Department of Public Relation:Government of Madhya Pradesh

सरदार सरोवर परियोजना
पुनर्वास स्थलों को आदर्श रूप में किया जायेगा विकसित
 

भोपाल, सरदार सरोवर परियोजना के विस्थापितों की सभी समस्याओं को दूर किया जायेगा। सरदार सरोवर परियोजना के पुनर्वास स्थलों को आदर्श रूप में विकसित किया जायेगा। इनमें मूलभूत सुविधायें सुनिश्चित की जायें, ताकि यहां निवासरत परिवारों को किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं हो। यह निर्देश मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल में सरदार सरोवर परियोजना के पुनर्वास कार्यों की समीक्षा करते हुये दिये।

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि इन 83 पुनर्वास स्थलों में निसरपुर को मिनी स्मार्ट सिटी और शेष को स्मार्ट विलेज के रूप में विकसित करने की कार्य योजना बनाई जाये। उन्होंने कहा कि विस्थापित परिवारों को अपना मित्र मानते हुये उनके लिये पुनर्वास स्थलों पर सड़क, पेयजल, स्ट्रीट लाइट तथा नाली आदि व्यवस्थायें बेहतर ढंग से की जायें। विकसित पुनर्वास स्थलों पर आवश्यक निर्माण कार्य शीघ्र कराये जायें। उन्होंने डूब क्षेत्र में वर्तमान निवासरत विस्थापित परिवारों को घोषित पैकेज के अंतर्गत शेष बची राशि में से कुछ राशि के भुगतान के भी निर्देश दिये। बैठक में बताया गया कि जिन 2 हजार 33 विस्थापित परिवारों के पास आवासीय भूखंड नहीं थे, उन्हें भूखंड उपलब्ध कराये गये हैं। बड़वानी जिले में दस घाट नागरिकों के लिये आरक्षित किये गये हैं। मछुआरों की 26 सहकारी समितियां बनाई गयी हैं। पुनर्वास स्थलों पर सुविधाओं पर 62 करोड़ रुपये खर्च किये गये हैं।