सक्सेस स्टोरीज

ह्रदय रोग की गंभीरता से अनजान रजनी को मिला नया जीवन

भोपाल : गुरूवार, दिसम्बर 28, 2017, 14:26 IST

करीब एक वर्ष पूर्व अनूपपुर जिले के ग्राम बीड में हुए स्वास्थ्य शिविर में अरुणा और साहेब सिंह को पता चला कि उनकी 9 वर्षीय बेटी ह्रदय रोग से पीड़ित है। माँ अरुणा मजदूरी और पिता साहेब खेती का काम करने के कारण रजनी के ह्रदय ऑपरेशन के लिये मेट्रो हॉस्पिटल जबलपुर जाने के लिये तैयार नहीं हुए।

चिकित्सक डॉ. प्रीति जैन ने उन्हें समझाया कि आपकी बेटी ह्रदय की गंभीर बीमारी से पीड़ित है और कमजोर आर्थिक स्थिति इसके इलाज में आड़े नहीं आयेगी। बच्ची का इलाज मुख्यमंत्री बाल ह्रदय उपचार योजना में नि:शुल्क होगा। जागरूकता न होने के कारण परिजन रजनी को जबलपुर ले जाने के लिये राजी नहीं हो रहे थे। तब मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. आर.पी. श्रीवास्तव और जिला समन्वयक श्री जतिन भट्ट ग्राम बीड पहुँचे और माता-पिता को बीमारी की गंभीरता के बारे में समझाया। उन्होंने रजनी के परिजनों को ढांढस बंधवाया कि जबलपुर के अस्पताल में इलाज होने से आपकी बेटी पूरी तरह से स्वस्थ्य हो जायेगी। इलाज के खर्च की चिंता न करें, सारा खर्च सरकार उठायेगी।

समझाइश का असर हुआ। रजनी का जबलपुर के मेट्रो हॉस्पिटल में सफल ऑपरेशन हुआ। आज रजनी स्वस्थ्य है और आम बच्चों के साथ खूब खेलती है।

सफलता की कहानी (अनूपपुर)


सुनीता दुबे
उद्यानिकी फसलों से राजकुमार की आय में 5 गुना वृद्धि
ग्रामीण आजीविका मिशन से तारा का परिवार बना आत्म-निर्भर
आजीविका मिशन से जुड़कर सफल कपड़ा व्यवसायी बनी अंजू धुर्वे
अब रंजना बेटी का दिल भी सामान्य बच्चों की तरह धड़कता है
होशंगाबाद के ग्राम मोरपानी की आदिवासी महिलाएँ हुईं आत्म-निर्भर
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से विवेक बना सफल व्यवसायी
ड्रिप सिंचाई से बंजर जमीन बनी उपजाऊ
स्वास्थ्य, स्वच्छता और आजीविका की बेहतरीन पहल बनी "मुस्कान " इकाई
उज्जवला योजना से शांति बाई को मिली धुएं से मुक्ति
जैविक खेती से प्रहलाद को मिला उत्कृष्ट कृषक पुरस्कार
आदिवासी कृषक दम्पत्ति को मिली ट्रैक्टर-ट्राली
उद्यानिकी एवं अंतरवर्ती फसलों से कृषक अजीत की आमदनी हुई दोगुनी
युवा उद्यमी योजना से सफल व्यवसायी बनी किरण
कियॉस्क एवं आधार सेवा सेंटर के मालिक बने दीपेश आचार्य
नि:शक्तजन विवाह प्रोत्साहन राशि से शुरू किया व्यवसाय
मत्स्य महिला कृषकों ने आत्म-निर्भरता से बनाई पहचान
उज्जवला योजना बनी गरीब महिलाओं की उजली मुस्कान
सोहागपुर में धर्मदास की है रंगीन फोटोकापी की दुकान
कृषक रामऔतार ने खेती को बनाया सर्वाधिक लाभ का व्यवसाय
किसान कल्याण का सशक्त माध्यम बनी भावांतर भुगतान योजना
झाबुआ के दल सिंह प्रगतिशील किसानों की श्रेणी में शामिल
राजपथ पर हरदा की जॉबाज दिव्या करेगी स्टंट
उज्जवला योजना से सकरी हटीला को मिली धुँए से मुक्ति
अब प्रिया स्वस्थ है और परिवार प्रफुल्लित
गुड्डी बाई अब नहीं रही बेसहारा, मिला आवास और गैस कनेक्शन
टिकरिया बनेगा लाख उत्पादक गांव
परम्परागत खेती के साथ उद्यानिकी फसल से मिला 10 लाख सालाना लाभ
पांच युवा बेरोजगारों को मिला स्व-रोजगार
आटो पार्टस कारखाने के मालिक बने शिवसागर बौरासी
निलेश ने ग्राम जामगोद में शुरू की ग्रामीण गैस एजेन्सी
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...