आज के समाचार

पिछला पृष्ठ

नवजात बच्चों की नेत्र ज्योति के साथ जिंदगी भी होगी रौशन

हमीदिया अस्पताल में शुरू हुए लेजर ट्रीटमेंट से बच्चों को मिलेगी अंधत्व की समस्या से मुक्ति 

भोपाल : सोमवार, फरवरी 11, 2019, 17:16 IST

भोपाल के शासकीय हमीदिया अस्पताल में नवजात शिशुओं को अंधत्व से बचाने के लिये रेटिनोपैथी ऑफ प्री-मेच्योरिटी नेत्र जाँच और लेजर ट्रीटमेंट शुरू किया गया है। अब तक दो हजार से अधिक नवजात शिशु इसका लाभ उठा चुके हैं। गाँधी चिकित्सा महाविद्यालय द्वारा हमीदिया अस्पताल में इसके लिये मंगलवार, गुरूवार और शनिवार को प्रात: 9 बजे से अपरान्ह 3 बजे तक ओपीडी संचालित की जा रही है, परन्तु भोपाल के बाहर से आने वाले बच्चों की रोज जाँच की जा रही है। ओपीडी में भोपाल और आसपास के गाँव-शहरों के रेटिनोपैथी ऑफ प्री-मेच्योरिटी (आर.ओ.पी.) शिशु जाँच और उपचार के लिये आ रहे हैं। अक्सर देखा गया है कि समय से पूर्व जन्म लेने वाले बच्चों के आँख के पर्दे (रेटिना) पर आवांछित नसों का जाल विकसित हो जाता है। ये बच्चे को हमेशा के लिये अंधा बना देता है। लेजर से आवांछित नसों के विकास को खत्म कर दिया जाता है।

विभागाध्यक्ष डॉ. कविता कुमार ने बताया कि रेटिनोपैथी ऑफ प्री-मेच्योरिटी अक्सर समय से पूर्व जन्म लेने वाले बच्चों में पायी जाती है। जिन बच्चों का वजन 1500 ग्राम से कम है, गर्भावस्था 32 हफ्ते या उससे कम है अथवा बच्चे को जन्म के बाद अधिक मात्रा में आक्सीजन की आवश्यकता पड़ी हो, आर.ओ.पी. का शिकार होते हैं। आर.ओ.पी. पीड़ित बच्चे अंधत्व, भेंगापन, रेटीना डिटेचमेंट, ग्लूकोमा और निकट दृष्टिदोष का शिकार होते हैं। इससे उनकी जिंदगी ही दुखभरी और संघर्षमय हो जाती है। अब जन्म लेने के बाद ही शिशु की आँख का परीक्षण किया जाता है। डॉ. कविता कुमार ने कहा कि कई बार जन्म लेने के कुछ हफ्ते तक नेत्र दोष पकड़ में नहीं आता। इसलिये समय से पूर्व जन्म लेने वाले बच्चों का नेत्र परीक्षण जन्‍म के चौथे से छठे हफ्ते के बीच अवश्य करवाना चाहिये। पहले कुछ हफ्ते बच्चे की आँख की निगरानी की जाती है। यदि दवा या प्राकृतिक रूप से यह दोष नियंत्रित हो जाता है, तो लेजर ट्रीटमेंट नहीं दिया जाता है। डॉ. कुमार ने कहा कि रोज 20-25 नवजात शिशुओं का नेत्र परीक्षण होता है, जिनमें चार-पाँच शिशु में उपचार की आवश्यकता होती है।

गाँधी चिकित्सा महाविद्यालय की अधिष्ठाता डॉ. अरुणा कुमार द्वारा अस्पताल में जन्म लेने वाले बच्चों की आँखों का तुरंत परीक्षण करने के जारी निर्देश के तहत शासकीय अस्पताल में जन्म लेने वाले बच्चों का नेत्र विशेषज्ञ द्वारा नेत्र परीक्षण किया जाता है। जो बच्चे आर.ओ.पी. ग्रसित पाये जाते हैं, उनका उचित उपचार किया जाता है और आवश्यक होने पर लेजर ट्रीटमेंट दिया जाता है। गाँधी चिकित्सा महाविद्यालय ने नेत्र विभाग के चिकित्सकों को आर.ओ.पी. पीड़ित बच्चों की जाँच और उपचार के लिये प्रशिक्षण देने के साथ सभी आवश्यक उपकरण भी प्रदान किये हैं। लेजर, वीडियो इनडायरेक्ट ऑप्थलमोस्कोप, इनडायरेक्ट ऑप्थलमोस्कोप आदि राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत प्रदाय किये गये हैं।

