दिनांक
विभाग
भोपाल : शुक्रवार, जून 8, 2018, 15:33 IST

वाणिज्यिक कर से 29 हजार 424 करोड़ राजस्व अर्जित

ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में कर दाताओं को मिली सुविधा

 

प्रदेश में वाणिज्यिक कर से वर्ष 2017-18 में 29 हजार 424 करोड़ रुपये राजस्व अर्जित की गई है। यह राजस्व वर्ष 2006-07 के मुकाबले में 5 गुना अधिक है। वर्ष 2006-07 में वाणिज्य कर से 6,243 करोड़ रुपये की राजस्व प्राप्त हुई थी।

वाणिज्यिक कर विभाग की बकाया वसूली में भी वृद्धि हुई है। वर्ष 2017-18 में विभाग को 727 करोड़ रुपये की बकाया वसूली प्राप्त हुई है। विभाग ने वर्ष 2006-07 में 130 करोड़ रुपये की बकाया वसूली की थी। प्रदेश में कर दाताओं के पंजीयन के बाद उनकी संख्या बढ़कर अब करीब 3 लाख 92 हजार हो गई है।

विभागीय कर प्रणाली का कम्प्यूटरीकरण

वाणिज्यिक कर विभाग की समस्त कार्य-प्रणालियों का कम्प्यूटरीकरण कर दिया गया है। ईज ऑफ डूइंग बिजनेस के अंतर्गत विभाग द्वारा कर दाताओं को ऑनलाइन पंजीयन, ई-पेमेंट और ई-रिटर्न की सुविधा उपलब्ध करवाई गई है। प्रदेश में कृषि को बढ़ावा देने के लिये वेट अधिनियम के अंतर्गत कृषि उपयोग में आने वाली लगभग 96 वस्तुओं को कर-मुक्त रखा गया है। प्रदेश में जुलाई-2017 से राज्य की सीमाओं पर स्थित जाँच चौकियाँ समाप्त कर दी गई हैं। इस व्यवस्था से राज्य में बाहर से आने वाली वस्तुओं का आवागमन सुलभ हो गया है।

मुकेश मोदी

प्रदेश की तरक्की में वाणिज्यिक कर विभाग की महत्वपूर्ण भूमिका : वित्त मंत्री श्री मलैया
जीएसटी अधिनियम में पोर्टल के माध्यम से व्यवसाइयों द्वारा कर राशि का भुगतान
मध्यप्रेदश में 2.89 लाख व्यवसायी जी.एस.टी. नेटवर्क में माइग्रेट
वाणिज्यिक कर विभाग की समाधान योजना
जीएसटी जागरूकता पर न्यू मार्केट के समन्वय भवन में 12 जुलाई को कार्यशाला
वाणिज्यिक कर की जाँच चौकियां बंद होंगी
प्रदेश में जीएसटी संबंधी सभी अधिसूचनाएँ जारी
वस्तु एवं सेवाकर पर समन्वय भवन में हुई कार्यशाला
वस्तु एवं सेवा कर पर व्यापारियों के लिये 23 और 26 जून को कार्यशाला
भोपाल में 27 जून को जी.एस.टी. कार्यशाला
वस्तु एवं सेवाकर पर बैरागढ़ में 29 मई को कार्यशाला
वाणिज्यिक कर मंत्री श्री मलैया जबलपुर में 26 नवम्बर को करेंगे विभागीय समीक्षा
उद्योग मंत्री श्री शुक्ल द्वारा गुरू पूर्णिमा पर बधाई
उद्योग और रोजगार मंत्री श्री शुक्ल ने ईद-उल-फितर पर प्रदेशवासियों को शुभकामनाएँ दीं
व्यवसाइयों की समस्याओं पर सहानभूतिपूर्वक विचार किया जायेगा
आयकरदाताओं को 100 बोतल शराब रखने की छूट की पुन: समीक्षा होगी
अब स्टेम्प की किल्लत खत्म
अच्छे परिवेश में कार्य-कुशलता बढ़ती है
वाणिज्यिक कर विभाग को वेब रत्न अवार्ड
सम्पत्ति कर वसूली में तेजी लाने के निर्देश
1