social media accounts







सक्सेस स्टोरीज

डिजिटल इण्डिया की ओर अग्रसर हुआ उमरिया : ई-दक्ष केन्द्र बना माध्यम

भोपाल : रविवार, फरवरी 25, 2018, 18:48 IST
 

उमरिया जिले में ई-दक्ष केंद्र जुलाई 2016 से संचालित किया गया है। इसमें अब तक 3500 से अधिक अधिकारियों-कर्मचारियों एवं स्व-सहायता समूह की महिलाओं को सूचना प्रौद्योगिकी विषय मे दक्षता हासिल कराई गई है। यह केन्द्र प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के डिजिटल इंडिया के स्वप्न को साकार करने की दिशा में अग्रसर है।

अत्याधुनिक उपकरण से सुसज्जित ई-दक्ष केंद्र में कलेक्टर, अन्य अधिकारी, कर्मचारी एवं स्व-सहायता समूहों की महिलाओं को आधारभूत कम्प्यूटर, यूनिकोड, सायबर सुरक्षा, इंटरनेट, कैशलेस लेन-देन, डिजिटल ई-हस्ताक्षर, बेसिक ट्रावल सूटिंग, एमएस आफिस, डिजिटल इंडिया एवं कैशलेस, आरसीएमएस, आईसीटी स्कूल शिक्षा विभाग, आनलाइन नाम निर्देशन, सीपीसीटी, समाधान एक दिन, ग्रामीण यांत्रिकीय सेवा (बीटीआरटी) , आईसीएसडी, स्वच्छ भारत एक, भारत नेट, सीएससी एवं लोक सेवा इंट्रीगेशन आदि का प्रशिक्षण देकर दक्षता हासिल कराई जा रही है। प्रशिक्षण का सिलसिला अनवरत जारी है।

केन्द्र में प्रशिक्षण प्रक्रिया की सहजता एवं डिजिटल इंडिया की दक्षता ने प्रशिक्षणर्थियों को कम्प्यूटर की विभिन्न बारीकियों से ऐसा परिचित कराया है कि अब अपना समस्त कार्य कम्प्यूटर के माध्यम से करने लगे हैं। प्रशिक्षणार्थी कम्प्यूटर पर बैठकर एक क्लिक से जहां एक ओर दुनिया की समस्त जानकारियां हासिल कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर सौंपे गये दायित्वों एवं अपने निजी कार्यों को भी बाखूबी निर्वहन करने में गतिशील हुए हैं। शासकीय काम काज जहां मैन्युल के माध्यम से हजारों हाथों से होते थे, वे सब काम कम्प्यूटर में क्लिक के माध्यम से होने लगे हैं। इससे श्रम और समय की बचत हुई है और शासकीय कार्यों में पारदर्शिता भी बढ़ी है।

स्व-सहायता समूह की 10वीं कक्षा पास 38 वर्षीय जानकी बाई ने बताया कि जीवन में कल्पना भी नहीं की थी कि कम्प्यूटर से अपने समूह के कार्यों का हिसाब-किताब रखूंगी। प्रधानमंत्री के उद्बोधनों में अक्सर डिजिटल इंडिया का नाम बार-बार मन में गूँजता रहा, लेकिन इसके संबंध में कोई जानकारी नहीं थी। इसी दरम्यान ई-दक्ष में हुए प्रशिक्षण से ज्ञान मिला कि वास्तव में डिजिटल इंडिया होता क्या है।

 सक्सेस स्टोरी (उमरिया)


राजेश मलिक
जिसका कोई नहीं, उसकी सरकार है न......
बेरोजगार सुरेन्द्र बन गया लखपति काश्तकार
प्रधानमंत्री आवास योजना से राजेश को भी मिला है पक्का मकान
बच्ची के चौंकने से रोये नाना-नानी, बजीं तालियाँ
कृषि उत्पादन बढ़ाने में सहायक सिद्ध हुए सोलर पम्प
पशु प्रजनन कार्यक्रम से बढ़ रहा है दुग्ध उत्पादन
सफेद मूसली की खेती से लखपति हुए कैलाशचन्द्र
आजीविका मिशन से जरूरतमंदों को मिला संबल
प्रधानमंत्री ग्राम सड़क से आसान हुआ नर्मदा स्नान
अबकी बरसात नहीं टपकेगा मंजू का घर
वृद्धा शगुना बाई को घर पर मिली अंत्येष्टि और अनुग्रह सहायता राशि
सीताफल और मुनगा ने राजकुमार और रामकृष्ण को बनाया प्रगतिशील किसान
मशरूम की खेती और मधुमक्खी पालन से उन्नतशील कृषक बने लक्ष्मणदास
पक्का मकान मिलने से नायजा और मीना को मिला सम्मान
रोजगार मेले में युवाओं की रोजगार पाने की हसरत हुई पूरी
मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना से मासूम महक को मिली बोलने-सुनने की शक्ति
मुख्यमंत्री बाल हृदय योजना से श्रमिक की बेटी को मिली नई जिन्दगी
मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना से गदगद हैं किसान
बेटी बाई के खेत में समय पर पर्याप्त पानी दे रहा है सोलर पम्प
रोजगार मेला में नौकरी पाकर खिले युवाओं के चेहरे
शालिनी को अब नहीं है नौकरी की दरकार
काव्या को मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार योजना से मिली दिल की धड़कन
बैक्टिरिया और फंगस से बनी किफायती खाद से पौधे बनेंगे स्मार्ट और इंटेलिजेन्ट
गिरीजा और मीना बनी पशुपतिनाथ मंदिर की पहरेदार
लेप्रोस्कोपिक हार्ट सर्जरी के बाद स्वस्थ है दीपशिखा
जरूरतमंदों की पक्की छत का सपना पूरा कर रही प्रधानमंत्री आवास योजना
प्रधानमंत्री योजना में मिले घर से होगी रामबाई की बेटी की शादी
विदेश अध्ययन से प्राप्त ज्ञान का वायरस रहित मिर्च उत्पादन में भरपूर उपयोग कर रहे हैं महेंद्र
रामकन्या और प्रेम भैरव को मिला सपनों का घर
सौभाग्य योजना से काजल का घर हुआ रौशन
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...