आज के समाचार

पिछला पृष्ठ
.

हर मजदूर को घर पहुँचाएंगे, हर मजदूर को काम दिलाएंगे

प्रदेश में 4 लाख 82 हजार से अधिक मजदूरों की घर वापसी
दूसरे प्रदेशों के मजदूरों के लिए भी सारी व्यवस्थाएं- मुख्यमंत्री श्री चौहान
 

भोपाल : गुरूवार, मई 21, 2020, 19:39 IST

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि किसी भी प्रदेश के मजदूर हों, वे हमारे भाई-बहन हैं, हम हर मजदूर को उसके घर पहुँचाएंगे तथा हर मजदूर को काम दिलाएंगे। प्रदेश में अभी तक 4 लाख 82 हजार से अधिक मजदूरों को घर वापस पहुँचाया गया है। वहीं दूसरे प्रदेशों के मजदूरों को राज्य की सीमा तक छोड़ने के साथ ही उनके लिए अन्य व्यवस्थाएं भी की जा रही हैं।

मुख्यमंत्री ने बताया कि सर्वप्रथम प्रदेश के दूसरे जिलों में फंसे मजदूरों को उनके गृह जिलों में पहुँचाया गया। फिर विभिन्न प्रदेशों में फंसे हुए मजदूरों को प्रदेश में लाने का कार्य किया गया। पहले बसों के माध्यम से मजदूर प्रदेश आए उसके बाद केन्द्र सरकार की सहायता से ट्रेन चलीं और ट्रेन से भी मजदूर आने लगे। अभी तक इस कार्य में 115 ट्रेन और हजारों बसें लगाई गई हैं। रेल से करीब एक लाख 44 हजार एवं बस से लगभग 3 लाख 38 हजार श्रमिक वापस आए हैं।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश देश के मध्य में स्थित होने से यहां से होकर एक प्रदेश के मजदूर दूसरे प्रदेशों को जा रहे थे। जब देखा कि कई मजदूर पैदल ही जा रहे हैं तो हर जिले के कलेक्टर को निर्देशित किया गया कि तुरंत ऐसे मजदूरों को बसों आदि के माध्यम से राज्य की सीमाओं तक छुड़वाया जाए। साथ ही उनके चाय, नाश्ते, भोजन-पानी का भी इंतजाम किया गया। इस कार्य में समाजसेवी संगठनों, जनता ने भी पूरी मानवता का परिचय देते हुए मजदूरों की सेवा की। जिनके पास जूते-चप्पल नहीं थे उन्हें जूते-चप्पल पहनाएँ गए।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि प्रदेश सरकार हर मजदूर को कार्य दे रही है। प्रदेश में मनरेगा के अंतर्गत बड़ी संख्या में मजदूरों को कार्य दिया गया है। जिन मजदूरों के जॉब कार्ड नहीं हैं, उनके जॉब कार्ड बनवाए जा रहे हैं। साथ ही उनकी कुशलता के अनुसार उन्हें विभिन्न उद्योगों, व्यवसायों, निर्माण कार्यों में कार्य दिलाया जाएगा। हर मजदूर को नि:शुल्क राशन की व्यवस्था भी की गई है।

आज तक गुजरात से एक लाख 98 हजार, राजस्थान से एक लाख 5 हजार, महाराष्ट्र से एक लाख 10 हजार श्रमिक वापस लाये गये हैं। इसके अलावा गोवा, दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, केरल, आंध्रप्रदेश, तमिलनाडु एवं तेलंगाना से भी श्रमिक आए हैं। प्रतिदिन विभिन्न प्रदेशों से मध्यप्रदेश की सीमा पर 20 से25 हजार लोग पैदल आ रहे हैं। सभी को बसों के माध्यम से राज्य की सीमा पर भिजवाया जा रहा है।


पंकज मित्तल
Post a Comment

राज्यपाल श्रीमती पटेल से मिले स्कूली बच्चे
प्रदेश में बनेगा एकीकृत जॉब पोर्टल: मुख्यमंत्री श्री चौहान
एक सितम्बर से प्रारंभ हो जाएगा आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के रोडमैप पर कार्य
प्रदेश में कोरोना की रिकवरी रेट 75 प्रतिशत हुई
मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में जाँच एजेंसियों में पंजीबद्ध प्रकरणों के विचारार्थ समिति गठित
गृह मंत्री डॉ. मिश्रा ने शायर डॉ. राहत इंदौरी के निधन पर दु:ख व्यक्त किया
कोविड वार्ड में वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारियों का भ्रमण सुनिश्चित कराएं : मंत्री डॉ मिश्रा
ट्रक एसोसिएशन की माँगों पर होगा गंभीरता से विचार-परिवहन मंत्री श्री राजपूत
ऊर्जा मंत्री श्री तोमर ने श्री राहत इंदौरी के निधन पर दु:ख व्यक्त किया
डॉ. राहत इंदौरी के निधन पर मंत्री श्री ऐदल सिंह कंषाना द्वारा शोक व्यक्त
राज्य मंत्री श्री बृजेन्द्र सिंह यादव द्वारा राहत इंदौरी के निधन पर दु:ख व्यक्त
नगरीय विकास मंत्री श्री सिंह ने शायर श्री राहत इंदौरी के निधन पर शोक व्यक्त किया
.....मेरी पेशानी पे हिन्दुस्तान लिख देना
जल संसाधन मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट ने मशहूर शायर
पर्यटन विकास निगम के सभी होटल और रेस्टॉरेंट शुरू
"सहयोग से सुरक्षा अभियान 15 अगस्त से
नोवल कोरोना वायरस (COVID-19) मीडिया बुलेटिन
प्रदेश में उद्योगों का जाल बिछाकर रोजगार के अवसर पैदा किये जाएंगे
पूर्व राज्यपाल स्व. श्री टंडन की अस्थियाँ माँ नर्मदा में प्रवाहित
राजनैतिक मामलों के लिये मंत्रि-परिषद् समिति गठित
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने शायर श्री राहत इंदौरी के निधन पर शोक व्यक्त किया
राज्यपाल श्रीमती पटेल द्वारा शोक व्यक्त
1