आज के समाचार

पिछला पृष्ठ

मध्यप्रदेश में लोकसभा चुनाव का तीसरा और अंतिम चरण 24 अप्रैल को

एक करोड़ 69 लाख मतदाता डालेंगे वोट
35 निर्दलीय सहित 118 उम्मीदवार चुनाव मैदान में
सबसे अधिक 22 इंदौर और सबसे कम 7 उम्मीदवार धार में
चुनाव वाले 20 जिलों में सुरक्षा की चॉक-चौबंद व्यवस्था
 

भोपाल : बुधवार, अप्रैल 23, 2014, 18:45 IST

मध्यप्रदेश में 16 वीं लोकसभा के लिये होने जा रहे चुनाव का तीसरा और अंतिम चरण 24 अप्रैल को संपन्न होगा। तीसरे चरण में 10 संसदीय क्षेत्र विदिशा, देवास (अजा), उज्जैन (अजा), मन्दसौर, रतलाम (अजजा), धार (अजजा), इन्दौर, खरगौन (अजजा), खण्डवा और बैतूल (अजजा), में एक करोड़ 69 लाख 53 हजार 358 मतदाता अपने मताधिकार का उपयोग करेंगे। इनमें पुरूष मतदाताओं की संख्या 87 लाख 81 हजार 495, महिला मतदाताओं की संख्या 81 लाख 71 हजार 532, अन्य मतदाताओं की संख्या 349 है। इसके अलावा 5 हजार 230 सर्विस वोटर भी हैं। दस संसदीय क्षेत्र के मतदाताओं में युवाओं की संख्या 58 लाख 37 हजार है। इन संसदीय क्षेत्र के 96.80 प्रतिशत मतदाताओं को फोटोयुक्त मतदाता पर्ची वितरित की जा चुकी है।

मतदाता

संसदीय क्षेत्र

पुरूष

महिला

अन्य

कुल मतदाता

विदिशा

872107

761836

22

1633965

देवास (अजा)

842571

773317

23

1615911

उज्जैन (अजा)

790717

734540

35

1525292

मंदसौर

837288

788294

32

1625614

रतलाम (अजजा)

860810

841624

25

1702459

धार (अजजा)

857169

809869

39

1667077

इन्दौर

1105608

1008411

73

2114092

खरगोन (अजजा)

866793

836322

22

1703137

खण्डवा

912456

846552

43

1759051

बैतूल (अजजा)

835976

770749

35

1606760

कुल

8781495

8171514

349

16953358

लोकसभा निर्वाचन 2009 में भी इन दस संसदीय क्षेत्र में 118 उम्मीदवार ने चुनाव लड़ा था। इस बार भी इन दस संसदीय क्षेत्र में 118 उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे हैं। इनमें से सबसे अधिक 22 इन्दौर और सबसे कम 7 उम्मीदवार धार में चुनाव मैदान में उतरे हैं। इनमें 17 महिला उम्मीदवार भी चुनाव लड़ रही हैं। सभी क्षेत्रों में सुरक्षा की चॉक-चौबंद व्यवस्था की गई है। संसदीय क्षेत्रों के जिलों को अन्य जिलों और राज्यों को जोड़ने वाली सीमाएँ सील कर दी गई हैं। सीएपीएफ (सेन्ट्रल आर्म्स पुलिस फोर्स) की 103 कम्पनी, एसएएफ की 50 कम्पनी के अलावा अन्य पुलिस बल भी तैनात रहेगा। संसदीय क्षेत्रों में 19 हजार 446 मतदान केन्द्रों में मतदान करवाने के लिये एक लाख 6 हजार 278 मतदानकर्मी तैनात किये गये हैं, जिनमें पुलिसकर्मी भी शामिल हैं।

तीसरे चरण के 10 संसदीय क्षेत्रों में मतदाताओं की संख्या वाला सबसे बड़ा संसदीय क्षेत्र इन्दौर है, जहाँ वोटर की संख्या 21 लाख 14 हजार 92 है। उज्जैन कम मतदाताओं की संख्या वाला क्षेत्र है जहाँ 15 लाख 25 हजार 292 वोटर हैं।

