आज के समाचार

पिछला पृष्ठ

सभी विश्वविद्यालय मासिक एवं वार्षिक लक्ष्य आधारित रोड मैप बनाएँ

नैक ग्रेडिंग कार्यशाला के समापन सत्र में राज्यपाल श्री टंडन  

भोपाल : सोमवार, सितम्बर 16, 2019, 19:46 IST

राज्यपाल श्री लालजी टंडन ने प्रदेश के विश्वविद्यालयों के कुलपतियों से कहा है कि नई शिक्षा नीति के लिए अभी से तैयारी करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि दीर्घकालिक उद्देश्यों के लिये वार्षिक और मासिक लक्ष्य आधारित रोड मेप बनाये। श्री टंडन रविवार देर शाम राज भवन में नैक ग्रेडिंग कार्यशाला के समापन सत्र को संबोधित कर रहे थे। नैक अध्यक्ष प्रोफेसर बी.एस. चौहान भी मौजूद थे।

श्री लालजी टंडन ने कहा कि कुलपति नई शिक्षा व्यवस्था के निर्माता हैं। उन्होंने कहा कि कर्त्तव्यों का पालन अधिकारिता के साथ किया जाये। शोध और रोजगारपरक शिक्षा का उदाहरण प्रस्तुत करें। शैक्षणिक गुणवत्ता, विद्यार्थियों की उपस्थिति, पुस्तकालय और प्रयोगशालाओं की व्यवस्था को बेहतर बनाया जाये। मूलभूत सुविधाओं की उपलब्धता पर फोकस करें। विश्वविद्यालयीन कार्यों को डिजिटल और ऑनलाइन करें। इससे व्यवस्था पारदर्शी बनेगी। कार्य के प्रति जवाबदारी बढ़ेगी। श्री टंडन ने कहा कि वे स्वयं विश्वविद्यालयों में पहुँचकर व्यवस्थाओं की समीक्षा करेंगे।

राज्यपाल ने कहा कि विश्वविद्यालय जो ज्ञान दे रहे हैं, विद्यार्थियों को उसका व्यवहारिक अनुभव भी अध्ययन काल में मिले। उन्होंने कहा कि पहले शिक्षा की अलग-अलग विचारधाराएँ और वाद होते थे। आज केवल राष्ट्रवाद और यथार्थवाद शिक्षा का आधार है। शिक्षा पद्धति में बदलाव का प्रयास नई शिक्षा नीति है । विश्वविद्यालय अपने बल पर आदर्श व्यवस्था निर्मित करें। उनके सहयोग के लिए यू.जी.सी., रूसा और विश्व बैक की परियोजनाएँ उपलब्ध हैं।

राज्यपाल श्री टंडन ने कहा कि प्रथम चरण में विश्वविद्यालय खास बातों पर ध्यान केन्द्रित करें। स्वयं को आत्म-निर्भर बनाएँ। जल का संरक्षण करें। वर्षा ऋतु के पानी के संरक्षण के लिए वॉटर हार्वेस्टिंग कराएँ। श्री टंडन ने कहा कि आज प्रदेश और देश के सामने किसानों की आय दोगुना करने की बड़ी चुनौती है। विश्वविद्यालयों को इसके समाधान के लिये जीरो बजट खेती को गाँवों में लागू करके दिखाना होगा। छात्रों के माध्यम से ग्रामीणों को बिना लागत की खेती के लिए प्रेरित किया जाये।

श्री लालजी टंडन ने कहा कि विश्वविद्यालयों की समस्याओं के निराकरण पर विचार करने के बाद रिक्त पदों की पूर्ति करने का फैसला हो गया है। श्री टंडन ने कहा कि चयन प्रक्रिया पारदर्शी और योग्यता आधारित होगी। श्री टंडन ने कहा कि चयन समिति में नैक का प्रतिनिधि अनिवार्य रूप से होना चाहिए।


अजय वर्मा 
Post a Comment

राज्यपाल के मुख्य आतिथ्य में आचार्य डॉ. लोकेश मुनि का व्याख्यान 21 जनवरी को
प्रदेश की नीतियों में सुधार के निर्णयों से अवगत होंगे निवेश-मित्र उद्योगपति
मुख्यमंत्री शीर्ष उद्योगपतियों से वन-टू-वन और उद्योगपतियों से सीधा संवाद करेंगे
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ गणतंत्र दिवस पर इन्दौर में करेंगे ध्वजारोहण
मंत्री श्री शर्मा द्वारा लिंक रोड-2 के नवीनीकरण कार्य का शुभारंभ
स्व. अमर सिंह राठौर स्मृति 39वीं अखिल भारतीय वॉलीबॉल प्रतियोगिता
किसानों को कम्बाइन हॉर्वेस्टर पर भी मिलेगा अनुदान
मंत्री श्री सज्जन सिंह वर्मा ने की "नमस्ते ओरछा महोत्सव की तैयारियों की समीक्षा
बुजुर्ग, दिव्यांग तथा बीमार उपभोक्ताओं के लिये राशन की दुकानों पर होगी विशेष व्यवस्था
मंत्री श्री पटवारी का दौरा कार्यक्रम
राष्ट्रीय बालिका दिवस की थीम होगी "जागरुक बालिका-समर्थ मध्यप्रदेश"
मंत्री श्री हर्ष यादव ने अस्पताल पहुँचकर धनप्रसाद के इलाज की जानकारी ली
शाजापुर, आगर-मालवा, नीमच जिला क्लस्टर में प्रदेश का सबसे बड़ा सोलर पार्क
हज यात्रियों को 15 फरवरी तक भरनी होगी पहली किश्त
राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा के लिये पिछड़ा एवं अल्पसख्यक वर्ग को नि:शुल्क कोचिंग
खिलाड़ियों को एकता के सूत्र में बांधती है खेल भावना: मंत्री श्री वर्मा
1