आज के समाचार

पिछला पृष्ठ

पहले और दूसरे चरण में शहरी क्षेत्र में मतदान प्रतिशत बढ़ा

छत्तीस जिला मुख्यालय के मतदान प्रतिशत में उल्लेखनीय वृद्धि 

भोपाल : शनिवार, अप्रैल 19, 2014, 20:10 IST
 

मध्यप्रदेश में तीन में से दो चरण के 19 संसदीय क्षेत्र में विगत 10 एवं 17 अप्रैल को हुए मतदान में विगत लोकसभा चुनाव-2009 की तुलना में मतदान के प्रतिशत में अपेक्षित वृद्धि दर्ज हुई है। पहले चरण के 17 और दूसरे के 19 जिलों के शहरी क्षेत्रों में मतदान का प्रतिशत बढ़ा है। मतदान के प्रतिशत में यह बढ़ोत्तरी वर्ष 2009 की तुलना में अधिक परिलक्षित हुई है।

पहले चरण के शहरी क्षेत्र सतना में वर्ष 2009 में मतदान प्रतिशत 51.14 था, जो वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में बढ़कर 57.26 हो गया। रीवा में मतदान प्रतिशत वर्ष 2009 के 48.45 की अपेक्षा 54.22 प्रतिशत हो गया है। सीधी में 42.89 की तुलना में यह बढ़कर 57.62 हो गया है। अनूपपुर में 46.06 की तुलना में 60.08 प्रतिशत, जबलपुर ईस्ट में 38.52 से 54.97, जबलपुर नार्थ में 44.82 से 61.49, जबलपुर केन्ट में 46.84 से 58.37, जबलपुर वेस्ट में 39.74 से 56.62, मण्डला में 56.54 से 66.04, बालाघाट में 58.27 से 61.81, सिवनी में 45.00 से 65.13, छिन्दवाड़ा में 69.21 से 77.46, नरसिंहपुर में 58.24 से 66.61 और होशंगाबाद में 46.68 से बढ़कर 63.76 प्रतिशत हो गया है।

दूसरे चरण में

17 अप्रैल को 10 संसदीय क्षेत्र में हुए मतदान में भी शहरी क्षेत्रों के मतदान प्रतिशत में 2009 के लोकसभा चुनाव की अपेक्षा उल्लेखनीय वृद्धि दर्ज हुई है। मुरैना में 46.66 की अपेक्षा 47.26, भिण्ड में 33.4 की तुलना में 45.45, ग्वालियर में 37.1 की अपेक्षा 53.1, ग्वालियर ईस्ट 37.84 से बढ़कर 51.43, ग्वालियर साउथ में 41.5 से बढ़कर 54.32, गुना में 52.98 से 61.47, अशोकनगर में 58.42 से 63.76, सागर में 40.83 से 52.12, टीकमगढ़ में 47.5 से 54.68, छतरपुर में 37.86 से 54.14, दमोह में 47.5 से 57.22, पन्ना में 44.01 से 53.81, भोपाल उत्तर में 44.00 से 56.33, भोपाल दक्षिण-पश्चिम में 47.31 से 56.98, भोपाल मध्य में 45.19 से 53.48, गोविन्दपुरा में 42.7 से 59.00, सीहोर में 46.26 से 66.69, राजगढ़ में 53.89 से 67.17 प्रतिशत वृद्धि मतदान में दर्ज की गई है। इस प्रकार शहरी क्षेत्र में मतदान के प्रति लोगों में न केवल रूचि बढ़ी बल्कि उन्होंने बड़ी संख्या में अपने मताधिकार का उपयोग भी किया।


प्रलय श्रीवासतव