10 संसदीय क्षेत्रों में विदिशा में 16 लाख 33 हजार 965 मतदाताओं में 8 लाख 72 हजार 107 पुरूष, 7 लाख 61 हजार 836 महिला और 22 अन्य मतदाता शामिल हैं। देवास में 16 लाख 15 हजार 911 मतदाताओं में 8 लाख 42 हजार 571 पुरूष, 7 लाख 73 हजार 317 महिला एवं 23 अन्य मतदाता हैं। उज्जैन में 15 लाख 25 हजार 292 मतदाताओं में से 7 लाख 90 हजार 717 पुरूष, 7 लाख 34 हजार 540 महिला एवं 35 अन्य मतदाता वोट डालेंगे। मंदसौर में 16 लाख 25 हजार 614 मतदाताओं में से 8 लाख 37 हजार 288 पुरूष, 7 लाख 88 हजार 294 महिला एवं 32 अन्य शामिल हैं। रतलाम में 17 लाख 2 हजार 459 वोटर में से 8 लाख 60 हजार 810 पुरूष एवं 8 लाख 41 हजार 624 महिला एवं 25 अन्य सम्मिलित हैं। धार 16 लाख 67 हजार 77 मतदाताओं में 8 लाख 57 हजार 169 पुरूष, 8 लाख 9 हजार 869 महिला व 39 अन्य वोटर मताधिकार का उपयोग करेंगे।

इन्दौर में 21 लाख 14 हजार 92 में से 11 लाख 5 हजार 608 पुरूष, 10 लाख 8 हजार 411 महिला एवं 73 अन्य मतदाता वोट डालेंगे। खरगोन में 17 लाख 3 हजार 137 मतदाताओं में से पुरूष 8 लाख 66 हजार 793, महिला 8 लाख 36 हजार 322 एवं 22 अन्य मतदाता मताधिकार का उपयोग करेंगे। खण्डवा संसदीय क्षेत्र में 17 लाख 59 हजार 51 मतदाताओं में से 9 लाख 12 हजार 456 पुरूष, 8 लाख 46 हजार 552 महिला एवं 43 अन्य मतदाता मतदान करेंगे। बैतूल में 16 लाख 6 हजार 760 मतदाताओं में शामिल 8 लाख 35 हजार 976 पुरूष, 7 लाख 70 हजार 749 महिला एवं 35 अन्य मतदाता भी वोट डालेंगे।

उम्मीदवार

संसदीय क्षेत्र

2009

2014

विदिशा

8

12

देवास (अजा)

10

11

उज्जैन (अजा)

9

12

मंदसौर

12

14

रतलाम (अजजा)

10

10

धार (अजजा)

11

7

इन्दौर

18

22

खरगोन (अजजा)

11

8

खण्डवा

13

14

बैतूल (अजजा)

16

8

कुल

118

118

प्रत्याशी

मध्यप्रदेश में तीसरे चरण के 10 संसदीय क्षेत्र में 24 अप्रैल को होने वाले लोकसभा निर्वाचन के लिये 118 उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे हैं। इंदौर संसदीय क्षेत्र में सबसे अधिक 22 तथा सबसे कम 7 उम्मीदवार धार से चुनाव मैदान में उतरे हैं। अन्य संसदीय क्षेत्र विदिशा और उज्जैन में 12-12, देवास में 11, मंदसौर और खण्डवा में 14-14, रतलाम में 10, खरगोन और बैतूल में 8-8 उम्मीदवार शामिल हैं। दस संसदीय क्षेत्र में देवास और उज्जैन अनुसूचित जाति और रतलाम, धार, खरगोन एवं बैतूल अनुसूचित जनजाति वर्ग के लिये आरक्षित संसदीय क्षेत्र हैं।

राजनैतिक दल

तीसरे चरण के निर्वाचन में राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त 6 राजनैतिक दलों के 32 उम्मीदवार के अलावा 20 अन्य रजिस्टर्ड राजनैतिक दल के 51 उम्मीदवार भी चुनाव लड़ रहे हैं। इसके अतिरिक्त 35 निर्दलीय उम्मीदवार भी अपना भाग्य आजमायेंगे। तीसरे चरण में भारतीय जनता पार्टी, बहुजन समाज पार्टी और इण्डियन नेशनल कांग्रेस के 10-10, कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इण्डिया एवं कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इण्डिया (मार्क्सवादी-लेनिनिस्ट) का एक-एक उम्मीदवार चुनाव लड़ रहा है। इंदौर संसदीय क्षेत्र को छोड़कर शेष निर्वाचन क्षेत्र में 15 से कम उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे हैं।

