social media accounts







सक्सेस स्टोरीज

दुग्ध व्यवसाय ने संवारा जैराम का जीवन

भोपाल : सोमवार, जनवरी 1, 2018, 16:16 IST

पशुपालन विभाग की आचार्य विद्यासागर योजना जैराम नगपुरे के लिए सुनहरे दिन लेकर आयी। इस योजना से उसकी आय में ईजाफा तो हुआ, साथ ही उसकी आर्थिक स्थिति भी सुदृढ़ हो गई और जीवन स्तर भी सुधर गया।

बालाघाट जिले के लालबर्रा विकासखंड के ग्राम धपेरा (मोहगांव) निवासी जैराम नगपुरे पांच एकड़ में धान की खेती करता था। धान की खेती से इतनी आवक नहीं होती थी कि परिवार का बेहतर गुजारा हो सके। परिवार की अतिरिक्त आय के लिए जैराम दूध का धंधा भी करता था। उसके पास पहले मात्र 2 भैंस थी जिससे प्रतिदिन 18 लीटर दूध ही मिलता था। गाय-भैंस पालने के शौकीन जैराम को दो भैंसों के दूध से बहुत कम आय हो पाती थी।

लालबर्रा के पशु चिकित्सक डॉ. जी.एन. सिंह ने जैराम को आचार्य विद्यासागर योजना की जानकारी दी और बताया कि उसे उन्नत नस्ल की दुधारू पशु खरीदने के लिए बैंक से ऋण मिल जायेगा। इस योजना के तहत जैराम को सेन्ट्रल बैंक ऑफ इंडिया की मोहगांव शाखा से 5 लाख रुपये का ऋण मंजूर हो गया। ऋण की राशि से जैराम ने संकर नस्ल की 5 जर्सी गाय खरीदी। आज जैराम के यहां 75 से 80 लीटर दूध का प्रतिदिन उत्पादन हो रहा है।

जैराम अपनी गायों का दूध गांव की ही दुग्ध सहकारी समिति को बेच देता है। उसे 18 से 20 हजार रुपये की मासिक आय हो जाती है। अब जैराम की आय पहले से दोगुना हो गई है। साथ ही, खेती के लिए गोबर की अच्छी खाद भी मिलने लगी है। आज जैराम अपने परिवार का गुजारा अच्छे से करने के साथ ही बैंक ऋण की किश्त भी खुशी-खुशी अदा करता है।

सफलता की कहानी (बालाघाट)


बिन्दु सुनील
जैविक खाद-बीज के प्रयोग से मुनाफा कमा रहे हैं अतरसिंह
राष्ट्रीय पुरस्कार प्राप्त किसान अरुणा जोशी अन्य किसानों को सिखा रही कृषि तकनीक
खेती के साथ दुग्ध व्यवसाय कर खुशहाल है बाबूलाल
किसानों की चिंता करने वाली सरकार है शिवराज सरकार
श्रमिक रामप्रसाद, बंसत और खरगोबाई को मिले अपने पक्के मकान
लोक सेवा केन्द्रों से अब एक दिन में मिलते हैं वांछित दस्तावेज
मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना से किसानों को मिली आर्थिक ताकत
उद्यानिकी फसलों के उत्पादन में अग्रणी उज्जैन संभाग के किसान
मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना से बस गया बेसहारा निशा का घर
आदिवासी बहुल ग्रामों में इंटरनेट सुविधा के नवाचार को "न्यू पाथवेज में मिला स्थान
महिलाओं में आर्थिक आत्म निर्भरता का सबब बनी रोजगार योजनाएं
पिंक ड्रायविंग लायसेंस मिलने से निडर बनीं छात्राएँ
सरकार ने साकार किया गरीबों का घर का सपना
मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना से किसानों को मिला आर्थिक सम्बल
प्रशासन ने रोका बाल विवाह : परिजन भी हुए राजी
गेंदा उत्पादन से सालाना एक लाख कमा रहे राधेश्याम
जैविक खेती बनी किसानों की पहली पसंद
समाधान एक दिवस ने दिलायी कार्यालयों के चक्कर लगाने से मुक्ति
सामाजिक सहभागिता से रुके बाल विवाह
मैकेनिक से आटो पार्टस की दुकान का मालिक बना नितिन
खेती के मुनाफे को बढ़ाने में जुटे किसान
हरदा के वनांचल में हैं सुव्यवस्थित हाई स्कूल और आकर्षक भवन
आदिवासी परिवारों के भोजन और आर्थिक उन्नति का आधार है मुनगा वृक्ष
गुरूविन्दर के मेडिकल स्टोर पर मिलने लगी हैं सभी दवायें
किसानों ने खेती को बना लिया लाभकारी व्यवसाय
ग्रामीण आजीविका मिशन से उड़की बना समृद्ध ग्राम
नूरजहाँ और राजबहादुर के कूल्हे का हुआ नि:शुल्क ऑपरेशन
सुदूर अंचल के ग्रामीणों को भी मिली इंटरनेट सुविधा
अब खिलखिलाने लगी है नन्हीं बच्ची भावना
रेज्डबेड पद्धति से 4.5 क्विंटल प्रति बीघा हुआ सोयाबीन उत्पादन
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...