social media accounts







सक्सेस स्टोरीज

प्रधानमंत्री आवास योजना से गरीबों को मिल रहे पक्के मकान

भोपाल : बुधवार, फरवरी 21, 2018, 15:35 IST

प्रधानमंत्री आवास योजना ने गरीब बेघर लोगों के चेहरे पर सुकुन लाने के साथ उन्हें अपनी जिंदगी बेहतरीन तरीके से बसर करने के लिए एक आश्रय स्थल दिया है। प्रधानमंत्री के “सबका साथ-सबका विकास’’ सपने को साकार करने की कड़ी में टीकमगढ़ जिले की जनपद पंचायत टीकमगढ़ की ग्राम पंचायत सुकवाहा, नीमच जिले की जावद तहसील के ग्राम ढाबा, रायसेन जिले की सिलवानी जनपद के ग्राम डाबरी सहित अन्य जिलों में सफलता की इबारत लिखी जा रही है।

टीकमगढ़ की ग्राम पंचायत सुकवाहा की मोंगिया बस्ती मे रहने वाले सभी अनुसूचित जनजाति वर्ग के लोग बहुत ही निम्न-स्तर का जीवन-यापन कर रहे थे। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत इन पिछड़े निर्धन परिवारों को अपना आश्रय स्थल प्राप्त हुआ है। इसकी उन्होंने कभी कल्पना भी नहीं की थी। दैनिक मजदूरी एवं मनिहारी का कार्य करके अपना गुजारा करने वाले लोगों ने प्रधानमंत्री के इस कदम की दिल से सराहना की है और उनको धन्यवाद ज्ञापित किया है। अनुसूचित जनजाति वर्ग के इन लोगों के लिए उनका अपना पक्का घर होना किसी सपने के सच होने जैसा है। 
     ग्राम पंचायत के सरपंच एवं समस्त सरकारी अमले के सहयोग से यहां आवास में लगने वाली सामग्री उपलब्ध करवाई गई। इस बस्ती में बने आवासों की गुणवत्ता की प्रशंसा स्वयं मुख्य अभियंता एवं कार्यपालन यंत्री ने अपने निरीक्षण के दौरान की।

इसी प्रकार नीमच जिले की ग्राम ढाबा निवासी देवीलाल जाटव 55 वर्षों से कच्चे कवेलू के झोपड़ीनुमा मकान में संयुक्त परिवर के साथ रह रहे थे। इस मकान में आये दिन साँप-बिच्छु सहित अन्य जानवरों का भय बना रहता था। प्रधानमंत्री आवास योजना में चयनित होने पर उन्हें 40-40 हजार रुपये की तीन किश्तें मिलीं, जिससे उन्होंने अपने लिये पक्का मकान बनवाया। पक्के मकान निर्माण में 90 दिन की मजदूरी 15 हजार 480 रुपये भी देवीलाल को अलग से प्राप्त हुई। अब वे अपने पक्के मकान में अपनी संयुक्त परिवार के साथ आराम से रह रहे हैं और इनकी सामाजिक प्रतिष्ठा भी बढ़ी है।

सिलवानी के ग्राम डाबरी में हल्के भी उन हितग्राहियों में शामिल हैं जिनका प्रधानमंत्री आवास योजना में पक्के मकान का सपना साकार हुआ है। हल्के बताते है कि अब तक का जीवन कच्चे मकान में गुजारा है। कभी सोचा भी नहीं था कि पक्की छत नसीब होगी। योजना के तहत चयिनत होने और आवास के भौतिक सत्यापन के बाद उनका यह सपना पूरा हुआ और वह अब पक्की छत के नीचे सुकून की नींद ले रहे हैं।

सक्सेस स्टोरी (टीकमगढ़,नीमच,रायसेन)


दुर्गेश रायकवार
जिसका कोई नहीं, उसकी सरकार है न......
बेरोजगार सुरेन्द्र बन गया लखपति काश्तकार
प्रधानमंत्री आवास योजना से राजेश को भी मिला है पक्का मकान
बच्ची के चौंकने से रोये नाना-नानी, बजीं तालियाँ
कृषि उत्पादन बढ़ाने में सहायक सिद्ध हुए सोलर पम्प
पशु प्रजनन कार्यक्रम से बढ़ रहा है दुग्ध उत्पादन
सफेद मूसली की खेती से लखपति हुए कैलाशचन्द्र
आजीविका मिशन से जरूरतमंदों को मिला संबल
प्रधानमंत्री ग्राम सड़क से आसान हुआ नर्मदा स्नान
अबकी बरसात नहीं टपकेगा मंजू का घर
वृद्धा शगुना बाई को घर पर मिली अंत्येष्टि और अनुग्रह सहायता राशि
सीताफल और मुनगा ने राजकुमार और रामकृष्ण को बनाया प्रगतिशील किसान
मशरूम की खेती और मधुमक्खी पालन से उन्नतशील कृषक बने लक्ष्मणदास
पक्का मकान मिलने से नायजा और मीना को मिला सम्मान
रोजगार मेले में युवाओं की रोजगार पाने की हसरत हुई पूरी
मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना से मासूम महक को मिली बोलने-सुनने की शक्ति
मुख्यमंत्री बाल हृदय योजना से श्रमिक की बेटी को मिली नई जिन्दगी
मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना से गदगद हैं किसान
बेटी बाई के खेत में समय पर पर्याप्त पानी दे रहा है सोलर पम्प
रोजगार मेला में नौकरी पाकर खिले युवाओं के चेहरे
शालिनी को अब नहीं है नौकरी की दरकार
काव्या को मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार योजना से मिली दिल की धड़कन
बैक्टिरिया और फंगस से बनी किफायती खाद से पौधे बनेंगे स्मार्ट और इंटेलिजेन्ट
गिरीजा और मीना बनी पशुपतिनाथ मंदिर की पहरेदार
लेप्रोस्कोपिक हार्ट सर्जरी के बाद स्वस्थ है दीपशिखा
जरूरतमंदों की पक्की छत का सपना पूरा कर रही प्रधानमंत्री आवास योजना
प्रधानमंत्री योजना में मिले घर से होगी रामबाई की बेटी की शादी
विदेश अध्ययन से प्राप्त ज्ञान का वायरस रहित मिर्च उत्पादन में भरपूर उपयोग कर रहे हैं महेंद्र
रामकन्या और प्रेम भैरव को मिला सपनों का घर
सौभाग्य योजना से काजल का घर हुआ रौशन
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...