Department of Public Relation:Government of Madhya Pradesh

मुख्यमंत्री स्व-रोज़गार योजना
अगरबत्ती कारखाना स्थापित कर महिलाओं को बनाया आत्मनिर्भर
 

>भोपाल, मध्यप्रदेश में राज्य सरकार की स्वरोज़गार योजनायें युवाओं के साथ-साथ महिलाओं को भी आर्थिक रूप से सशक्त बनाने में सहायक सिद्ध हो रही हैं। अब तो शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में घरेलू महिलायें भी इन योजनाओं के माध्यम से घर बैठे अपना सम्मानजनक व्यवसाय संचालित कर रही हैं। ऐसी ही एक गृहिणी हैं, आगर-मालवा जिले की श्रीमती स्वप्निल रत्नाकर। इन्होंने मुख्यमंत्री स्व-रोज़गार योजना की मदद से आगर-मालवा में कोटा रोड पर अपना ‘यशस्वी अगरबत्ती कारखाना’ स्थापित किया है।

श्रीमती स्वप्निल का यह कारखाना मुख्यमंत्री स्व-रोज़गार योजना में मिली 20 लाख रुपये की ऋण राशि से स्थापित हो सका है। इस ऋण राशि पर राज्य सरकार ने 4.50 लाख रुपये का अनुदान इन्हें दिया है। इस कारखाने में स्वप्निल ने अनेक महिलाओं को रोज़गार भी उपलब्ध करवाया है। यहां सभी महिलायें हैं, जो मिलजुलकर खुशबूदार अगरबत्ती और धूपबत्ती बनाती हैं। इनकी बनाई अगरबत्ती और धूपबत्ती की आगर-मालवा जिले के साथ-साथ इन्दौर, उज्जैन, राजस्थान, और मुम्बई आदि शहरों में भी खूब मांग है।

श्रीमती स्वप्निल रत्नाकर ने अपने इस कारखाने में हाल ही में स्व-सहायता समूह की 40 अन्य महिलाओं को प्रशिक्षण देकर आत्म-निर्भर बनाया है।