social media accounts







सक्सेस स्टोरीज

निजी स्कूलों को मात करती है ग्राम नवादपुरा की आँगनवाड़ी

भोपाल : बुधवार, फरवरी 21, 2018, 15:33 IST

धार जिले के ग्राम नवादपुरा में स्वामी विवेकानंद आदर्श आँगनवाड़ी-सह-बालवाड़ी निजी स्कूलों में मौजूद सुख-सुविधाओं को टक्कर दे रही है। प्राथमिक विद्यालय स्थानांतरित होने से शासकीय भवन खाली पड़ा था। गाँव के श्री कमल पटेल ने अपने पूर्वजों की स्मृति में 4 कक्षों का रंग-रोगन और पेंटिंग कर उन्हें सुंदर स्वरूप दिया है। यही नहीं श्री कमल पटेल और ग्रामीणों ने जन-सहयोग से गाँव में हर आधुनिक सुविधा जुटाकर इसे आदर्श बना दिया है।

ए.सी. युक्त कक्षों में लगेगी स्मार्ट-क्लॉस : दो कक्षों को स्मार्ट-क्लॉस बनाकर इनमें एयर कंडीशनर भी लगाये गये हैं। बच्चों को खेल-खेल में शिक्षा देने के लिये सभी आवश्यक सामग्री भी उपलब्ध कराई गई है। बच्चों के लिये छोटा-सा स्वीमिंग-पूल, साफ-सुथरा शौचालय, पीने के लिये आर.ओ. का पानी और खेलने के लिये आधुनिक खिलौनों का इंतजाम किया गया है। पूरे परिसर को सुंदर पेंटिंग और कार्टूनों से सजाया गया है। इस साज-सज्जा पर सांवरिया फाउण्डेशन ने 10 लाख रुपये खर्च किये हैं।

परिसर में 2 आँगनवाड़ी संचालित की जा रही हैं, जिनमें मध्यान्ह भोजन और नाश्ता भी दिया जा रहा है। एक स्मार्ट टीचर और बच्चों के आने जाने के लिये ट्रस्ट ने वाहन सुविधा की व्यवस्था की है। आगामी दिनों में पहली से तीसरी तक की कक्षाएँ संचालित की जायेंगी। इसमें गाँव के शिक्षित युवक-युवतियाँ और बुजुर्ग अपनी सेवाएँ देंगे।

प्रधानमंत्री के आदर्श ग्राम से ली प्रेरणा, पिंक-विलेज है नवादपुरा : श्री कमल पटेल बताते हैं उन्होंने यह प्रेरणा प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की आदर्श ग्राम बनाने की पहल से ली है। वर्ष 2017 से यह गाँव खुले में शौच से मुक्त हो चुका है। संभाग का यह पहला आईएसओ सर्टिफाइड ग्राम, पिंक-विलेज है। यहाँ सभी घर गुलाबी रंग से पुते हुए हैं। एटीएम मशीन, पीने के लिये ठंडा आर.ओ. पानी, प्राथमिक एवं माध्यमिक विद्यालय में सुरक्षा की दृष्टि से सी.सी. टी.व्ही. कैमरे लगाये गये हैं। कैशलेस पंचायत, स्वच्छता के लिये डस्टबिन, आरामदायक कुर्सियों के साथ एक छोटा बगीचा भी गाँव में जन-सहयोग से बनाया गया है। रोचक बात यह है कि इन कामों के लिये कोई सरकारी सहायता नहीं ली गई है।

सक्सेस स्टोरी (धार)


सुनीता दुबे
जिसका कोई नहीं, उसकी सरकार है न......
बेरोजगार सुरेन्द्र बन गया लखपति काश्तकार
प्रधानमंत्री आवास योजना से राजेश को भी मिला है पक्का मकान
बच्ची के चौंकने से रोये नाना-नानी, बजीं तालियाँ
कृषि उत्पादन बढ़ाने में सहायक सिद्ध हुए सोलर पम्प
पशु प्रजनन कार्यक्रम से बढ़ रहा है दुग्ध उत्पादन
सफेद मूसली की खेती से लखपति हुए कैलाशचन्द्र
आजीविका मिशन से जरूरतमंदों को मिला संबल
प्रधानमंत्री ग्राम सड़क से आसान हुआ नर्मदा स्नान
अबकी बरसात नहीं टपकेगा मंजू का घर
वृद्धा शगुना बाई को घर पर मिली अंत्येष्टि और अनुग्रह सहायता राशि
सीताफल और मुनगा ने राजकुमार और रामकृष्ण को बनाया प्रगतिशील किसान
मशरूम की खेती और मधुमक्खी पालन से उन्नतशील कृषक बने लक्ष्मणदास
पक्का मकान मिलने से नायजा और मीना को मिला सम्मान
रोजगार मेले में युवाओं की रोजगार पाने की हसरत हुई पूरी
मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना से मासूम महक को मिली बोलने-सुनने की शक्ति
मुख्यमंत्री बाल हृदय योजना से श्रमिक की बेटी को मिली नई जिन्दगी
मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना से गदगद हैं किसान
बेटी बाई के खेत में समय पर पर्याप्त पानी दे रहा है सोलर पम्प
रोजगार मेला में नौकरी पाकर खिले युवाओं के चेहरे
शालिनी को अब नहीं है नौकरी की दरकार
काव्या को मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार योजना से मिली दिल की धड़कन
बैक्टिरिया और फंगस से बनी किफायती खाद से पौधे बनेंगे स्मार्ट और इंटेलिजेन्ट
गिरीजा और मीना बनी पशुपतिनाथ मंदिर की पहरेदार
लेप्रोस्कोपिक हार्ट सर्जरी के बाद स्वस्थ है दीपशिखा
जरूरतमंदों की पक्की छत का सपना पूरा कर रही प्रधानमंत्री आवास योजना
प्रधानमंत्री योजना में मिले घर से होगी रामबाई की बेटी की शादी
विदेश अध्ययन से प्राप्त ज्ञान का वायरस रहित मिर्च उत्पादन में भरपूर उपयोग कर रहे हैं महेंद्र
रामकन्या और प्रेम भैरव को मिला सपनों का घर
सौभाग्य योजना से काजल का घर हुआ रौशन
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...