सक्सेस स्टोरीज

कुपोषित बच्ची के इलाज के लिये बमुश्किल राजी हुए माता-पिता

भोपाल : बुधवार, दिसम्बर 27, 2017, 14:16 IST
 

दस्तक अभियान की टीम जब धार जिले के ग्राम बंधनिया के 'मोहखोदरा फल्या' पहुँची तो उन्हें दो वर्षीय बालिका प्रमिला अति कुपोषित हालत में मिली। एएनएम और आशा कार्यकर्ता ने उसके माता-पिता पान बाई और मनीष को भरसक समझाने की कोशिश की वे एनआरसी में बालिका को भर्ती कराकर इलाज प्रारंभ करा दें। प्रमिला की माँ इसके लिये बिल्कुल तैयार नहीं हुई।

टीम ने तुरन्त इसकी सूचना दस्तक अभियान के लिये बनाये गये ब्लाक स्तरीय कन्ट्रोल रूम को दी। सूचना पर बीएमओ बाग डॉ. आर.के. शिन्दे, बीपीएम श्री अमर सिंह देवल, एनआरसीडीएफडी सुश्री अनिता मण्डलोई और कम्युनिटी मोबीलाइजर श्री वीरेन्द्र कुमार चोखारे मोबिलिटी वाहन से तुरन्त मोहखोदरा के लिये रवाना हो गये। सुश्री अनिता मण्डलोई ने बच्ची प्रमिला का पुन: परीक्षण किया और परिवारजनों को कुपोषण से होने वाले खतरों की विस्तार से जानकारी दी। लम्बी समझाईश के बाद उन्होंने परिजनों को एनआरसी में बालिका को 14 दिन तक भर्ती कराकर उपचार कराने के लिये मना लिया। टीम मोबिलिटी वाहन से ही तुरन्त बालिका प्रमिला और उसकी माँ को एनआरसी ले गई। जहाँ उसका इलाज जारी है।

प्रदेश में कुपोषित बच्चों की पहचान के लिये लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण और महिला एवं बाल विकास की संयुक्त टीमें दस्तक अभियान के तहत गाँव-गाँव जाकर बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण कर रही हैं। धार के बाग विकासखण्ड जैसी जटिल भौगोलिक परिस्थितियों वाले क्षेत्रों में अक्सर ऐसी स्थितियाँ निर्मित होती रहती हैं। इसलिए दस्तक अभियान टीम ऐसे क्षेत्रों का प्राथमिकता आधार पर सर्वेक्षण कर रही है।

सफलता की कहानी (धार)


सुनीता दुबे
उद्यानिकी फसलों से राजकुमार की आय में 5 गुना वृद्धि
ग्रामीण आजीविका मिशन से तारा का परिवार बना आत्म-निर्भर
आजीविका मिशन से जुड़कर सफल कपड़ा व्यवसायी बनी अंजू धुर्वे
अब रंजना बेटी का दिल भी सामान्य बच्चों की तरह धड़कता है
होशंगाबाद के ग्राम मोरपानी की आदिवासी महिलाएँ हुईं आत्म-निर्भर
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से विवेक बना सफल व्यवसायी
ड्रिप सिंचाई से बंजर जमीन बनी उपजाऊ
स्वास्थ्य, स्वच्छता और आजीविका की बेहतरीन पहल बनी "मुस्कान " इकाई
उज्जवला योजना से शांति बाई को मिली धुएं से मुक्ति
जैविक खेती से प्रहलाद को मिला उत्कृष्ट कृषक पुरस्कार
आदिवासी कृषक दम्पत्ति को मिली ट्रैक्टर-ट्राली
उद्यानिकी एवं अंतरवर्ती फसलों से कृषक अजीत की आमदनी हुई दोगुनी
युवा उद्यमी योजना से सफल व्यवसायी बनी किरण
कियॉस्क एवं आधार सेवा सेंटर के मालिक बने दीपेश आचार्य
नि:शक्तजन विवाह प्रोत्साहन राशि से शुरू किया व्यवसाय
मत्स्य महिला कृषकों ने आत्म-निर्भरता से बनाई पहचान
उज्जवला योजना बनी गरीब महिलाओं की उजली मुस्कान
सोहागपुर में धर्मदास की है रंगीन फोटोकापी की दुकान
कृषक रामऔतार ने खेती को बनाया सर्वाधिक लाभ का व्यवसाय
किसान कल्याण का सशक्त माध्यम बनी भावांतर भुगतान योजना
झाबुआ के दल सिंह प्रगतिशील किसानों की श्रेणी में शामिल
राजपथ पर हरदा की जॉबाज दिव्या करेगी स्टंट
उज्जवला योजना से सकरी हटीला को मिली धुँए से मुक्ति
अब प्रिया स्वस्थ है और परिवार प्रफुल्लित
गुड्डी बाई अब नहीं रही बेसहारा, मिला आवास और गैस कनेक्शन
टिकरिया बनेगा लाख उत्पादक गांव
परम्परागत खेती के साथ उद्यानिकी फसल से मिला 10 लाख सालाना लाभ
पांच युवा बेरोजगारों को मिला स्व-रोजगार
आटो पार्टस कारखाने के मालिक बने शिवसागर बौरासी
निलेश ने ग्राम जामगोद में शुरू की ग्रामीण गैस एजेन्सी
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...