social media accounts







सक्सेस स्टोरीज

झाबुआ के गाँव दुलाखेड़ी में बढ़िया गुड़ बनाते हैं 85 वर्षीय रामाजी परमार

भोपाल : मंगलवार, मार्च 6, 2018, 17:15 IST

झाबुआ जिले में पेटलावद विकासखण्ड में छोटा सा गांव है दुलाखेडी। इस गांव की पहचान है स्वादिष्ट गुड़। यह गुड़ मुम्बई, पुणे और गुजरात तक बिकता है। खास बात यह है कि इस गुड़ का उत्पादन 85 साल के बुजुर्ग रामाजी परमार अपनी देखरेख में करवाते हैं।

एक समय था जब झाबुआ जिले में केवल मक्का का उत्पादन होता था। गेहूँ की खेती करने के बारे में भी कोई सोच नहीं सकता था। ऐसे वक्त में रामाजी ने गन्ने से गुड़ का उत्पादन करने का निर्णय लिया। इसके लिए इन्होंने पहले खेत के एक छोटे से हिस्से में गन्ना लगाया। जब फसल तैयार हुई तो फिर गुड़ का उत्पादन शुरू किया। शुरूआत में ही सफलता मिली, तो फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा।

अब रामाजी हर साल 8 से 10 क्विंटल गुड का उत्पादन कर रहे हैं। इसे बेचने के लिए उन्हें बाजार भी नहीं जाना पड़ता, उनके ग्राहक पहले से ही बुंकिंग करवा लेते हैं। यहां तक कि मुम्बई, पुणे और सूरत तक उनका गुड़ जाता है। रामाजी की उम्र अधिक हो जाने से अब उनके बेटे पन्नालाल और बाबूलाल उनके निर्देशन में पूरा कामकाज देखते हैं।

रामाजी परमार के अनुसार पानी की कमी के चलते वे दो बीघा खेत में ही गन्ना लगाते हैं। फरवरी-मार्च में गन्ना लगाने के बाद अगले साल जनवरी-फरवरी में उसकी कटाई की जाती है। इससे सीधे गुड़ तैयार किया जाता है। लागत 20 से 30 हजार रूपए आती है और मुनाफा दो गुना होता है।

गुड़ उत्पादन की प्रक्रिया में मेहनत बहुत ज्यादा लगती है। एक बार जब भट्टी चालू की तो फिर आखिरी गन्ने के चरखी में से गुजरने तक बंद नहीं की जा सकती। यदि समय ज्यादा लगा और गन्ना कुछ घंटे ऐसे ही पड़ा रह गया, तो उसका स्वाद बिगड़ जाता है। इसलिये खेत से गन्ना काटने, उसके छिलके हटाकर रस बनाने और फिर भटटी पर पकाकर गुड बनाने तक पूरी एक चेन बनानी पड़ती है। दिन-रात काम चलता है। तब जाकर स्वादिष्ट गुड़ बन पाता है। इसी वजह से आसपास के प्रदेशों में गुड की मांग बनी हुई है।


अनुराधा/संतोष मिश्रा
जिसका कोई नहीं, उसकी सरकार है न......
बेरोजगार सुरेन्द्र बन गया लखपति काश्तकार
प्रधानमंत्री आवास योजना से राजेश को भी मिला है पक्का मकान
बच्ची के चौंकने से रोये नाना-नानी, बजीं तालियाँ
कृषि उत्पादन बढ़ाने में सहायक सिद्ध हुए सोलर पम्प
पशु प्रजनन कार्यक्रम से बढ़ रहा है दुग्ध उत्पादन
सफेद मूसली की खेती से लखपति हुए कैलाशचन्द्र
आजीविका मिशन से जरूरतमंदों को मिला संबल
प्रधानमंत्री ग्राम सड़क से आसान हुआ नर्मदा स्नान
अबकी बरसात नहीं टपकेगा मंजू का घर
वृद्धा शगुना बाई को घर पर मिली अंत्येष्टि और अनुग्रह सहायता राशि
सीताफल और मुनगा ने राजकुमार और रामकृष्ण को बनाया प्रगतिशील किसान
मशरूम की खेती और मधुमक्खी पालन से उन्नतशील कृषक बने लक्ष्मणदास
पक्का मकान मिलने से नायजा और मीना को मिला सम्मान
रोजगार मेले में युवाओं की रोजगार पाने की हसरत हुई पूरी
मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना से मासूम महक को मिली बोलने-सुनने की शक्ति
मुख्यमंत्री बाल हृदय योजना से श्रमिक की बेटी को मिली नई जिन्दगी
मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना से गदगद हैं किसान
बेटी बाई के खेत में समय पर पर्याप्त पानी दे रहा है सोलर पम्प
रोजगार मेला में नौकरी पाकर खिले युवाओं के चेहरे
शालिनी को अब नहीं है नौकरी की दरकार
काव्या को मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार योजना से मिली दिल की धड़कन
बैक्टिरिया और फंगस से बनी किफायती खाद से पौधे बनेंगे स्मार्ट और इंटेलिजेन्ट
गिरीजा और मीना बनी पशुपतिनाथ मंदिर की पहरेदार
लेप्रोस्कोपिक हार्ट सर्जरी के बाद स्वस्थ है दीपशिखा
जरूरतमंदों की पक्की छत का सपना पूरा कर रही प्रधानमंत्री आवास योजना
प्रधानमंत्री योजना में मिले घर से होगी रामबाई की बेटी की शादी
विदेश अध्ययन से प्राप्त ज्ञान का वायरस रहित मिर्च उत्पादन में भरपूर उपयोग कर रहे हैं महेंद्र
रामकन्या और प्रेम भैरव को मिला सपनों का घर
सौभाग्य योजना से काजल का घर हुआ रौशन
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...