social media accounts







सक्सेस स्टोरीज

चीतल मछली पालन कर मत्स्य गोपाल बने दशरथ मल्लाह

भोपाल : गुरूवार, फरवरी 22, 2018, 16:10 IST

अमेरिका और बांग्लादेश में पाई जानी वाली दुर्लभ प्रजाति की मछली चीतल को सतना जिले की आबो-हवा में पाल कर मत्स्य कृषक दशरथ मल्लाह न केवल सबको हैरान कर दिया है, बल्कि इसके साथ ही मत्स्य पालन की तकनीक सीख कर चीतल मछली के कारोबार से हुए मुनाफे से अपनी बदहाल जिंदगी को खुशहाल जिंदगी में बदल लिया है।

सतना नई बस्ती के रहने वाले दशरथ मल्लाह तालाब में कतला और राहु मछली पालते थे। इससे उन्हे कम मुनाफा ही हो पाता था। मछली पालन में नई तकनीक अपनाकर अपने जीवन में बदलाव लाना चाहते थे। उन्होंने बिहार जाकर चीतल मछली पालन की जानकारी ली और मछली का बीज ले आए। बस यहीं से उन्हें अपनी जिंदगी का मकसद मिल गया। इसके बाद उन्होने मत्स्य पालन विभाग से बदखर के तालाब को लीज पर ले कर मछली पालन शुरू कर दिया।

अमेरिका और बांग्लादेश की आबो-हवा के विपरित सतना के वातावरण में चीतल मछली पालन किसान दशरथ के लिए चुनौती भरा काम था। उन्होने अपने अनुभव और मत्स्य विभाग की सलाह पर मछलियों के लिए खुराक तैयार की। खुराक में मछलियों को सुखा कर उनका पाउडर बनाया और मछलियों की खुराक में मिला दिया। खुराक के इस मिश्रण से तालाब मे पल रही मछलियों की संख्या और आकार तेजी से बढ़ने लगा।

दशरथ के तालाब में 7 से 8 किलो वजन तक की चीतल मछलियाँ हजारों की तादाद में पल रही हैं। चीतल मछली में भरपूर प्रोटीन के साथ कई औषधीय गुण होते हैं। अन्तर्राष्ट्रीय बाजार में चीतल मछली 800 से 1000 रूपये और स्थानीय बाजार में 300 से 500 रूपये प्रति किलो के भाव पर बिक जाती है। किसान दशरथ को मत्स्य पालन विभाग से 15 दिन का प्रशिक्षण भी मिला है। उन्हें 60 हजार रूपये का ऋण भी प्राप्त हुआ है। इसके साथ ही जाल और नाव में भी उन्हें मछली पालन के लिए विभागीय मदद मिली है। मत्स्य विभाग ने किसान दशरथ की तकनीक से प्रभावित होकर उन्हें मत्स्य गोपाल उपाधि दी है दशरथ को आत्मा परियोजना में 10 हजार रूपये का पुरस्कार भी मिल चुका है।

मत्स्य विभाग ने दशरथ को रोल मॉडल बना कर उनकी तकनीक का प्रदेश भर में प्रचार करने का कार्यक्रम तैयार किया है। सतना जिले के कई मत्स्य पालक किसान दशरथ से प्रभावित होकर चीतल मछली पालन का मन बना चुके हैं।

सक्सेस स्टोरी (सतना)


मुकेश मोदी/राजेश सिंह
जिसका कोई नहीं, उसकी सरकार है न......
बेरोजगार सुरेन्द्र बन गया लखपति काश्तकार
प्रधानमंत्री आवास योजना से राजेश को भी मिला है पक्का मकान
बच्ची के चौंकने से रोये नाना-नानी, बजीं तालियाँ
कृषि उत्पादन बढ़ाने में सहायक सिद्ध हुए सोलर पम्प
पशु प्रजनन कार्यक्रम से बढ़ रहा है दुग्ध उत्पादन
सफेद मूसली की खेती से लखपति हुए कैलाशचन्द्र
आजीविका मिशन से जरूरतमंदों को मिला संबल
प्रधानमंत्री ग्राम सड़क से आसान हुआ नर्मदा स्नान
अबकी बरसात नहीं टपकेगा मंजू का घर
वृद्धा शगुना बाई को घर पर मिली अंत्येष्टि और अनुग्रह सहायता राशि
सीताफल और मुनगा ने राजकुमार और रामकृष्ण को बनाया प्रगतिशील किसान
मशरूम की खेती और मधुमक्खी पालन से उन्नतशील कृषक बने लक्ष्मणदास
पक्का मकान मिलने से नायजा और मीना को मिला सम्मान
रोजगार मेले में युवाओं की रोजगार पाने की हसरत हुई पूरी
मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना से मासूम महक को मिली बोलने-सुनने की शक्ति
मुख्यमंत्री बाल हृदय योजना से श्रमिक की बेटी को मिली नई जिन्दगी
मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना से गदगद हैं किसान
बेटी बाई के खेत में समय पर पर्याप्त पानी दे रहा है सोलर पम्प
रोजगार मेला में नौकरी पाकर खिले युवाओं के चेहरे
शालिनी को अब नहीं है नौकरी की दरकार
काव्या को मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार योजना से मिली दिल की धड़कन
बैक्टिरिया और फंगस से बनी किफायती खाद से पौधे बनेंगे स्मार्ट और इंटेलिजेन्ट
गिरीजा और मीना बनी पशुपतिनाथ मंदिर की पहरेदार
लेप्रोस्कोपिक हार्ट सर्जरी के बाद स्वस्थ है दीपशिखा
जरूरतमंदों की पक्की छत का सपना पूरा कर रही प्रधानमंत्री आवास योजना
प्रधानमंत्री योजना में मिले घर से होगी रामबाई की बेटी की शादी
विदेश अध्ययन से प्राप्त ज्ञान का वायरस रहित मिर्च उत्पादन में भरपूर उपयोग कर रहे हैं महेंद्र
रामकन्या और प्रेम भैरव को मिला सपनों का घर
सौभाग्य योजना से काजल का घर हुआ रौशन
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...