social media accounts







सक्सेस स्टोरीज

अंतर्राष्ट्रीय फलक पर चमके जबलपुर के तीरंदाज

शिवांश, मुस्कान जैसे तीरंदाज मनवा चुके अपनी प्रतिभा का लोहा

भोपाल : रविवार, दिसम्बर 31, 2017, 21:44 IST

राज्य शासन द्वारा खेलों को दिए जा रहे प्रोत्साहन के परिणाम अब जमीनी स्तर पर भी नजर आने लगे हैं। इस परिप्रेक्ष्य में मध्यप्रदेश सरकार द्वारा जबलपुर के रानीताल खेल परिसर में संचालित तीरंदाजी अकादमी भी अब परिचय की मोहताज नहीं है क्योंकि विगत वर्षों में यहां के उभरते तीरंदाजों ने अपने प्रदर्शन से न केवल शहर को वरन् प्रदेश को भी अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर गौरवान्वित किया है। शिवांश, अमित, मुस्कान, सबिका, अनुराधा, निकिता ये ऐसे ही उभरते हुए सितारे हैं जो तीरंदाजी की दुनिया में नित नए आयाम स्थापित कर रहे हैं।

राज्य शासन की पहल से बेहतरीन नतीजे

पांच वर्ष पूर्व खेल मंत्री ने अकादमी की स्थापना के लिए प्रभावी पहल की थी जिसके सकारात्मक परिणाम अब सामने आ रहे हैं। इस अकादमी में शहर के 48 और बाहर से आए 24 बच्चे प्रतिदिन तीरंदाजी का प्रशिक्षण ले रहे हैं। तीरंदाजी के प्रति छात्रों की रूचि को देखते हुए राज्य शासन द्वारा मई 2016 में प्रशिक्षित कोच, चीफ टेक्निकल एडवाइजर तथा महिला कोच की नियुक्ति की गई। अकादमी में स्तरीय रेंज व जिम तथा सभी आधुनिक उपकरण उपलब्ध हैं। खेल विभाग तथा राज्य तीरंदाजी संघ अकादमी की व्यवस्थाओं को बेहतर बनाने के लिए निरन्तर प्रयत्नशील रहते हैं।

उपलब्धियों का दौर

जिला खेल अधिकारी राजेश मनोध्या ने बताया कि प्रशिक्षित स्टाफ की नियुक्ति के बाद से अकादमी के बच्चों का प्रदर्शन बेहतर हुआ है। पहले केवल राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिताओं में खिलाड़ी भाग लेते थे किन्तु अब तीन अंतर्राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी भी अकादमी में मौजूद हैं। एशियन कप की स्टेज-2 तथा स्टेज-3 प्रतियोगिताओं में भी दो अंतर्राष्ट्रीय पदक जीत कर तीरंदाजों ने अकादमी को गौरवान्वित किया है।

अकादमी के सितारे

शिवांश अवस्थी - अकादमी के उदीयमान सितारे के रूप में उभरे 12वीं के छात्र शिवांश अवस्थी अब अंतर्राष्ट्रीय स्तर के तीरंदाज हैं जिन्होंने बैंकॉक और ताइपे में सम्पन्न एशियन कप स्पर्धा की टीम इवेन्ट में स्वर्ण और कांस्य पदकों पर कब्जा किया। शिवांश ने 50 मीटर कम्पाउण्ड व्यक्त्तिगत स्पर्धा में जूनियर नेशनल चैम्पियनशिप में कांस्य पदक भी जीता है। कुशल प्रशिक्षकों के मार्गदर्शन में एशियन गेम्स के लिए कड़ा अभ्यास कर रहे शिवांश, अकादमी में उपलब्ध सुविधाओं को बेहतरीन बताते हैं।

अकादमी के अमित यादव ने बैंकाक एवं ताइपे में आयोजित एशियन कप में भागीदारी की जबकि अमित कुमार ने विजयवाड़ा में आयोजित मिनी नेशनल चैम्पियनशिप की रिकर्व स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीता। शिवांग शर्मा ने भी इस प्रतियोगिता में अपने प्रदर्शन से सबका ध्यान आकृष्ट किया।

मुस्कान किरार - सामान्य पारिवारिक पृष्ठभूमि की बेटी मुस्कान ने अकादमी की अन्य बेटियों के साथ अपने प्रदर्शन से अंतर्राष्ट्रीय पहचान बनाई है। मुस्कान ने बैंकॉक और ताइपे में आयोजित एशियन कप में भागीदारी करने के साथ ही मार्च में भुवनेश्वर में आयोजित 50 मीटर कम्पाउण्ड स्पर्धा में सब जूनियर चैम्पियनशिप भी जीती है। एशियन चैम्पियनशिप ढाका में भी बेहतरीन प्रदर्शन के बाद मुस्कान अब एशियन गेम्स के लिए सोनीपत में होने वाले ट्रायल के लिए कड़ी मेहनत कर रही हैं। मुस्कान बताती हैं कि महिला प्रशिक्षकों की नियुक्ति और उनके मार्गदर्शन से लड़कियों का प्रदर्शन और बेहतर हुआ है।