पंजीबद्ध अन्य राजनैतिक दलों में आम आदमी पार्टी के 10, बहुजन मुक्ति पार्टी के 9, प्रजातांत्रिक समाधान पार्टी और समता समाधान पार्टी के 4-4, बहुजन संघर्ष दल, गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के 3-3, ऑल इण्डिया फारवर्ड ब्लॉक, जय महा भारत पार्टी, समाजवादी पार्टी और समता पार्टी के 2-2 तथा आदिजन मुक्तिसेना, अखिल भारत हिन्दू महासभा, अखिल भारतीय विकास कांग्रेस पार्टी, भारतीय मायनॉरटीज सुरक्षा महासंघ, जनता दल युनाइटेड, मायनॉरटीज डेमोक्रेटिक पार्टी, राष्ट्रीय अहिंसा मंच, रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इण्डिया, समाजवादी जन परिषद और शिवसेना का एक-एक प्रत्याशी लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से उम्मीदवार है।

राजनैतिक दल और उम्मीदवार

भाजपा

10

बसपा

10

इनेकां

10

सीपीआई

1

सीपीआई (एम)

1

एनसीपी

0

पंजीबद्ध राजनैतिक दल

51

निर्दलीय

35

कुल

118

स्वतंत्र उम्मीदवार

तीसरे चरण में चुनाव लड़ रहे 35 निर्दलीय उम्मीदवारों में सबसे अधिक 12 इंदौर में और धार ऐसा संसदीय क्षेत्र है, जहाँ एक भी निर्दलीय उम्मीदवार चुनाव नहीं लड़ रहा है। इसके अलावा देवास और उज्जैन में 3-3, मंदसौर में 6, विदिशा, खरगोन और रतलाम में 2-2, खण्डवा में 4 और बैतूल में एक उम्मीदवार चुनाव मैदान में उतरा हैं।

सुरक्षा के इंतजाम

दस संसदीय क्षेत्र में कड़ी सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गये हैं। रतलाम, खरगौन, उज्जैन और इन्दौर सहित अन्य क्षेत्र में सीएपीएफ (सेन्ट्रल आर्म्स पुलिस फोर्स) की 103 कम्पनी तैनात की गई है। इसके अलावा एसएएफ की 50 कम्पनी भी इन क्षेत्रों में सुरक्षा का मोर्चा संभालेंगी। लगभग 2440 पुलिस अधिकारी, 16 हजार 289 प्रधान आरक्षक/आरक्षक, 10 हजार 730 होमगार्ड के जवान तथा 19 हजार 447 विशेष पुलिस अधिकारी (एसपीओ) सुरक्षा की चॉक-चौबंद व्यवस्था रखेंगे। अंतर्राज्यीय सीमाओं वाले जिले में भी कड़ी चौकसी की व्यवस्था की गई है। संसदीय क्षेत्रों से जोड़ने वाली सीमाओं पर नाकेबंदी की गई है। बिना तलाशी के वाहनों को वहाँ से गुजरने नहीं दिया जा रहा है। वल्नरेबल मेपिंग के तहत 564 मजरे-टोलों की पहचान कर 10 हजार 998 मतदाताओं को चिन्हांकित किया गया है। इन क्षेत्रों में 71 हजार 801 लायसेंसी शस्त्रों को जमा कराया गया है। सीआरपीसी की धारा 107 के तहत 43 हजार 196 व्यक्तियों को बाउण्ड ओवर किया गया है। मतदान के दिन भी 249 फ्लाइंग स्कवाड और 245 एसएसटी, 240 क्यूआरटी (क्विक रिस्पांस टीम), 240 नाका (103 अंतर्राज्यीय एवं 137 अंतर-जिला) तथा 1734 सेक्टर पुलिस मोबाइल तैनात हैं।

