दिनांक
विभाग
भोपाल : सोमवार, अगस्त 27, 2018, 18:36 IST

ई-उपार्जन पंजीयन में किसानों को कठिनाई नहीं होना चाहिये

पंजीयन केन्द्र के प्रभारियों को प्रमुख सचिव खाद्य ने दिये निर्देश

ई-उपार्जन सॉफ्टवेयर में किये जा रहे किसानों के पंजीयन पर प्रमुख सचिव खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण श्रीमती नीलम शमी राव ने पंजीयन केन्द्र के प्रभारियों को निर्देश दिये हैं कि प्रक्रिया में किसानों को परेशानी नहीं होना चाहिये। उन्होंने कहा कि टेक्नालॉजी किसानों की सुविधा के लिये है। पंजीयन प्रक्रिया में जहाँ कठिनाई है अथवा प्रक्रिया को ठीक से नहीं समझा जा रहा है, वहाँ के पंजीयन केन्द्र के कर्मचारियों को पुन: मास्टर-ट्रेनर्स के माध्यम से ट्रेनिंग दी जायेगी।

अपेक्स बैंक के सभागार में आज पंजीयन केन्द्र प्रभारियों और डाटा-एन्ट्री ऑपरेटर्स की आयोजित बैठक में प्रमुख सचिव खाद्य द्वारा उक्त निर्देश दिये गये। बैठक में संचालक खाद्य श्री श्रीमन शुक्ला, सीएलआर श्री एम. शेलवेन्द्रन, एम.डी. मार्कफेड श्रीमती स्वाती मीना नायक, एम.डी. अपेक्स बैंक श्री आर.के. शर्मा और प्रदेश के संभाग और जिलों से आये समिति सेवक मौजूद थे।

प्रमुख सचिव खाद्य ने खरीफ-2018 के लिये ई-उपार्जन सॉफ्टवेयर में किये जा रहे किसानों के पंजीयन की प्रक्रिया को समय पर पूरा करने के लिये कहा। उन्होंने कहा कि पंजीयन केन्द्र पर किसानों को अनावश्यक इंतजार नहीं करवायें। एक दिन में जितने किसानों का पंजीयन किया जा सकता है, उतनी संख्या में ही किसानों को बुलवायें। किसानों को टोकन देकर उन्हें नियत समय दें। इससे किसान अपना अन्य कार्य कर सकेगा और उसे पंजीयन केन्द्र पर इंतजार नहीं करना पड़ेगा।

बैठक में कम्प्यूटर सॉफ्टवेयर में पंजीयन के दौरान आ रही समस्याओं के संबंध में पंजीयन केन्द्र प्रभारी समिति सेवकों और डाटा-एन्ट्री ऑपरेटर्स ने जानकारी दी। अवगत करवाया गया कि वनाधिकार के पट्टेधारियों का डाटा अगले 3 दिन में सर्वर पर अपलोड हो जायेगा, जिससे उनके पंजीयन में कठिनाई नहीं आयेगी। पंजीयन एक बैंक खाते पर हो सकेगा और पोर्टल पर कुछ बैंक शाखाएँ प्रदर्शित नहीं हो रही हैं, वह भी प्रदर्शित होने लगेंगी। इसके लिये सिस्टम को अपग्रेड कर दिया जायेगा। एक किसान के सभी खसरों की कुल भूमि का योग सॉफ्टवेयर में प्रदर्शित नहीं हो रहा है, उसे भी सुधार कर प्रदर्शित करवाया जा रहा है। एक किसान के 12 से अधिक खसरे होने पर भी पंजीयन की सुविधा दी जायेगी।

प्रमुख सचिव श्रीमती राव ने कहा कि ऐसे ही और अन्य बार-बार पूछे जाने वाले प्रश्नों के उत्तर तैयार कर (फ्रिक्वेंटली आस्क्ड क्वश्चन्स) पोर्टल पर अपलोड कर दिये जायेंगे, जिससे कि ऐसे प्रश्नों के उत्तर जानकर पंजीयन केन्द्र पर कर्मचारी कठिनाई का हल खुद निकाल लें। उन्होंने कहा कि जिला और संभाग स्तर पर समस्याओं के निराकरण के लिये टीम बनाई गई हैं, जो पंजीयन में आ रही समस्याओं के निराकरण में सहयोग करेंगी। जहाँ प्रशिक्षण की जरूरत है, वहाँ मास्टर-ट्रेनर्स के माध्यम से पुन: प्रशिक्षण भी दिलवाया जायेगा। प्रदेश में किसानों के पंजीयन का कार्य जारी है, जो 11 सितम्बर तक किया जायेगा। पंजीयन पहला चरण है। दूसरा चरण सत्यापन और तीसरा चरण उपार्जन है।

महेश दुबे

दीनदयाल रसोई योजना का खाद्यान्न आवंटित
खाद्य व्यापारियों के लिये प्रशिक्षण अनिवार्य
राशन दुकानों को जुलाई माह का 29 लाख क्विंटल से अधिक खाद्यान्न आवंटित
प्रधानमंत्री उज्ज्वला में 36 लाख 20 हजार से अधिक परिवारों को गैस कनेक्शन
पहुँचविहीन राशन दुकानों पर अगले तीन माह का अग्रिम भंडारण
उपार्जन केन्द्र स्तर से किसानों को एसएमएस
समर्थन मूल्य पर 5873 मीट्रिक टन गेहूँ की खरीदी
ग्राहकों के हितों की सुरक्षा के लिये जागरूकता बढ़ाना जरूरी है : मंत्री श्री धुर्वे
दूर-दराज के ग्रामीणों क्षेत्रों में उपभोक्ताओं को जागरूक करना जरूरी
मुख्यमंत्री अन्नपूर्ण योजना में अप्रैल का खाद्यान्न आवंटित
दीनदयाल अन्त्योदय योजना में मार्च का खाद्यान्‍न आवंटित
अन्नपूर्णा योजना में 29 करोड़ 34 लाख किलोग्राम से अधिक खाद्यान्न आवंटित
रबी सीजन में समर्थन मूल्य पर गेहूँ उपार्जन का पंजीयन 22 फरवरी तक
ग्रामीण क्षेत्र में 1,142 नई राशन दुकानें
खाद्य सुरक्षा अधिनियम में 15 श्रेणियों के 4,98,936 नये परिवार जुड़े
केन्द्रीय आम बजट में सभी वर्गों के कल्याण के निर्णय समाहित : मंत्री श्री धुर्वे
फरवरी माह के लिए 1,16,88,815 किलो नमक का आवंटन
जनवरी माह का केरोसिन आवंटित
तीन लाख 9 हजार नये पात्र परिवारों के लिये सस्ता राशन आवंटित
संस्थाओं को खाद्यान्न शासकीय उचित मूल्य दुकानों से मिलेगा
1