सबिका जैदी - जूनियर नेशनल चैम्पियनशिप की रजत पदक विजेता सबिका फिलहाल सोनीपत में आयोजित होने वाले इण्डिया कैम्प की तैयारी में व्यस्त हैं। इण्डिया कैम्प में पूरे भारत से 32 शीर्ष तीरंदाज भाग लेंगे। भोपाल की सबिका अपने घर से दूर रहकर अकादमी में प्रशिक्षण प्राप्त कर रही हैं। वे यहां की आवासीय व्यवस्था को अच्छी बताती हैं और अपने प्रदर्शन को और बेहतर बनाने के लिए अथक परिश्रम कर रही हैं। अकादमी में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहीं मिनी नेशनल चैम्पियन अनुराधा अहिरवार तथा प्रांजल अग्रवाल, विताशा ठाकुर, अमी राय अनुष्का श्रीवास्तव भी राष्ट्रीय स्तर के तीरंदाज हैं।

अकादमी में अपनी तीरंदाजी कौशल को निखारने में जुटे किशोर तीरंदाज राज्य सरकार से मिलने वाली हर प्रकार की मदद को लेकर अपनी खुशी जाहिर करते हैं। साथ ही वे बड़ी अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में अपने देश का नाम रोशन करने का संकल्प भी व्यक्त करते हैं।

सफलता की कहानी (बलपुर)


नीरज शर्मा/अनिल वशिष्ठ
मैकेनिक से आटो पार्टस की दुकान का मालिक बना नितिन
खेती के मुनाफे को बढ़ाने में जुटे किसान
हरदा के वनांचल में हैं सुव्यवस्थित हाई स्कूल और आकर्षक भवन
आदिवासी परिवारों के भोजन और आर्थिक उन्नति का आधार है मुनगा वृक्ष
गुरूविन्दर के मेडिकल स्टोर पर मिलने लगी हैं सभी दवायें
किसानों ने खेती को बना लिया लाभकारी व्यवसाय
ग्रामीण आजीविका मिशन से उड़की बना समृद्ध ग्राम
नूरजहाँ और राजबहादुर के कूल्हे का हुआ नि:शुल्क ऑपरेशन
सुदूर अंचल के ग्रामीणों को भी मिली इंटरनेट सुविधा
अब खिलखिलाने लगी है नन्हीं बच्ची भावना
रेज्डबेड पद्धति से 4.5 क्विंटल प्रति बीघा हुआ सोयाबीन उत्पादन
प्रधानमंत्री सड़क ने खोले रोजगार के नये द्वार
प्रधानमंत्री आवास योजना से सरस्वती बाई को मिला पक्का आवास
युवाओं को सफल उद्यमी बना रही मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना
रानी दुर्गावती महिला चिकित्सालय ने लगातार पाया एक्सीलेंस अवार्ड
खेती में नई-नई तकनीक अपना रहे हैं किसान
शौर्या दल ने घरेलू हिंसा के 240 मामले सुलझाये
खजुरिया जलाशय से 700 से अधिक किसानों को फायदा
नौकरी की बजाय स्व-रोजगार पसंद कर रहे युवा वर्ग
सरकारी मदद से घर में गूँजी किलकारी
ग्रामीण महिलाएँ गरीबी और निरक्षरता को हरा कर बनीं लखपति
पाँच रुपये में भरपेट स्वादिष्ट भोजन कराती दीनदयाल रसोई
खेती से आमदनी बढ़ाने के लिये किसान कर रहे हैं नये-नये प्रयोग
युवा बेरोजगारों को मिला स्व-रोजगार
महिला स्व-सहायता समूह कर रहे सड़कों का मेंटेनेंस
महिलाओं ने बनाया कैक्टस फार्म हाउस : लोगों को दिखाया तरक्की का नया रास्ता
डेयरी विकास योजना से रतनसिंह का जीवन हुआ खुशहाल
दीनदयाल रसोई में रोज 400-500 लोग करते हैं भरपेट स्वादिष्ट भोजन
राजूबाई के हर्बल साबुन की मुम्बई तक धूम
गुना की एन.आई.सी.यू. में 29 हजार नवजात शिशुओं को मिला नवजीवन
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...