दिनांक
विभाग
भोपाल : शुक्रवार, अक्टूबर 5, 2018, 20:43 IST

प्राइस सपोर्ट स्कीम की गाइड लाइन पर होगी खरीफ सीजन में खरीदी

केन्द्रीय कृषि मंत्रालय ने एजेसिंयों को जारी किये निर्देश

दलहन फसल में उड़द, मूँग और तुअर की खरीदी प्राइस सपोर्ट स्कीम की गाइड लाइन के अनुसार की जाएगी। खरीदी के संबंध में केन्द्रीय कृषि मंत्रालय द्वारा उपार्जन की नोडल एजेंसी नाफेड, फुड कार्पोरेशन ऑफ इंडिया, एस.एफ.ए.सी. और एन.सी.सी.एफ. को निर्देश जारी किये गये हैं। केन्द्रीय मंत्रालय ने उपार्जित दलहन की कीमत किसानों को निश्चित समय में उनके बैंक खातों में सीधे अंतरित करने के लिए कहा है।

खरीफ सीजन 2018-19 में प्रदेश में 3 लाख 45 हजार मीट्रिक टन उड़द, 31 हजार मीट्रिक टन मूँग और 1 लाख 58 हजार मीट्रिक टन तुअर की खरीदी की जाएगी। खरीदी का कार्य 90 दिन की अवधि तक चलेगा। नोडल एजेंसी को मापदण्ड के अनुसार उपार्जित किए जाने वाले दलहन का सुरक्षित भंडारण करने के निर्देश भी दिये गये है। ये एजेंसी एफ.ए.क्यू. क्वालिटी की दलहन की खरीदी करेगी।

मुकेश मोदी

कृषि उपज मंडियाँ व्यवसायिक गतिविधियाँ बढ़ा कर किसानों को समृद्ध करें
छिन्दवाड़ा में देश का पहला मक्का महोत्सव
रबी सीजन में 6 लाख 75 हजार ट्रांसफार्मर से होगी बिजली आपूर्ति
मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना
ग्रीष्मकालीन उड़द फसल के लिये मिलेगी प्रोत्साहन राशि
ग्रामीण स्तर तक शिक्षा और कृषि विकास के लिये प्रोजेक्ट बनाकर काम करने की जरूरत
रबी सीजन में बिजली लोड के लिये बेहतर प्रबंधन सुनिश्चित करने के निर्देश
किसानों के फसल पंजीयन की तिथि बढ़ाई गई
मध्यप्रदेश में खाद्यान्न उत्पादन में हुई 207 प्रतिशत वृद्धि
वर्ष 2021 तक प्रमाणित जैविक खेती का क्षेत्रफल होगा 4 लाख हेक्टेयर
कीट रोग नियंत्रण के लिये राज्य-स्तरीय कंट्रोल-रूम
खरीफ सीजन में 129 लाख हेक्टेयर रकबे में हुई बोनी
कृषि एवं मनरेगा उप समूह की देशभर में होंगी कार्यशालाएँ
ई-उपार्जन पोर्टल पर कपास के लिये पंजीयन अलीराजपुर जिले के लिये भी होगा
मण्डियों में प्याज का औसत विक्रय मूल्य समर्थन मूल्य से अधिक
मध्यप्रदेश सकल अनाज दलहन-तिलहन महासंघ के प्रतिनिधियों की किसान कल्याण मंत्री श्री बिसेन के साथ चर्चा
कृषि उपज के बेहतर विपणन के लिए किसान उत्पाद समूह को सशक्त बनाना जरूरी
प्रदेश में खरीफ फसलों के लिये किसानों का फसलवार ई-पंजीयन 31 अगस्त तक
डिफाल्टर किसानों को एनसीएल नवीन ऋणमान से और नगद ऋण
मण्डी समितियों का कार्यकाल 6 महीने बढ़ाया गया
1