Department of Public Relation:Government of Madhya Pradesh

नीति आयोग ने जारी की डेल्टा रैंकिंग

नीति आयोग ने विकास के पांच आधारभूत क्षेत्र स्वास्थ्य और पोषण, शिक्षा, कृषि और जल संसाधन, वित्तीय समावेशन तथा कौशल विकास और बुनियादी अवसंरचना के क्षेत्रों का विश्लेषण करने वाली आकांक्षी जिलों की डेल्टा रैंकिंग की पहली सूची को जारी कर दिया है। ये आंकड़े 31 मार्च से 31 मई 2018 तक के जिलों की स्व-रिपोर्ट के आधार पर जारी किये गये हैं।

नीति आयोग के सीईओ श्री अमिताभ कांत ने आकांक्षी जिलों की पहली डेल्टा रैंकिंग सूची जारी करते हुए कहा कि इस रैंकिंग का उद्देश्य जिलों में गतिशील टीमों के बीच प्रतिस्पर्धा की भावना पैदा करना है। चूंकि इन जिलों में विरासत, अप्रयुक्त या कमजोर संसाधन आधार, कठोर जीवन परिस्थितियों आदि के कारण विभिन्न स्तरों पर जनशक्ति की कमी सहित कई चुनौतियों का सामना करना पड़ता है, इसलिए यह रैंकिंग क्षेत्र और सूचक विशिष्ट चुनौतियों की पहचान करने का भी एक साधन हैं।

डेल्टा रैंकिंग की ख़ास बातें
  • इस सूची में गुजरात का दाहोद जिला पहले तथा सिक्किम का पश्चिम सिक्किम जिला दूसरे स्थान पर रहा।
  • इस आकलन में सभी शामिल जिलों ने 01 अप्रैल, 2018 से चैंपियंस ऑफ चेंज डैशबोर्ड में डेटा दर्ज करना शुरू किया था। कुल 112 जिलों में से 108 जिलों ने इस रैंकिंग में भाग लिया।
  • जिलों की प्रगति को मापने के लिए 49 संकेतक चुने गए थे।

  • इस रैंकिंग के तहत जिलों को अपने राज्य के सबसे अच्छे जिले के समान विकसित होने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।