social media accounts







सक्सेस स्टोरीज

आर्थिक नुकसान की आशंका से मुक्त हुए किसान

भोपाल : रविवार, फरवरी 18, 2018, 14:34 IST

झाबुआ जिले में ग्राम वानगेरा के किसान करण सिंह पिता राम सिंह सहित 3,549 किसानों ने भावांतर योजनांतर्गत एक से 30 नवम्बर की अवधि में अपनी फसल मण्डी में बेची। इन किसानों को 2 करोड़ 72 लाख 4 हजार 190 रुपये भावांतर भुगतान सीधे बैंक खातों में मिला। दिसम्बर माह में जिलों में 1,178 किसानों ने फसल बेची और 60 लाख 17 हजार 897 रुपये का भावांतर भुगतान अपने बैंक खातों में पाया।

भावांतर भुगतान योजना लागू होने से प्रदेश में किसान आर्थिक नुकसान की आशंका से ही मुक्त हो गया है। किसान करण सिंह ने बताया कि हमने कभी सोचा नहीं था कि शासन की भावांतर भुगतान योजना से हमें इतना फायदा होगा। अब तो मण्डी में फसल कम भाव में बिकने पर भी शासन द्वारा समर्थन मूल्य के बराबर राशि मिल रही है। अब फसल का दाम बढ़े या घटे, किसान को तो समर्थन मूल्य के आधार पर ही उपज के दाम मिल रहे हैं।

करण सिंह ने 70 क्विंटल सोयाबीन झाबुआ मण्डी में व्यापारी को बेचा था। भावांतर योजना में पंजीयन होने से शासन द्वारा 13 हजार 120 रुपये बैंक खाते में जमा कर दिये गये। प्रदेश के किसान के लिये अब यह योजना आर्थिक सुरक्षा का कवच बन गई है।

अत्याधुनिक खेती अपनाकर समृद्ध किसान बने राजाराम : झाबुआ जिले में थांदला विकासखण्ड के ग्राम परवलिया के उन्नतशील किसान राजाराम पिता मोतीलाल पाटीदार खेती को व्यवसाय की तरह कर रहे हैं। इन्होंने खेती में आधुनिक कृषि उपकरण, सिंचाई के लिये ड्रिप पद्धति एवं उन्नत वैज्ञानिक तकनीकों का उपयोग कर खेती को लाभ का धंधा बना लिया है। परम्परागत खेती से इन्हें जितनी जमीन में मात्र 50-60 हजार रुपये वार्षिक कमाई होती थी, उसी से अब 7 से 8 लाख रुपये सालाना कमा रहे हैं।

सोयाबीन, उड़द, मूंगफली, ज्वार जैसी परम्परागत खेती करने वाले किसान राजाराम पाटीदार ने जब ड्रिप पद्धति से टमाटर की खेती की तो अच्छा उत्पादन मिला। वैज्ञानिक तकनीकों और शासकीय अनुदान का भरपूर उपयोग कर समृद्ध किसान बन गए हैं राजाराम।

किसान राजाराम पाटीदार का कहना है कि उनके पास सिंचाई के लिये कुआं एवं ट्यूबवेल है। इससे ड्रिप लगाकर खेत में मिर्ची, प्याज, टमाटर, लहसुन, भिण्डी इत्यादि फसल लगाते हैं। इससे उनकी आर्थिक स्थिति सुदृढ़ हुई है। ड्रिप इरीगेशन सिस्टम लगाने से पहले वह सिर्फ खरीफ की ही फसल कर पाते थे। खेत में कपास और सोयाबीन भी बोते थे, लेकिन सिंचाई के लिये पानी की कमी की वजह से उत्पादन कम हो पाता था। ड्रिप लगाने से टमाटर की खेती से अच्छी आमदनी हुई है। इस कमाई से राजाराम ने आवासीय भूमि का प्लाट, ट्रेक्टर एवं मोटर-साइकिल भी खरीद ली है।

 सक्सेस स्टोरी (झाबुआ)


समर चौहान
जिसका कोई नहीं, उसकी सरकार है न......
बेरोजगार सुरेन्द्र बन गया लखपति काश्तकार
प्रधानमंत्री आवास योजना से राजेश को भी मिला है पक्का मकान
बच्ची के चौंकने से रोये नाना-नानी, बजीं तालियाँ
कृषि उत्पादन बढ़ाने में सहायक सिद्ध हुए सोलर पम्प
पशु प्रजनन कार्यक्रम से बढ़ रहा है दुग्ध उत्पादन
सफेद मूसली की खेती से लखपति हुए कैलाशचन्द्र
आजीविका मिशन से जरूरतमंदों को मिला संबल
प्रधानमंत्री ग्राम सड़क से आसान हुआ नर्मदा स्नान
अबकी बरसात नहीं टपकेगा मंजू का घर
वृद्धा शगुना बाई को घर पर मिली अंत्येष्टि और अनुग्रह सहायता राशि
सीताफल और मुनगा ने राजकुमार और रामकृष्ण को बनाया प्रगतिशील किसान
मशरूम की खेती और मधुमक्खी पालन से उन्नतशील कृषक बने लक्ष्मणदास
पक्का मकान मिलने से नायजा और मीना को मिला सम्मान
रोजगार मेले में युवाओं की रोजगार पाने की हसरत हुई पूरी
मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना से मासूम महक को मिली बोलने-सुनने की शक्ति
मुख्यमंत्री बाल हृदय योजना से श्रमिक की बेटी को मिली नई जिन्दगी
मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना से गदगद हैं किसान
बेटी बाई के खेत में समय पर पर्याप्त पानी दे रहा है सोलर पम्प
रोजगार मेला में नौकरी पाकर खिले युवाओं के चेहरे
शालिनी को अब नहीं है नौकरी की दरकार
काव्या को मुख्यमंत्री बाल हृदय उपचार योजना से मिली दिल की धड़कन
बैक्टिरिया और फंगस से बनी किफायती खाद से पौधे बनेंगे स्मार्ट और इंटेलिजेन्ट
गिरीजा और मीना बनी पशुपतिनाथ मंदिर की पहरेदार
लेप्रोस्कोपिक हार्ट सर्जरी के बाद स्वस्थ है दीपशिखा
जरूरतमंदों की पक्की छत का सपना पूरा कर रही प्रधानमंत्री आवास योजना
प्रधानमंत्री योजना में मिले घर से होगी रामबाई की बेटी की शादी
विदेश अध्ययन से प्राप्त ज्ञान का वायरस रहित मिर्च उत्पादन में भरपूर उपयोग कर रहे हैं महेंद्र
रामकन्या और प्रेम भैरव को मिला सपनों का घर
सौभाग्य योजना से काजल का घर हुआ रौशन
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...