सक्सेस स्टोरीज

जमनापारी नस्ल से बकरी पालन व्यवसाय लाभकारी बना

भोपाल : गुरूवार, दिसम्बर 28, 2017, 14:24 IST

नीमच जिले की मनासा तहसील के गाँव तलाउ निवासी मध्यम वर्गीय परिवार के बालचंद परम्परागत खेती से जैसे-तैसे अपने घर-परिवार का गुजर-बसर कर रहे थे। अब बालचंद ने खेती के साथ-साथ बकरी पालन का काम भी शुरू किया। लेकिन मन-माफिक फायदा नहीं मिलता था। एक दिन बालचंद वेटनरी डॉक्टर राजेश पाटीदार के सम्पर्क में आये तो उन्हें पशु पालन विभाग की योजना में नर जमनापारी बकरा प्रदाय के बारे में जानकारी मिली साथ ही योजना के फायदे भी समझ में आये।

बालचंद ने इस योजना का लाभ लेने की ठानी। उसने पशुपालन विभाग से सम्पर्क किया तो विभागीय योजना में उसे जमनापारी नस्ल का बकरा मिला। बालचंद ने बकरियों के जमनापारी नस्ल से बकरियों का प्रजनन करवाया। इस प्रयास से उसे बकरी पालन व्यवसाय में अच्छा लाभ होने लगा है। यह लाभ परम्परागत बकरी पालन से कई गुना अधिक है। वर्तमान में बालचंद के पास उन्नत नस्ल की 30 बकरियाँ है जिसमें से 17 जमनापारी नस्ल की तथा 13 देशी नस्ल की हैं।

अब बाचलंद जमनापारी नस्ल की 25-30 बकरियो के बच्चे हर साल बेच रहा है। इससे उसे 75 हजार से एक लाख रूपये तक प्रति वर्ष आय हो रही है। यही नहीं, आज बालचंद को देशी बकरी से 500 से 600 ग्राम दूध तथा जमनापारी बकरी से 900 ग्राम से एक लीटर तक दूध मिल रहा है। इससे उसकी आर्थिक स्थिति और बेहतर हो गई है।

आज बालचंद और उसका परिवार बकरी पालन व्यवसाय को अपनाकर सुखी है और अच्छा मुनाफा भी कमा रहा है।

सफलता की कहानी (नीमच)


बिन्दु सुनील
उद्यानिकी फसलों से राजकुमार की आय में 5 गुना वृद्धि
ग्रामीण आजीविका मिशन से तारा का परिवार बना आत्म-निर्भर
आजीविका मिशन से जुड़कर सफल कपड़ा व्यवसायी बनी अंजू धुर्वे
अब रंजना बेटी का दिल भी सामान्य बच्चों की तरह धड़कता है
होशंगाबाद के ग्राम मोरपानी की आदिवासी महिलाएँ हुईं आत्म-निर्भर
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से विवेक बना सफल व्यवसायी
ड्रिप सिंचाई से बंजर जमीन बनी उपजाऊ
स्वास्थ्य, स्वच्छता और आजीविका की बेहतरीन पहल बनी "मुस्कान " इकाई
उज्जवला योजना से शांति बाई को मिली धुएं से मुक्ति
जैविक खेती से प्रहलाद को मिला उत्कृष्ट कृषक पुरस्कार
आदिवासी कृषक दम्पत्ति को मिली ट्रैक्टर-ट्राली
उद्यानिकी एवं अंतरवर्ती फसलों से कृषक अजीत की आमदनी हुई दोगुनी
युवा उद्यमी योजना से सफल व्यवसायी बनी किरण
कियॉस्क एवं आधार सेवा सेंटर के मालिक बने दीपेश आचार्य
नि:शक्तजन विवाह प्रोत्साहन राशि से शुरू किया व्यवसाय
मत्स्य महिला कृषकों ने आत्म-निर्भरता से बनाई पहचान
उज्जवला योजना बनी गरीब महिलाओं की उजली मुस्कान
सोहागपुर में धर्मदास की है रंगीन फोटोकापी की दुकान
कृषक रामऔतार ने खेती को बनाया सर्वाधिक लाभ का व्यवसाय
किसान कल्याण का सशक्त माध्यम बनी भावांतर भुगतान योजना
झाबुआ के दल सिंह प्रगतिशील किसानों की श्रेणी में शामिल
राजपथ पर हरदा की जॉबाज दिव्या करेगी स्टंट
उज्जवला योजना से सकरी हटीला को मिली धुँए से मुक्ति
अब प्रिया स्वस्थ है और परिवार प्रफुल्लित
गुड्डी बाई अब नहीं रही बेसहारा, मिला आवास और गैस कनेक्शन
टिकरिया बनेगा लाख उत्पादक गांव
परम्परागत खेती के साथ उद्यानिकी फसल से मिला 10 लाख सालाना लाभ
पांच युवा बेरोजगारों को मिला स्व-रोजगार
आटो पार्टस कारखाने के मालिक बने शिवसागर बौरासी
निलेश ने ग्राम जामगोद में शुरू की ग्रामीण गैस एजेन्सी
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...