Department of Public Relation:Government of Madhya Pradesh

 
बैंकों के आवास ऋण में सामने आया एनपीए
 

नई दिल्ली। सिर्फ उद्योगों को दिए हुए कर्ज में ही नहीं, बल्कि घर खरीदने के लिए दिए गए आवास ऋणों में भी एनपीए की समस्या देखी जा रही है। केंद्रीय शहरी विकास मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने राज्यसभा में पिछले तीन साल के सकल एनपीए का ब्यौरा देते हुये यह जानकारी दी। पुरी ने बताया कि साल 2015 से 2017 तक आवास ऋण में साल दर साल एनपीए में इजाफा दर्ज किया गया है। पुरी ने बताया कि 31 मार्च 2015 तक 10 लाख रुपए तक के कुल आवास ऋण में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों और आवास वित्त कंपनियों के एनपीए का स्तर 1.87 फीसदी बढ़कर साल 2016 में 2.28 प्रतिशत और 2017 में 2.12 प्रतिशत हो गया। इसके अलावा 10 से 25 लाख रुपए तक के आवास ऋण में एनपीए का स्तर साल 2015 में 0.66 प्रतिशत, 2016 में 0.88 प्रतिशत और 2017 में बढ़कर 0.85 प्रतिशत रहा। वहीं, 25 लाख रुपए से अधिक राशि के जारी किए गए आवास ऋण में एनपीए का स्तर बीते तीन सालों में 0.50 प्रतिशत, 0.60 प्रतिशत और 0.88 प्रतिशत रहा।