री नितिन गडकरी चंबल एक्सप्रेस-वे पर वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से चर्चा कर रहे थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि यह सरकार का ड्रीम प्रोजेक्ट है। इसमें भारतमाला के अंतर्गत मात्र 50 प्रतिशत भूमि नि:शुल्क उपलब्ध कराने का प्रावधान है। मध्यप्रदेश सरकार इस ड्रीम प्रोजेक्ट को पूरा करने के लिए 421 करोड़ की 100 प्रतिशत भूमि नि:शुल्क उपलब्ध करा रही है। इसके अलावा प्रदेश सरकार आर्थिक सहयोग के रूप में मिट्टी एवं मुरम की रायल्टी के रूप में 330 करोड़ प्रदान करेगा और वन भूमि की अनुमतियों पर होने वाले व्यय के रूप में 30 करोड़ का व्यय भी स्वयं वहन करेगा। इस प्रकार राज्य शासन 781 करोड़ का सहयोग प्रदान करेगा।

औद्योगिक क्षेत्र के रूप में विकसित होगा चम्बल

चम्बल की तस्वीर बदलेगा चम्बल एक्सप्रेस-वे

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान का सपना चम्बल एक्सप्रेस-वे से चंबल क्षेत्र की तस्वीर बदलने का है। मुख्यमंत्री ने प्रोजेक्ट की समीक्षा के दौरान कहा कि वे चाहते हैं कि यह प्रोग्रेस-वे पूरे चम्बल के लिए अवसर में बदले। दिल्ली जैसे महानगरों से उद्योगपति चंबल का रूख करें, इसलिए प्रयास होगा कि कम से कम समय में मुरैना पहुँचा जाए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उद्योगपति यहाँ आएँ और उद्योग लगाएं। उन्होंने कहा कि हम उद्योगों के लिए विशेष पैकेज देंगे। स्पेशल इकॉनामिक जोन बनाने के लिए भारत सरकार से पहल करेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि एक ऐसा कॉरीडोर बनाएंगे जिसमें रक्षा, खाद्य प्रसंस्करण, भारी उद्योग, वेयर हाउसिंग, लॉजिस्टिक एवं ट्रांसपोर्ट क्षेत्र के लिए अधोसंरचना का विकास होगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सचमुच में यह प्रोगेस-वे चंबल संभाग के विकास में मील का पत्थर साबित होगा। तस्वीर बदलेगी। उन्होंने कहा कि मुख्य सचिव की अध्यक्षता में एक हाई पावर कमेटी बनाई है, जिससे कार्यों में कोई देरी न हो।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि 'एक्सप्रेस वे' प्रदेश में 309 किलोमीटर लंबा होगा। यह श्योपुर, मुरैना एवं भिण्ड से होते हुए राजस्थान एवं उत्तरप्रदेश की सीमाओं को जोड़ेगा। यह मार्ग भिण्ड में गोल्डन क्वाड्रिलेट्रल (आगरा-कानपुर) मार्ग, मुरैना में नार्थ-साउथ कॉरीडोर एवं राजस्थान में दिल्ली मुम्बई कॉरीडोर से जोड़ा जायेगा। आवागमन का मार्ग सहज एवं सुविधाजनक होने से क्षेत्र को औद्योगिक निवेश प्राप्त होगा।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राज्य शासन द्वारा आर्थिक/औद्योगिक विकास के लिए रक्षा उत्पादन, खाद्य प्रसंस्करण, भारी उद्योग, वेयर हाउसिंग, लॉजिस्टिक एवं ट्रांसपोर्ट उद्योग के रूप में विकसित किया जाएगा।

केन्द्रीय ग्रामीण विकास, पंचायती राज और कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि इस प्रोजेक्ट की शुरुआत मुख्ममंत्री श्री चौहान ने वर्ष 2017 में भी की थी। एक्सप्रेस-वे के बनने से इस पिछड़े क्षेत्र के विकास में बहुत मदद मिलेगी।

वीडियो कान्फ्रेंस में राज्यसभा सांसद श्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने चम्बल एक्सप्रेस-वे को भिण्ड-कोटा रेल्वे लाइन के साथ-साथ बनाने का सुझाव दिया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि चम्बल एक्सप्रेस-वे के लिए हमारे पास 52 प्रतिशत सरकारी जमीन उपलब्ध है। इस प्रोजेक्ट के लिए शेष 48 प्रतिशत भूमि अदला-बदली मॉडल के तहत उपलब्ध करायी जायेगी। एलाइनमेंट होते ही यह जमीन निर्माण कार्य के लिए सौंप दी जायेगी। वीडियो कान्फ्रेंस में मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस एवं संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।


मुकेश दुबे
Post a Comment

महिलाओं को आर्थिक संबल देने के लिये शिवराज सरकार की क्रांतिकारी पहल
अब अनुसूचित जनजाति के व्यक्ति मुक्त होंगे अवैध ऋणों से
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जांच करवाकर विधानसभा भवन में प्रवेश किया
मुख्यमंत्री श्री चौहान कृषि बिल के संबंध में किसानों से करेंगे संवाद
फल-सब्जियों के वैल्यू एडीशन और मार्केटिंग पर व्यय होंगे 7 हजार 440 करोड़ रूपए
नियमित रूप से हो क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक - मुख्यमंत्री श्री चौहान
मुख्यमंत्री श्री चौहान की विधानसभा अध्यक्ष और नेता प्रतिपक्ष से भेंट
मुख्यमंत्री श्री चौहान 63 हजार नवीन हितग्राहियों को वितरित करेंगे किसान क्रेडिट कार्ड
मुख्यमंत्री श्री चौहान का प्रदेश में कोरोना की स्थिति पर वक्तव्य
घायल तेंदुआ का हुआ सी.टी. स्केन
एसटीएसएफ द्वारा वन्य प्राणियों की चार खाल की बरामद
प्रदेश में निवेश को बढ़ावा देने अनुकूल वातावरण बनाया जाए: मंत्री श्री राजवर्धन सिंह
तीन संभाग की ग्रामीण नलजल योजना में करीब 197 करोड़ रूपये स्वीकृत
आदिम जाति कल्याण विभाग में योजनाओं का कम्प्यूटराईजेशन
आदिम जाति कल्याण मंत्री सुश्री मीना सिंह फसल ऋण वितरण कार्यक्रम में होंगी शामिल
मत्स्य महासंघ की 24वीं वार्षिक साधारण सभा की बैठक 22 सितम्बर को
नोवल कोरोना वायरस (COVID-19) मीडिया बुलेटिन
मंत्री श्री सखलेचा का दौरा कार्यक्रम
भारत निर्वाचन आयोग द्वारा ए-वेब के अंतर्राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन
वर्षाकाल 2020 में प्रमुख नदियों एवं जलाशयों का दैनिक जल स्तर की जानकारी
नगरीय निकाय एवं पंचायत निर्वाचन संबंधी प्रशिक्षण 22 सितंबर को
1