आज के समाचार

पिछला पृष्ठ
.

मध्यप्रदेश सरकार का श्रमिकों को तोहफा

'श्रम सिद्धि' अभियान में हर मजदूर को मिलेगा काम
मुख्यमंत्री ने वीसी के माध्यम से अभियान की शुरूआत की
सरपंच एवं श्रमिकों से चर्चा की
 

भोपाल : शुक्रवार, मई 22, 2020, 19:04 IST

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज प्रदेश की हर पंचायत में 'श्रम सिद्धि' अभियान की शुरूआत वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से की। इस अवसर पर उन्होंने कुछ ग्राम पंचायतों के सरपंचों तथा मजूदरों से बातचीत कर ''श्रम सिद्धि'' अभियान की जानकारी दी तथा वहां चल रहे कार्यों की जानकारी प्राप्त की। उन्होंने प्रदेश के समस्त सरपंचों एवं श्रमिकों को संबोधित भी किया। श्रम सिद्धि अभियान के अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्रों के ऐसे मजदूर जिनके जॉब कार्ड नहीं है, उनके जॉब कार्ड बनवाकर, प्रत्येक मजदूर को काम दिलाया जाएगा। इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास श्री मनोज श्रीवास्तव उपस्थित थे।

आपसे मिलने की तड़प रहती है

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सरपंचों एवं श्रमिकों से कहा कि मेरे मन में आप सबसे मिलने की तड़प रहती है। कोरोना के चलते मैं आपसे प्रत्यक्ष रूप से नहीं मिल पा रहा हूँ, इसीलिये आज वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से आपसे चर्चा कर रहा हूँ। आपके माध्यम से मैं जनता को संदेश दे रहा हूँ कि मध्यप्रदेश की भूमि पर कोई भी व्यक्ति चाहे वह किसी भी प्रांत का हो, भूखा नहीं सोएगा तथा हर व्यक्ति को उसकी योग्यता के अनुरूप कार्य दिलाया जाएगा।

मजदूरों, किसानों, गरीबों की सहायता की

मुख्यमंत्री ने बताया कि कोरोना संकट के दौरान शासन द्वारा निरंतर प्रदेश के मजदूरों, किसानों, गरीबों आदि की निरंतर सहायता की गई। मजदूरों को उनके खातों में राशि भिजवाई गई, बच्चों को छात्रवृत्ति की राशि, सामाजिक सुरक्षा पेंशन हितग्राहियों को दो माह की अग्रिम पेंशन, सहरिया, बैगा, भारिया जनजाति की बहनों को राशि, प्रधानमंत्री आवास योजना के हितग्राहियों, मध्यान्ह भोजन के रसाईयों आदि को राशि उनके खातों में अंतरित की गई। किसानों को फसल बीमा की राशि, शून्य प्रतिशत ब्याज पर ऋण तथा गेहूँ उपार्जन की राशि उनके खातों में भिजवाई गई।

मजदूरों में मैं भगवान देखता हूँ

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मुझे मजदूरों, गरीबों, किसानों में भगवान दिखाई देते हैं। इनकी सेवा मेरे लिए भगवान की सेवा है। हमने विभिन्न प्रदेशों में फंसे हुए हमारे मजदूरों को प्रदेश लाने के साथ ही अन्य प्रदेशों के मध्यप्रदेश में आए तथा यहां से गुजरने वाले मजदूरों की भी पूरी सहायता की। मजदूरों को गंतव्य तक पहुंचाया, उनके लिए भोजन आदि की व्यवस्था प्रदेश में समुचित रूप से की गई। बार्डर पर प्रतिदिन 01 हजार बसें मजदूरों के लिए लगाई गई हैं। भारत सरकार की सहायता से मजदूर स्पेशल ट्रेनों से भी बड़ी संख्या में श्रमिक वापस आए हैं।

अपने गाँव को कोरोना से सुरक्षित रखें

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सरपंचों से कहा कि वे अपने गाँव को कोरोना से सुरक्षित रखें। यह आपकी जिम्मेवारी है। ग्राम पंचायत में सभी मास्क लगाएं, एक-दूसरे के बीच कम से कम दो गज की दूरी रखें, बार-बार हाथ धोयें, स्वच्‍छता रखें तथा कहीं भी भीड़ न लगायें। बाहर से आए मजदूरों के साथ मानवीयता का व्यवहार करें। उनका अनिवार्य रूप से स्वास्थ्य परीक्षण हो तथा 14 दिन के‍लिए उन्हें क्वारेंटाइन में रखा जाए।

