social media accounts







सक्सेस स्टोरीज

"एक सड़क ने बदला गांव का जीवन : खुले तरक्की के द्वार"

भोपाल : सोमवार, फरवरी 19, 2018, 17:10 IST

सीहोर जिला मुख्यालय से 50 किलोमीटर दूर स्थित कोरकू आदिवासी बहुल ग्राम है सारस। यह ग्राम लोहा पठार से लगा हुआ है। इसके दाहिनी ओर कोलार डेम है। आजादी के बाद यहां पर पहली बार प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना में डामरीकृत सड़क बनी है। सड़क की लंबाई 8.00 किमी. एवं लागत रूपये 274.77 लाख है। इस सड़क के बनने से ग्राम सारस की 794 आबादी एवं ग्राम मगरपाट की 514 आबादी लाभान्वित हुई है।

पहले यह गांव सड़क विहीन था। यहां का रास्ता दुर्गम और जोखिम भरा था। आदिवासी बस्ती होने के बावजूद सड़क के अभाव में शासन की कोई भी विकास योजना गांव तक अपने वास्तविक रूप में नहीं पहुंच पा रही थी। वर्षाकाल में इस ग्राम का संपर्क मुख्य मार्ग से टूट जाता था। यहां तक कि ग्रामवासी स्वास्थ्य सुविधाओं से महरुम रह जाते थे।

प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना इस ग्राम के लिये वरदान बनकर आई, जिसके अंतर्गत ग्राम सारस को भोपाल कोलार मुख्य मार्ग से जोड़ दिया गया। साथ ही रास्ते में आने वाले नालों पर पुल-पुलियों का निर्माण किया गया। सड़क निर्माण के बाद ग्राम सारस के लोगों के लिये परम्परागत व्यवसायों के अतिरिक्त नई संभावनाओं के द्वारा भी खुले है। दुग्ध उत्पादन व्यवसाय से जुड़े शंकर सिंह कोरकू, रामलाल, जयसिंह का कहना है कि इस सड़क ने दुग्ध व्यवसाय को लाभकारी बना दिया है। अब वह किसी भी मौसम में शहर जाकर दूध बेच सकते है। पहले वर्षा ऋतु में धंधा बंद हो जाता था परन्तु पक्की सड़क बन जाने से बारह महीने आवागमन की सुविधा हो गई है।

सड़क बन जाने के बाद प्रशासन के लोग आसानी से गांव तक पहुंचने लगे हैं। शासन की कई योजनाओं की जानकारी और उनका क्रियान्वयन आसान हो गया है। पहले हैंडपम्प खराब होने या बिजली खराब होने पर उसमें सुधार का कार्य होने में महीनों लग जाते थे। अब अधिकारियों तक शिकायत पहुंचने पर यह कार्य तत्काल हो जाते हैं।

सड़क के कारण ग्राम में शिक्षक आसानी से पहुंच जाते हैं मध्यान्ह भोजन योजना का क्रियान्वयन भी आसानी से किया जा रहा है। गंभीर बीमारी अथवा प्रसव की स्थिति में मरीज को तुरन्त जिला अस्पताल सीहोर या भोपाल ले जाया जाता है जिससे कई जान बच जाती है। अब गांव तक आटो रिक्शा और अन्य वाहन चलने लगे हैं जिससे आवागमन भी आसान हो गया है। किसान अपनी फसल मंडी तक आसानी से ले जा रहे है।

सक्सेस स्टोरी (सीहोर)


अनिल वशिष्ठ
जिसका कोई नहीं, उसकी सरकार है न......
बेरोजगार सुरेन्द्र बन गया लखपति काश्तकार
प्रधानमंत्री आवास योजना से राजेश को भी मिला है पक्का मकान
बच्ची के चौंकने से रोये नाना-नानी, बजीं तालियाँ
कृषि उत्पादन बढ़ाने में सहायक सिद्ध हुए सोलर पम्प
पशु प्रजनन कार्यक्रम से बढ़ रहा है दुग्ध उत्पादन
सफेद मूसली की खेती से लखपति हुए कैलाशचन्द्र
आजीविका मिशन से जरूरतमंदों को मिला संबल
प्रधानमंत्री ग्राम सड़क से आसान हुआ नर्मदा स्नान
अबकी बरसात नहीं टपकेगा मंजू का घर
वृद्धा शगुना बाई को घर पर मिली अंत्येष्टि और अनुग्रह सहायता राशि
सीताफल और मुनगा ने राजकुमार और रामकृष्ण को बनाया प्रगतिशील किसान
मशरूम की खेती और मधुमक्खी पालन से उन्नतशील कृषक बने लक्ष्मणदास
पक्का मकान मिलने से नायजा और मीना को मिला सम्मान
रोजगार मेले में युवाओं की रोजगार पाने की हसरत हुई पूरी
मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना से मासूम महक को मिली बोलने-सुनने की शक्ति
मुख्यमंत्री बाल हृदय योजना से श्रमिक की बेटी को मिली नई जिन्दगी
मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना से गदगद हैं किसान
बेटी बाई के खेत में समय पर पर्याप्त पानी दे रहा है सोलर पम्प
रोजगार मेला में नौकरी पाकर खिले युवाओं के चेहरे
शालिनी को अब नहीं है नौकरी की दरकार
काव्या को मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार योजना से मिली दिल की धड़कन
बैक्टिरिया और फंगस से बनी किफायती खाद से पौधे बनेंगे स्मार्ट और इंटेलिजेन्ट
गिरीजा और मीना बनी पशुपतिनाथ मंदिर की पहरेदार
लेप्रोस्कोपिक हार्ट सर्जरी के बाद स्वस्थ है दीपशिखा
जरूरतमंदों की पक्की छत का सपना पूरा कर रही प्रधानमंत्री आवास योजना
प्रधानमंत्री योजना में मिले घर से होगी रामबाई की बेटी की शादी
विदेश अध्ययन से प्राप्त ज्ञान का वायरस रहित मिर्च उत्पादन में भरपूर उपयोग कर रहे हैं महेंद्र
रामकन्या और प्रेम भैरव को मिला सपनों का घर
सौभाग्य योजना से काजल का घर हुआ रौशन
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...