दिनांक
विभाग

प्रदेश में इस वर्ष जनजाति वर्ग के 5351 हितग्राहियों को स्वरोजगार के लिये ऋण देने का कार्यक्रम

विशेष पिछड़ी जनजाति के लिये 5 कौशल विकास केन्द्रों की स्थापना

भोपाल : शनिवार, नवम्बर 28, 2020, 14:23 IST

प्रदेश में जनजाति वर्ग के हितग्राहियों को स्वयं का रोजगार स्थापित करने के लिये मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना, मुख्यमंत्री आर्थिक कल्याण योजना, मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना संचालित की जा रही है। इस वर्ष इन योजनाओं में 5351 हितग्राहियों को स्वरोजगार के लिये ऋण दिलाने का कार्यक्रम तैयार किया गया है। पिछले वर्ष इन योजनाओं में 3747 प्रकरणों में करीब 92 करोड़ रुपये उपलब्ध कराया गया था।

जनजाति वर्ग के युवाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिये प्रदेश में मुख्यमंत्री कौशल संवर्धन एवं मुख्यमंत्री कौशल्या संवर्धन योजना संचालित की जा रही है। इसके अन्तर्गत पिछले वर्ष 5 हजार अनुसूचित जनजाति वर्ग के युवाओं को रोजगारोन्मुखी प्रशिक्षण प्रदान किया गया। युवाओं के प्रशिक्षण पर 20 लाख रूपये की राशि व्यय की गई। आदिम जाति कल्याण विभाग के संस्थान मध्यप्रदेश रोजगार एवं प्रशिक्षण संस्थान मैपसेट द्वारा जनजाति वर्ग के शिक्षित बेरोजगार युवाओं के लिये विभिन्न तकनीकी एवं व्यावसायिक क्षेत्रों में स्वरोजगार के अवसर बढ़ाने के उद्देश्य से 15 हजार से अधिक युवाओं को विभिन्न ट्रेडों में प्रशिक्षण दिलाया गया। प्रशिक्षण लेने वाले युवाओं के प्लेसमेंट की कार्यवाही निरन्तर की जा रही है।

5 कौशल विकास केन्द्रों की स्थापना

प्रदेश की विशेष पिछड़ी जनजाति बैगा, भारिया एवं सहरिया के युवाओं में कम्प्यूटर कौशल विकसित करने के लिये 5 कौशल विकास केन्द्रों की स्थापना मंडला, डिंडौरी, छिंदवाडा, शहडोल एवं शिवपुरी में की जा रही है। प्रति केन्द्र की क्षमता 100 विद्यार्थियों की होगी। इन केन्द्रों की स्थापना पर 30 करोड़ रूपये की राशि खर्च की जा रही है।

मुकेश मोदी

जनजाति वर्ग के विद्यार्थियों की बोर्ड परीक्षा शुल्क की प्रतिपूर्ति के लिये 3.60 करोड़ रुपये का प्रावधान
पिछले वर्ष 742 दम्पत्तियों को मिला प्रोत्साहन पुरस्कार योजना का फायदा
प्रदेश में पिछले वर्ष अनुसूचित जाति वर्ग के 40 छात्रों को मिला विदेश में उच्च शिक्षा अध्ययन का मौका
अनुसूचित जाति एवं जनजाति पीड़ितों को राहत जल्द मिले
मंत्रीगण ने विधायक श्री दांगी के निधन पर किया शोक व्यक्त
प्रदेश में इस वर्ष 70 हजार आदिवासी विद्यार्थियों को दी जाएगी आवासीय सहायता
प्रधानमंत्री सड़क योजना से ग्रामीण क्षेत्र में आवागमन हुआ सरल एवं सुगम
प्रदेश में वनाधिकार दावों का निराकरण 15 सितम्बर के पूर्व हो
प्रदेश के दस संभागीय मुख्यालयों पर ज्ञानोदय आवासीय विद्यालयों का संचालन
प्राचीन-काल से आदिवासियों को जंगल और वन्य-प्राणियों से गहरा लगाव रहा है
सभी पात्र आदिवासी हितग्राहियों को वनाधिकार पट्टा दिया जाये
डिजीलेप से शिक्षक प्रत्येक विद्यार्थी से जीवन्त जुड़कर करेंगे अध्यापन
1