मुंगावली की किरण, विदिशा की गायत्री, राजगढ़ जिले की शिवानी, होशंगबाद जिले के ग्राम नीमसरिया की निर्मला अपने 14 दिन से 27 दिन के शिशुओं के साथ चेकअप कराने आई हैं। भोपाल में कोलार की एक माता अपने शिशु को पाँचवी बार नेत्र जाँच के लिये लाई है। उसका कहना है कि मेरे बेटे का जन्म 7 माह में ही हो गया था, परन्तु डाक्टरों के सहयोग से अब यह सामान्य विकास की ओर है।


सुनीता दुबे
Post a Comment

प्रो. आशा शुक्ला को महर्षि वैदिक विश्वविद्यालय के कुलपति का अतिरिक्त दायित्व
मिथिला संस्कृति का है गौरवशाली इतिहास : मंत्री श्री शर्मा
धर्मस्व मंत्री श्री शर्मा के मुख्य आतिथ्य में होगा नर्मदा जयंती महोत्सव
वचन-पत्र के वादों को पूरा कर रही प्रदेश सरकार - मंत्री श्री शर्मा
जनसम्पर्क मंत्री द्वारा पत्रकार श्री बापना के निधन पर शोक व्यक्त
जनसम्पर्क मंत्री द्वारा श्री विजयवर्गीय के निधन पर दु:ख जताया
गृह मंत्री श्री बच्चन ने किया शोक व्यक्त
प्रदेश की बेटियों का दल बाघा बार्डर के लिये रवाना
नगरीय निकायों की सीमा वृद्धि, वार्डों के निर्धारण और आरक्षण के लिये समय-सीमा निर्धारित
मंत्री श्री सज्जन सिंह वर्मा के निवास के टेलीफोन नम्बर
मनरेगा के लम्बित 1127 करोड़ शीघ्र जारी करे केन्द्र सरकार
संस्कृति मंत्री डॉ. साधौ करेंगी नदी महोत्सव का शुभारंभ
राष्ट्रीय संसदीय संगोष्ठी मंगलवार को
डॉ. विजयलक्ष्मी साधौ का दौरा कार्यक्रम
मछुआ प्रशिक्षण मानदेय होगा दोगुना : मंत्री श्री यादव
स्कूली यूनिफॉर्म बनाने वाली ग्रामीण महिलाएँ बनी बच्चों की दीदी
गाँव-गाँव में बेटी बचाने का संदेश दे रहे हैं कलाकार
नवजात बच्चों की नेत्र ज्योति के साथ जिंदगी भी होगी रौशन
मंत्री श्री आरिफ अकील ने श्री विजयवर्गीय के निधन पर किया शोक व्यक्त
मंत्री श्री आरिफ अकील ने श्री शर्मा के निधन पर किया शोक व्यक्त
माण्डू उत्सव को भव्य स्वरूप दिया जायेगा : पर्यटन मंत्री श्री बघेल
ऊर्जा विभाग के आउटसोर्स और संविदा कर्मचारियों की माँग पर जल्द होगा निर्णय
मंत्रीद्वय द्वारा श्री विजयवर्गीय के निधन पर दु:ख व्यक्त
उच्च-स्तरीय परिचालन समिति गठित
शिक्षक-कर्मचारी संगठन के अभ्यावेदनों पर निर्णय लेने के लिये समिति गठित
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ द्वारा पत्रकार श्री बाफना के मृत्यु पर गहरा शोक व्यक्त
मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ द्वारा श्री परमानंद विजयवर्गीय के निधन पर दुख व्यक्त  
मुख्यमंत्री श्री नाथ द्वारा श्री सोमेश दयाल शर्मा के निधन पर शोक व्यक्त
रेरा अध्यक्ष श्री डिसा से विश्व प्रकृति निधि (भारत) के सीईओ जनरल श्री रवि सिंह से भेंट
दीनदयाल अंत्योदय रसोई योजना
ऋण माफी योजना में लापरवाही कतई बर्दाश्त नहीं
1