सरपंच शब्द का अर्थ बताया

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि सरपंच गाँवों के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। उन्होंने सरपंच शब्द का अर्थ बताते हुए कहा कि सरपंच शब्द में 'स' का अर्थ है समानदर्शी, 'र' का अर्थ है रत्न, 'प' का अर्थ है परिश्रमी तथा 'च' का अर्थ है चौकीदार। सरपंच समानदर्शी होते हैं, रत्न के समान होते हैं, परिश्रमी होते हैं तथा वे ग्राम की सुरक्षा में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

पाँच माह का नि:शुल्क राशन

मुख्यमंत्री ने सरपंचों को बताया कि शासन द्वारा प्रत्येक ग्राम में पहले तीन माह का उचित मूल्य राशन प्रदाय किया गया था। अब दो माह का नि:शुल्क राशन प्रदान किया गया है। यह राशन, राशन कार्डधारियों के अलावा उन्हें भी दिया जा रहा है जिनके पास राशन कार्ड नहीं है। सरपंच यह सुनिश्चित करें कि पात्र व्यक्तियों तक राशन पहुंच जाए।

मनरेगा में 21 लाख से अधिक मजदूरों को रोजगार

अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास श्री मनोज श्रीवास्तव ने बताया कि वर्तमान में प्रदेश की 22 हजार 809 ग्राम पंचायतों में से 22 हजार 695 में मनरेगा के कार्य चल रहे हैं। इन कार्यों में अभी तक 21 लाख एक हजार 600 मजदूरों को रोजगार दिया गया है, जो कि गत वर्ष की तुलना में लगभग दो गुना है।

श्रम सिद्धि अभियान में सबको काम

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि श्रम सिद्धि अभियान के अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्र में हर व्यक्ति को कार्य दिया जाएगा। इसके लिए घर-घर सर्वे किया जाएगा तथा जिनके पास जॉब कार्ड नहीं है उनके जॉब कार्ड बनाकर दिए जाएंगे। जो मजदूर अकुशल होंगे उन्हें मनरेगा में कार्य दिलाया जाएगा तथा कुशल मजदूरों को उनकी योग्‍यता के अनुसार काम दिलाया जाएगा।

प्रवासी मजदूरों को भी संबल योजना से जोड़ा जाएगा

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि शासन ने संबल योजना को पुन: प्रारंभ किया है। अब हम प्रवासी मजदूरों को भी इस योजना से जोड़ रहे हैं। यह योजना गरीबों के लिए वरदान है। इसके अंतर्गत गरीबों के बच्चों की फीस, बच्चे के जन्म व उसके पश्चात माँ को 16 हजार रूपए की राशि, बच्ची के विवाह की व्यवस्था, सामान्य मृत्यु पर 2 लाख, दुर्घटना में मृत्यु पर 4 लाख तथा अंतिम संस्कार के लिए 5 हजार रूपए प्रदाय किये जाते हैं।

अच्छा कार्य करने वाली पंचायतों को पुरस्कार

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सरंपचों से कहा कि वे अपने क्षेत्रों में गाँव की आवश्यकता के अनुरूप अच्छा एवं गुणवत्तायुक्त कार्य करवाएं। अच्छा कार्य करने वाली ग्राम पंचायतों को 2 लाख रूपए का प्रथम, एक लाख रूपए का द्वितीय तथा 50 हजार रूपए का तृतीय पुरस्कार प्रदान किया जाएगा। यह पुरस्कार सबसे ज्यादा जॉब कार्ड बनवाने, सबसे ज्यादा मजदूरों को काम पर लगवाने, सबसे ज्यादा कार्य प्रारंभ करवाने, सबसे ज्यादा स्थाई महत्व की संरचनाएं बनवाने तथा श्रेष्ठ गुणवत्ता के कार्यों के लिये दिए जाएंगे।

