सक्सेस स्टोरीज

प्रधानमंत्री आवास योजना से एक गांव में एक साथ बने 36 घर

भोपाल : शुक्रवार, फरवरी 9, 2018, 15:09 IST

प्रधानमंत्री आवास योजना में झाबुआ जिले की कालाखूट पंचायत में भगत फलिए में स्वीकृत 48 घर में से एक साथ 36 घर बन गये हैं। इस आदिवासी बाहुल्य जिले में खेतों में मकान बनाकर रहने की परम्परा की वजह से फलिए बनाए जाते हैं। एक फलिए में 10 से लेकर 50 मकान तक हो जाते हैं। भगत फलिए में 450 ग्रामीण रहते हैं। डेढ़ लाख रुपये प्रति हितग्राही सरकारी मदद से फलियेवासी का आवास का सपना पूरा हुआ है।

जिला मुख्यालय से करीब 20 कि.मी. की दूरी पर स्थित झाबुआ जनपद की कालाखूंट पंचायत में चार गांव कालाखूंट, खटापानी, पिटोल छोटी और पांचनाका आते हैं। वर्ष 2016-17 में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत यहाँ 285 आवास स्वीकृत हुए थे। इनमें से 122 आवास पूर्ण हो चुके हैं एवं 66 मकानों की स्वीकृति हाल ही में मिली है। इसके अलावा भगत फलिए में 48 मकान स्वीकृत हुए थे।

शासकीय रिकार्ड में भगत फलिया बना मोदी फलिया

प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत पक्के मकान बन जाने से ग्राम पंचायत कालाखूंट में 2 अक्‍टूबर को ग्राम सभा में प्रस्तावित पारित कर भगत फलिए का नाम बदलकर मोदी फलिया रखा है। झाबुआ जनपद के पंचायत इंस्पेक्टर बाबूलाल मेडा का कहना है कि फलियों का नामांकरण हमेशा से ही गांव की चौपाल पर बैठकर ही तय किया जाता है। इससे फलियों की पहचान स्पष्ट हो जाती है। नाम बदलने का मामला पहली बार हुआ है। अब शासकीय रिकार्ड में भी भगत फलिया का नाम बदलकर मोदी फलिया दर्ज हो गया है।

झाबुआ जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में दूर-दूर मकान होने के कारण फलियों के आधार पर ही ग्रामीण का पता लगाया जा सकता है। जिस तरह शहरी क्षेत्र में वार्ड होते हैं, उसी तरह यहां के गांव में फलिए का कुछ न कुछ नाम होता है। कभी जाति, तो कभी विशेष व्यक्ति अथवा पद के आधार पर तो कभी मंदिर के आधार पर फलिए का नाम रखा जाता है।

हितग्राही वसना लालचंद बबेरिया का कहना है कि पहले उनका कच्चा मकान था लेकिन प्रधानमंत्री आवास योजना के कारण उन्हें पक्का मकान मिला। वहीं नेहा सवना बबेरिया का कहना है कि लम्बे समय से वे मकान के लिए संघर्ष कर रहे थे। इस बार गरीबी रेखा की सूची के आधार पर उन्हें मकान मिल गया। अन्य हितग्राही लीलाबाई हज्जी बबेरिया और शंकर पूर्णिया का कहना है कि अब पक्का मकान हो जाने से बरसात की सारी दिक्कते खत्म हो गई हैं।

सक्सेस स्टोरी (झाबुआ)


ऋषभ जैन
"एक सड़क ने बदला गांव का जीवन : खुले तरक्की के द्वार"
स्व-रोजगार योजनाओं की मदद से युवा वर्ग बन रहे उद्यमी
सरकारी योजनाओं से कमजोर वर्गों को मिल रही नि:शुल्क चिकित्सा सुविधा
आर्थिक नुकसान की आशंका से मुक्त हुए किसान
कस्टम हायरिंग सेंटर चलाने वाला प्रदेश का पहला महिला स्व-सहायता समूह
ग्राम हड़हा वासियों को मिले पक्के घर
ग्रामीण महिलायें बनीं स्वावलम्बी : गाँव हुए खुशहाल
मन की बात से प्रेरित होकर बना दिया डेयरी का आधुनिकतम संयंत्र
व्यवसायी स्वयं घर आते हैं बेर खरीदने
मिसाल बने युवा उद्यमी गौरव : मुख्यमंत्री ने दी शाबाशी
मुख्यमंत्री की किसान हितैषी घोषणाओं से किसान हुए खुशहाल
स्व-रोजगार योजनाओं से युवा बन रहे स्वावलंबी
बड़ी बीमारी के इलाज में बड़ा सहारा बनीं सरकारी योजनाएँ
छिंदवाड़ा जिले के फ्लोराइड क्षेत्र में मिलने लगा शुद्ध पेयजल
आत्म-विश्वास से लबरेज हैं पनारी गाँव की महिलाएँ
दिव्यांग रोशनी को मिला आगे बढ़ने का हौसला
सोलर पम्प यूनिट से नरेन्द्र के खेतों में हो रही सिंचाई
युवा हिमांशु बन गए बड़े व्यवसायी
उद्यानिकी प‍द्धति से बंजर भूमि पर हो रही अनार की भरपूर खेती
मिर्ची की खेती ने राकेश को बनाया लखपति
ग्रामीणों की बैंक वाली दीदी बनीं मनीषा और कविता
अंतर्राष्ट्रीय कराटे चैम्पियनशिप में रजत पदक जीती कुमारी पायल
आत्मविश्वास से लबरेज हो चली हैं पनारी गाँव की महिलाएँ
सेनेटरी पैड बना रहीं आम्बाखोदरा की पैडवुमन हेमलता, भुरी और गुडडी
शासन की मदद से स्वावलम्बी बनी आत्म-विश्वासी सीमा
अशोकनगर की बेटी गुंजन राष्ट्रपति द्वारा सम्मानित
बालाघाट में मूलचंद ने की केले की खेती की शुरूवात
तालाब बनने से बदली गाँव की तस्वीर : पहली बार 230 हेक्टेयर में हुई सिंचाई
कोहकाडीबर गाँव की महिलाएँ कर रहीं बेहतर साबुन का उत्पादन
प्रधानमंत्री आवास योजना से एक गांव में एक साथ बने 36 घर
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...