वेब-कास्टिंग

मतदान के दिन 19 हजार 446 मतदान केन्द्रों में से क्रिटिकल श्रेणी के 416 मतदान केन्द्रों में वेबकास्टिंग करवाई जा रही है। इन केन्द्रों में वेब कैमरे द्वारा प्रत्येक गतिविधि पर नजर रखी जा रही है। वेब-कास्टिंग वाले मतदान केन्द्रों की गतिविधियों को मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी मध्यप्रदेश की वेबसाइट www.ceomadhyapradesh.nic.in पर भी देखा जा सकेगा। दस संसदीय क्षेत्र के अंतर्गत शामिल 20 जिलों में क्रिटिकल मतदान केन्द्रों की संख्या 2 हजार 901 है। इन मतदान केन्द्रों में कड़ी सुरक्षा की दृष्टि से सीएपीएफ (सेन्ट्रल आर्म्स पुलिस फोर्स) का अमला तैनात किया गया है। क्रिटिकल मतदान केन्द्रों में सुरक्षा के मद्देनजर 2 हजार 601 माइक्रो आब्जर्वर, 484 स्टिल कैमरा और एक हजार 584 वीडियोग्राफी की व्यवस्था भी की गई है। इस प्रकार कुल मिलाकर 2 हजार 901 क्रिटिकल मतदान केन्द्र माइक्रो आब्जर्वर, स्टिल कैमरा, वीडियोग्राफी दल और वेबकास्टिंग के दायरे में रहेंगे।

मतदान दल

मतदान सम्पन्न कराने के लिये नियुक्त एक लाख 14 हजार 573 मतदानकर्मियों में 91 हजार 142 शासकीय कर्मचारी, 17 हजार 649 पुलिसकर्मी, 5 हजार 782 ड्रायवर-कंडक्टर तैनात किये गये हैं। इसके अलावा 14 सामान्य प्रेक्षक, 10 निर्वाचन व्यय प्रेक्षक, 80 सहायक निर्वाचन व्यय प्रेक्षक, 2601 माइक्रो आब्जर्वर भी तैनात किये गये हैं।

मतदान केन्द्र

दस संसदीय क्षेत्र में 19 हजार 446 मतदान केन्द्र स्थापित किये गये हैं। इसमें 378 सहायक मतदान केन्द्र भी सम्मिलित हैं। सर्वाधिक 2206 मतदान केन्द्र इन्दौर संसदीय क्षेत्र में और सबसे कम 1722 धार में हैं। इसके अलावा विदिशा में 1973, देवास में 1917, उज्जैन में 1823, मन्दसौर में 1898, रतलाम में 1983, खरगौन में 1877, खण्डवा में 1965 और बैतूल में 2081 मतदान केन्द्र स्थापित किये गये हैं। तृतीय चरण में कुल 23 हजार 854 बैलेट यूनिट (ईवीएम) और 21 हजार 424 कंट्रोल यूनिट (सीयू) उपयोग में लाई जा रही हैं।


प्रलय श्रीवासतव
मतदाताओं को लुभाने की फोटो, वीडियो, ऑडियो अब सीधे अपलोड होगी
तीसरे चरण में 416 मतदान केन्द्र पर होगी वेब-कास्टिंग
मतदान प्रतिशत जानने के लिये सीईओ की वेबसाइट पर लिंक उपलब्ध
मध्यप्रदेश में लोकसभा चुनाव का तीसरा और अंतिम चरण 24 अप्रैल को
लोकसभा चुनाव के साथ विदिशा विधानसभा उपचुनाव भी 24 अप्रैल को
मतदाताओं को वैकल्पिक दस्तावेज प्रस्तुत करने की सुविधा
सिविल न्यायाधीश वर्ग- दो के परीक्षा परिणाम घोषित
प्रशासकीय अधिकारी अब ऑनलाइन भर सकेंगे सी.आर.
राजनैतिक दलों की 68 प्रतिशत से अधिक शिकायतों का निराकरण
बैतूल संसदीय क्षेत्र में डॉ. महेश अखाड़े व्यय प्रेक्षक
तीसरे चरण में एक करोड़ 64 लाख से अधिक मतदाता को वोटर स्लिप का वितरण
सीईओ कार्यालय में तीसरे चरण के मतदान की प्रेस ब्रीफिंग
1