दिनांक
विभाग

समाधान योजना के प्रथम चरण में आये 16 हजार 500 आवेदन

115 करोड़ 30 लाख रूपये हुए जमा

भोपाल : शुक्रवार, नवम्बर 27, 2020, 15:40 IST

मध्यप्रदेश कराधान अधिनियमों की पुरानी बकाया राशि का समाधान अध्यादेश-2020 लागू होने के बाद प्रथम चरण (60 दिवस) में 16 हजार 500 आवेदन प्राप्त हुए। आवेदनों के साथ 115 करोड़ 30 लाख रूपये शासकीय कोष में जमा करवाये गये। अध्यादेश 26 सितम्बर 2020 को लागू हुआ था। इसमें 60, 90 एवं 120 दिन के भीतर आवेदन करने पर अलग-अलग लाभ के प्रावधान किये गये हैं।

संचालक वाणिज्यिक कर श्री एन.एस. मरावी ने जानकारी दी है कि समाधान योजना में 31 मार्च 2016 तक की अवधि के कर निर्धारण प्रकरणों में निकाली गयी अतिरिक्त माँग की लंबित बकाया राशि के समाधान का प्रावधान रखा गया है। योजना 26 सितम्बर 2020 से 23 जनवरी 2021 तक के लिये है।

योजना के क्रियान्वयन के लिये 145 से अधिक वेबिनार/सेमिनार आयोजित किये गये। इसी कड़ी में वेट के तहत पंजीकृत लगभग 3 लाख करदाताओं को एसएमएस के माध्यम से योजना का लाभ लेने का आग्रह किया गया।

संतोष मिश्रा

मध्यप्रदेश कराधान अधिनियमों की पुरानी बकाया राशि का समाधान अध्यादेश 2020
रिटर्न फ़ाइलिंग, टैक्स कलेक्शन, कर चोरी रोकने में मध्यप्रदेश आगे
हैरिटेज मदिरा पॉलिसी के लिए टास्क फोर्स गठित
बार संचालन की अनुमति के संबंध में निर्देश जारी
मध्यप्रदेश को शेष जीएसटी की क्षतिपूर्ति राशि शीघ्र उपलब्ध हो
अर्थव्यवस्था एवं रोजगार के लिये मंत्री-समूह ने रोडमैप को दिया अंतिम रूप
आबकारी मामलों के लिये गठित मंत्रिपरिषद समिति की बैठक
लायसेंसी विदेशी मदिरा दुकानों का विक्रय दर का प्रदर्शन अनिवार्य
लायसेंसी विदेशी मदिरा दुकानों पर विक्रय दरों का प्रदर्शन
मंत्री श्री देवड़ा द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री श्री वाजपेयी की पुण्य-तिथि पर श्रद्धांजलि
वाणिज्यिक कर मंत्री श्री देवड़ा ने दी स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएँ
ऑनलाइन मदिरा परमिट की जानकारी में हाथ से परिवर्तन न किया जाये
वित्त मंत्री श्री देवड़ा के निवास पर श्रद्धा और आध्यात्म का वातावरण
वित्त मंत्री श्री देवड़ा ने शोक संवेदना व्यक्त की
वाणिज्यिक कर मंत्री श्री देवड़ा का मंदसौर दौरा कार्यक्रम
वाणिज्यिक कर एवं वित्त मंत्री श्री देवड़ा ने किया पदभार ग्रहण
लोक अदालत में सम्पत्ति कर के अधिभार पर मिलेगी 100 प्रतिशत की छूट
वाणिज्यिक कर अपील बोर्ड में वर्चुअल हीयरिंग 17 जून से
कोविड के दौरान राजस्व संग्रहण में आई कमी के कारण पेट्रोल और डीजल के अतिरिक्त कर में 1-1 रुपए की वृद्धि
प्रदेश में संचालित अनुज्ञप्त मदिरा दुकानों के संचालन की नई व्यवस्था
1