मिलकर काम करेंगे, प्रदेश को आत्मनिर्भर बनाएंगे

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अशोकनगर की ग्राम पंचायत बाबूपुर के सरपंच श्री रामपाल यादव तथा वहां के श्रमिक श्री संग्राम सिंह अहिरवार एवं पिपरई ग्राम पंचायत की सरपंच श्रीमती रोमा राय से वीसी के माध्यम से बातचीत की। इसी प्रकार उन्होंने श्योपुर जिले की ग्राम पंचायत ढ़ोंढपुर की सरपंच श्रीमती लक्ष्मी जाट एवं श्रमिक श्री लीलाराम जी, आगर-मालवा जिले की ग्राम पंचायत वीजानगरी के सरपंच प्रतिनिधि श्री मदन सिंह एवं श्रमिक श्री पप्पू रजराम, पंचलाना ग्राम पंचायत के सरपंच श्री पवन पाटीदार, भिण्ड जिले की असोखर ग्राम पंचायत के सरंपच श्री सुवेन्द्र नरवरिया एवं श्रमिक श्री मनोज यादव, शिवपुरी जिले की खैराई ग्राम पंचायत के सरपंच श्री चंदन सिंह यादव तथा श्रमिक श्री रंजीत आदिवासी, बगैधरी ग्राम पंचायत की सरपंच श्रीमती प्रेमबाई दुबे तथा कृष्णगंज की सरपंच श्रीमती रामकली धानौ से बातचीत की। उन्होंने सरपंचों एवं श्रमिकों से कहा कि प्रदेश में हर व्यक्ति को काम मिलेगा, सब मिलकर काम करेंगे तथा प्रदेश को आत्मनिर्भर बनाएंगे।


पंकज मित्तल
Post a Comment

मानव मूल्य आधारित पत्रकारिता का विश्वविद्यालय करें दिशा दर्शन: श्री टंडन
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने एक क्लिक से जमा किए 66 लाख विद्यार्थियों के लिए 146 करोड़
गेहूँ उपार्जन लघु, मध्यम एवं सीमांत किसानों के लिये वरदान साबित हुआ
वरिष्ठ चिकित्सक रोज वार्डों में जाएं, मरीजों को सर्वोत्तम इलाज दें
मुख्यमंत्री श्री चौहान रात्रि 8 बजे प्रदेशवासियों को संबोधित करेंगे
मोदी नाम नहीं, मंत्र है जो ऊर्जा भरता है : मुख्यमंत्री श्री चौहान
आईएएस एवं आईपीएस अधिकारियों की पदस्थापना
जल आपूर्ति बाधित न हों : मंत्री डॉ. मिश्रा
संग्राहकों से 1582 क्विंटल महुआ फूल खरीदा गया
पलाश और कुसुम लाख के न्यूनतम समर्थन मूल्य में वृद्धि
रविवार को भी जमा होंगे बिजली बिल
सरसों का उपार्जन 10 जून तक होगा - मंत्री श्री पटेल
टिड्डी दलों के नियंत्रण के लिए चलाया जा रहा सघन अभियान
5 लाख 74 हजार श्रमिक वापस लाये गये
लॉकडाउन अवधि में प्रदेश में 57 हजार से ज्यादा सुधारे गए हैंड पम्प
विभिन्न 5 विकास कार्यों पर 6.25 करोड़ से ज्यादा राशि होगी खर्च
महर्षि पतंजलि संस्कृत संस्थान से नवीन संबद्धता एवं नवीनीकरण के लिये आवेदन 31 जुलाई तक आमंत्रित
नोवल कोरोना वायरस (COVID-19) मीडिया बुलेटिन
कोरोना संकट में जरूरतमंदों का सहारा बन रही आँगनवाड़ी कार्यकर्ता
पीसीसीएफ श्री पी.सी. दुबे राष्ट्रीय औषधीय पादप बोर्ड में सदस्य बने
सी.एम. हेल्पलाइन से बड़ी संख्या में लोगों को मिल रही सहायता
नगरीय निकायों एवं पंचायतों की मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन 4 अगस्त को
लॉकडाउन अवधि में बैंक-सखियों के माध्यम से 62 करोड़ रूपये पहुंचे खातेदारों तक
मास्क बनाने के लिए 10 हजार महिला उद्यमियों ने करवाया पंजीयन
1