social media accounts
दिनांक
विभाग
भोपाल : शनिवार, जुलाई 7, 2018, 17:43 IST

शासकीय होम्योपैथिक चिकित्सा महाविद्यालय में जरा रोग इकाई का संचालन

सप्ताह में 4 दिन रोग निदान शिविर
सर्वसुविधायुक्त चिकित्सालय से सैकड़ों हो रहे हैं लाभांवित

 

शासकीय होम्योपैथिक चिकित्सा महाविद्यालय आयुष परिसर में विगत 2 वर्ष से जरा रोग इकाई का संचालन किया जा रहा है। जरा रोग इकाई की अस्पताल में 3 ओपीडी हैं। अस्पताल परिधि में दो अन्य ओपीडी अम्बेडकर नगर और गौतम नगर में भी संचालित हो रही है।

जरा रोग इकाई का उद्देश्य 55 वर्ष आयु से अधिक आयु वर्ग के महिला और पुरुष का शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य परीक्षण कर चिकित्सकीय परामर्श देना है। साथ ही, वृद्धजन की शारीरिक और मानसिक अस्थिरता को समझ कर उसका निवारण करने के साथ उन्हें उत्तम जीवन शैली की ओर अग्रसर करना है।

जरा रोग की प्रत्येक ओपीडी में परामर्श के लिये योग्य चिकित्सकों की उपलब्धता निर्धारित है। अस्पताल प्रांगण में सम्पूर्ण स्वास्थ्य परीक्षण के लिये उत्कृष्ट पैथोलॉजी लैब है। फिजियोथेरेपी यूनिट का संचालन चिकित्सालय में गत 5 वर्षों से किया जा रहा है। नैचुरोपैथी प्राकृतिक चिकित्सा इकाई चिकित्सालय में स्थापित है। इसमें रोगानुसार योग और अन्य प्रकार की प्राकृतिक चिकित्सा करवाई जाती है। मानसिक रोग के लिये काउंसिंलिग की सुविधा समय-समय पर काउंसलर द्वारा उपलब्ध करवाई जाती है। मरीजों के भर्ती होने की दशा में आई.पी.डी. की सर्व-सुविधायुक्त व्यवस्था उपलब्ध है।

सप्ताह में चार दिन रोग निदान शिविर

अस्पताल में प्रत्येक सोमवार को मधुमेह शिविर, बुधवार को रक्तचाप शिविर, शुक्रवार को मानसिक रोग-अनिन्द्रा, अवसाद एवं डिमेंशिया के लिये शिविर और शनिवार को जोड़ों संबंधी रोग के लिये शिविर हर सप्ताह लगाया जाता है। शिविरों में निर्धारित आयु वर्ग के मरीजों की जाँच, नि:शुल्क दवाइयाँ, भोजन संबंधी परामर्श विशेषज्ञों द्वारा दिया जा रहा है। जनवरी से संचालित इन शिविरों से सैकड़ों मरीजों को लाभ प्राप्त हुआ है।

नि:शुल्क भर्ती और जाँच सुविधा

प्रत्येक सोमवार को सुबह 9 से 2 बजे तक मरीज को नि:शुल्क भर्ती कर जाँच की नि:शुल्क सुविधा उपलब्ध है। अस्पताल में मानसिक रोग, नींद नहीं आना, उलझन, बैचेनी, पढ़ाई में मन नहीं लगना, गुर्दा रोग, थायराइड, शुगर, पथरी, पेट की बीमारियाँ, महिला और पुरुष संबंधी रोग, त्वचा रोग, सायनस, बवासीर और प्रोस्टेट जैसी सभी पुरानी और जटिल बीमारियों का इलाज किया जाता है। अस्पताल में खून, शुगर और ब्लडप्रेशर की जाँच सेवाएँ भी उपलब्ध हैं। अस्पताल में एक्स-रे, योग और फिजियोथेरेपी, अनुभवी चिकित्सकों द्वारा इलाज, नि:शुल्क परामर्श और उपचार एवं औषधि वितरण की सुविधा भी है।

जरा रोग इकाई को मिला केन्द्र का पब्लिक हेल्थ इनीशिएटिव प्रोजेक्ट

महाविद्यालय में स्थित जरा रोग इकाई के कार्यों को देखते हुए भारत सरकार के आयुष मंत्रालय द्वारा महाविद्यालय को पब्लिक हेल्थ इनीशिएटिव में प्रोजेक्ट दिया गया है। इसके अनुसार तहसील हुजूर (भोपाल) में रहने वाले सभी वृद्धजन की हेल्थ स्क्रीनिंग के साथ होम्योपैथिक चिकित्सा पद्धति द्वारा सभी रोगों का उपचार किया जायेगा।

55 वर्ष से ज्यादा के लोगों के लिये अधिक उपयोगी है होम्योपैथी पद्धति

होम्योपैथिक पद्धति जटिल रोगों के उपचार के लिये बहुत सुविधाजनक और कारगर है। होम्योपैथी में दवाई की बहुत सूक्ष्म मात्रा दी जाती है, जो रोग के लक्षणों को बिना किसी दुष्प्रभाव के जड़ से समाप्त कर देती है। इसलिये होम्योपैथी 55 से अधिक उम्र के मरीजों के लिये उपयोगी है और उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने का काम भी करती है। जटिल रोगों के लिये भी यह कारगर साबित हुई है।

दुर्गेश रायकवार

"आयुष्मान भारत" योजना 15 अगस्त से होगी लाँच
प्रदेश में योग स्वास्थ्य केन्द्र योजना का शुभारंभ
राज्यमंत्री श्री जालमसिंह पटेल द्वारा पंजीकृत किसानों के हित में लिए गए निर्णय का स्वागत
राज्य मंत्री श्री जालम सिंह पटेल 4 जून को सोहागपुर जायेंगे
राज्य मंत्री श्री जालम सिंह पटेल 3 जून को जबलपुर जायेंगे
आयुष मंत्री श्री जालम सिंह पटेल का दौरा कार्यक्रम
राज्य मंत्री श्री पटेल का दौरा कार्यक्रम
निरोगी और सुखी जीवन का आधार है आयुर्वेद : मंत्री श्री पटेल
आयुष मंत्री श्री सिंह द्वारा राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त युवा वैज्ञानिक डॉ. जैदी का सम्मान
पं. खुशीलाल शर्मा संस्थान में होंगे 14 आयुर्वेद पीजी पाठयक्रम
प्रदेश के सभी जिलों में योग वेलनेस केन्द्र खोले जायेंगे : केन्द्रीय आयुष राज्य मंत्री श्री नाइक
आयुष राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री हर्ष सिंह ने केन्द्रीय आयुष राज्य मंत्री श्री श्रीपद यशो नाईक से सौजन्य भेंट की
राज्यमंत्री श्री हर्ष सिंह द्वारा कार्यभार ग्रहण
1