social media accounts







सक्सेस स्टोरीज

जमनापारी नस्ल से बकरी पालन व्यवसाय लाभकारी बना

भोपाल : गुरूवार, दिसम्बर 28, 2017, 14:24 IST

नीमच जिले की मनासा तहसील के गाँव तलाउ निवासी मध्यम वर्गीय परिवार के बालचंद परम्परागत खेती से जैसे-तैसे अपने घर-परिवार का गुजर-बसर कर रहे थे। अब बालचंद ने खेती के साथ-साथ बकरी पालन का काम भी शुरू किया। लेकिन मन-माफिक फायदा नहीं मिलता था। एक दिन बालचंद वेटनरी डॉक्टर राजेश पाटीदार के सम्पर्क में आये तो उन्हें पशु पालन विभाग की योजना में नर जमनापारी बकरा प्रदाय के बारे में जानकारी मिली साथ ही योजना के फायदे भी समझ में आये।

बालचंद ने इस योजना का लाभ लेने की ठानी। उसने पशुपालन विभाग से सम्पर्क किया तो विभागीय योजना में उसे जमनापारी नस्ल का बकरा मिला। बालचंद ने बकरियों के जमनापारी नस्ल से बकरियों का प्रजनन करवाया। इस प्रयास से उसे बकरी पालन व्यवसाय में अच्छा लाभ होने लगा है। यह लाभ परम्परागत बकरी पालन से कई गुना अधिक है। वर्तमान में बालचंद के पास उन्नत नस्ल की 30 बकरियाँ है जिसमें से 17 जमनापारी नस्ल की तथा 13 देशी नस्ल की हैं।

अब बाचलंद जमनापारी नस्ल की 25-30 बकरियो के बच्चे हर साल बेच रहा है। इससे उसे 75 हजार से एक लाख रूपये तक प्रति वर्ष आय हो रही है। यही नहीं, आज बालचंद को देशी बकरी से 500 से 600 ग्राम दूध तथा जमनापारी बकरी से 900 ग्राम से एक लीटर तक दूध मिल रहा है। इससे उसकी आर्थिक स्थिति और बेहतर हो गई है।

आज बालचंद और उसका परिवार बकरी पालन व्यवसाय को अपनाकर सुखी है और अच्छा मुनाफा भी कमा रहा है।

सफलता की कहानी (नीमच)


बिन्दु सुनील
मैकेनिक से आटो पार्टस की दुकान का मालिक बना नितिन
खेती के मुनाफे को बढ़ाने में जुटे किसान
हरदा के वनांचल में हैं सुव्यवस्थित हाई स्कूल और आकर्षक भवन
आदिवासी परिवारों के भोजन और आर्थिक उन्नति का आधार है मुनगा वृक्ष
गुरूविन्दर के मेडिकल स्टोर पर मिलने लगी हैं सभी दवायें
किसानों ने खेती को बना लिया लाभकारी व्यवसाय
ग्रामीण आजीविका मिशन से उड़की बना समृद्ध ग्राम
नूरजहाँ और राजबहादुर के कूल्हे का हुआ नि:शुल्क ऑपरेशन
सुदूर अंचल के ग्रामीणों को भी मिली इंटरनेट सुविधा
अब खिलखिलाने लगी है नन्हीं बच्ची भावना
रेज्डबेड पद्धति से 4.5 क्विंटल प्रति बीघा हुआ सोयाबीन उत्पादन
प्रधानमंत्री सड़क ने खोले रोजगार के नये द्वार
प्रधानमंत्री आवास योजना से सरस्वती बाई को मिला पक्का आवास
युवाओं को सफल उद्यमी बना रही मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना
रानी दुर्गावती महिला चिकित्सालय ने लगातार पाया एक्सीलेंस अवार्ड
खेती में नई-नई तकनीक अपना रहे हैं किसान
शौर्या दल ने घरेलू हिंसा के 240 मामले सुलझाये
खजुरिया जलाशय से 700 से अधिक किसानों को फायदा
नौकरी की बजाय स्व-रोजगार पसंद कर रहे युवा वर्ग
सरकारी मदद से घर में गूँजी किलकारी
ग्रामीण महिलाएँ गरीबी और निरक्षरता को हरा कर बनीं लखपति
पाँच रुपये में भरपेट स्वादिष्ट भोजन कराती दीनदयाल रसोई
खेती से आमदनी बढ़ाने के लिये किसान कर रहे हैं नये-नये प्रयोग
युवा बेरोजगारों को मिला स्व-रोजगार
महिला स्व-सहायता समूह कर रहे सड़कों का मेंटेनेंस
महिलाओं ने बनाया कैक्टस फार्म हाउस : लोगों को दिखाया तरक्की का नया रास्ता
डेयरी विकास योजना से रतनसिंह का जीवन हुआ खुशहाल
दीनदयाल रसोई में रोज 400-500 लोग करते हैं भरपेट स्वादिष्ट भोजन
राजूबाई के हर्बल साबुन की मुम्बई तक धूम
गुना की एन.आई.सी.यू. में 29 हजार नवजात शिशुओं को मिला नवजीवन
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...