social media accounts







सक्सेस स्टोरीज

स्वास्थ्य सुविधाओं से निरोगी हो रहे हैं प्रदेश के लोग

भोपाल : बुधवार, फरवरी 21, 2018, 15:31 IST

राज्य शासन द्वारा प्रदेश के कमजोर वर्गों के स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखा जा रहा है। रुपये-पैसे के अभाव में कोई गरीब व्यक्ति अपने को असहाय और लाचार न महसूस करे, इसके लिये विभिन्न योजनाएँ संचालित हैं। योजनाओं में बच्चों और बड़े लोगों के नि:शुल्क इलाज की व्यवस्था की गई है।

जन-भागीदारी से 19 बच्चों को मिली हार्निया से मुक्ति:- बैतूल जिले के कलेक्टर की पहल से जन-भागीदारी से ढाई साल से 18 वर्ष तक की उम्र के 19 बच्चों के जिला चिकित्सालय में हार्निया का नि:शुल्क ऑपरेशन कराकर उन्हें तकलीफ से मुक्ति दिलाई गई। राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम में हुए स्वास्थ्य शिविर में इन बच्चों में हार्निया की जानकारी मिली थी। आरबीएसके दल द्वारा चिन्हित किये जाने के बाद भी बच्चों के माता-पिता भ्राँतियों के चलते ऑपरेशन के लिये राजी नहीं हो रहे थे। चिकित्सक दल द्वारा उन्हें लगातार हार्निया के खतरों के बारे में आगाह करते हुए समझाइश दी गई। आज वही माता-पिता स्वास्थ्य विभाग और जिला प्रशासन को दुआएँ देते नहीं थक रहे हैं।

जिला चिकित्सालय में जिन बच्चों की हार्निया सर्जरी हुई, उनमें ग्राम आठनेर का 11 वर्षीय सचिन, 8 वर्षीय योगीराज और 12 वर्षीय राजकुमार, चिचोली का साढ़े सात वर्षीय गणेश, 5 वर्षीय सागर, 7 वर्षीय विकास और 5 वर्षीय विराट, बोंदरी-पाढर का अमित, डोंगरी भीमपुर का 7 वर्षीय सुमित, आमला का साढ़े आठ वर्षीय कुणाल और साढ़े चार वर्षीय सिद्धार्थ, भीमपुर की तीन वर्षीय दुर्गा, ढाई वर्षीय भाग्यश्री, नौ वर्षीय निवेश, 11 वर्षीय मोनू, 18 वर्षीय राजू बिसोने, मुलताई का 7 वर्षीय बलराम, घोड़ाडोंगरी का ढाई वर्षीय कुणाल धुर्वे और साढ़े चार वर्षीय रतिराम शामिल हैं।

दूर हुईं जन्मजात विकृतियाँ:- राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम से देवास जिले के गाँव उतावली के तीन वर्षीय सतीश अपने जन्म से कटे होंठ की शल्य-चिकित्सा होने से आम बच्चों की तरह दिखने लगा है। उसके पिता प्रहलाद कहते हैं मुझको यही चिंता सताती थी कि सतीश जब बड़ा होगा तो दूसरे बच्चों से अपनी तुलना कर परेशान होगा। पर अब हम सब बहुत खुश हैं कि हमारी कमजोर आर्थिक स्थिति इसमें आड़े नहीं आई। आरबीएसके की टीम की सहायता से मेरे बच्चे का इंदौर में नि:शुल्क सफल ऑपरेशन हो चुका है। अब वह पूर्णरूपेण स्वस्थ है। गाँव वाले कहते हैं यह योजना गरीब बच्चों के लिये ईश्वर के वरदान जैसी है।

सक्सेस स्टोरी (बैतूल, देवास)


सुनीता दुबे
जिसका कोई नहीं, उसकी सरकार है न......
बेरोजगार सुरेन्द्र बन गया लखपति काश्तकार
प्रधानमंत्री आवास योजना से राजेश को भी मिला है पक्का मकान
बच्ची के चौंकने से रोये नाना-नानी, बजीं तालियाँ
कृषि उत्पादन बढ़ाने में सहायक सिद्ध हुए सोलर पम्प
पशु प्रजनन कार्यक्रम से बढ़ रहा है दुग्ध उत्पादन
सफेद मूसली की खेती से लखपति हुए कैलाशचन्द्र
आजीविका मिशन से जरूरतमंदों को मिला संबल
प्रधानमंत्री ग्राम सड़क से आसान हुआ नर्मदा स्नान
अबकी बरसात नहीं टपकेगा मंजू का घर
वृद्धा शगुना बाई को घर पर मिली अंत्येष्टि और अनुग्रह सहायता राशि
सीताफल और मुनगा ने राजकुमार और रामकृष्ण को बनाया प्रगतिशील किसान
मशरूम की खेती और मधुमक्खी पालन से उन्नतशील कृषक बने लक्ष्मणदास
पक्का मकान मिलने से नायजा और मीना को मिला सम्मान
रोजगार मेले में युवाओं की रोजगार पाने की हसरत हुई पूरी
मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना से मासूम महक को मिली बोलने-सुनने की शक्ति
मुख्यमंत्री बाल हृदय योजना से श्रमिक की बेटी को मिली नई जिन्दगी
मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना से गदगद हैं किसान
बेटी बाई के खेत में समय पर पर्याप्त पानी दे रहा है सोलर पम्प
रोजगार मेला में नौकरी पाकर खिले युवाओं के चेहरे
शालिनी को अब नहीं है नौकरी की दरकार
काव्या को मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार योजना से मिली दिल की धड़कन
बैक्टिरिया और फंगस से बनी किफायती खाद से पौधे बनेंगे स्मार्ट और इंटेलिजेन्ट
गिरीजा और मीना बनी पशुपतिनाथ मंदिर की पहरेदार
लेप्रोस्कोपिक हार्ट सर्जरी के बाद स्वस्थ है दीपशिखा
जरूरतमंदों की पक्की छत का सपना पूरा कर रही प्रधानमंत्री आवास योजना
प्रधानमंत्री योजना में मिले घर से होगी रामबाई की बेटी की शादी
विदेश अध्ययन से प्राप्त ज्ञान का वायरस रहित मिर्च उत्पादन में भरपूर उपयोग कर रहे हैं महेंद्र
रामकन्या और प्रेम भैरव को मिला सपनों का घर
सौभाग्य योजना से काजल का घर हुआ रौशन
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...