सक्सेस स्टोरीज

आजीविका मिशन की कृषि सखी प्रीति बनी प्रगतिशील किसान

भोपाल : शनिवार, दिसम्बर 23, 2017, 19:19 IST

सागर जिले के देवरी विकासखण्ड के ग्राम खेरूआ की श्रीमती प्रीति आठ्या प्रगति स्व-सहायता समूह से जुड़ी हैं। बकौल प्रीति वो आज 2 लाख रुपये से अधिक की सालाना आमदनी प्राप्त कर रही हैं। उन्होने 4 कमरों का पक्का मकान और घरेलू विस्तार के लिये बोरिंग कराने का काम लगाया है।

प्रीति के घर में 4 एकड़ असिंचित जमीन थी, जिसमें परंपरागत तकनीक से सोयाबीन, चना और मसूर की खेती होती थी। घर के आठ सदस्यों का पेट भरने का एकमात्र जरिया यही खेती थी। प्रीति ने आजीविका मिशन से जुड़ने पर कृषि सखी का प्रशिक्षण प्राप्त किया। इस प्रशिक्षण में उन्हे खेती में कम लागत से अधिक उत्पादन लेने की तकनीक की जानकारी मिली। इस जानकारी का पहला प्रयोग उन्होने अपने ही घर की खेती को सुधारने में किया।

प्रीति को पहले खेती से प्राप्त आमदनी घर चलाने के लिये पूरी नहीं पड़ती थी। इस कारण घर के वयस्क सदस्यों के साथ मिलकर मजदूरी भी करती थी। प्रीति ने 9 हजार रूपये समूह से उधार लिये और अपने 4 एकड़ खेत के साथ-साथ अधिया पर 2 एकड़ जमीन लेकर सोयाबीन लगाया। सोयाबीन से उन्हे 50 हजार रूपये की आमदनी हुई। उन्होने अपने खेत में इस लागत से कुआं खुदवाना शुरू कर दिया और पहली बार लहसुन और प्याज लगाया। अकेले लहसुन से उन्हे 2,50,000 रूपये प्राप्त हुए। बाकी फसलों ने उनको मजदूरी से छुटकारा दिलवा दिया है।

प्रीति को पहली बार घर में इतनी बड़ी रकम फसलों को बेचकर प्राप्त हुई, तो घर के सभी सदस्य उत्साहित थे। घर के लोगों ने प्रीति की सलाह पर 8 एकड़ रकबे में (4 एकड़ अधिया) सब्जी की खेती शुरू की। प्रीति को आजीविका मिशन से उन्नत खेती के गुर प्राप्त हो गये थे, जिनको अपनाकर उसने अपने परिवार का जीवन बदल दिया है।

प्रीति का परिवार आज बहुत खुशहाल है। प्रीति ने खेती में अपनाये तरीकों को कृषि सखी के रूप में अपने गांव के अलावा आस-पास के बाडी, विछुआ, पथरिया, खैरीपदम, पिपरिया, रसेना, सगरा, सिमरिया, बिजौरा के महिला स्व-सहायता समूहों में जाकर बताना शुरू किया है। समूह की महिलाओं को उसने भूमिगत नाडेप, मडका दवा, जिव्रलिक एसिड, बहु-फसली तकनीक बताई है। स्वयं महिलाओं की मदद से प्रदर्शन प्लॉट बनाये, पोषण वाटिकायें, श्रीविधि से गेंहू, हल्दी की खेती शुरू की। इससे उनके गांव के अलावा कई गावं के लोग उन्हे व्यक्तिगत रूप से कृषि का जानकार मानने लगे हैं। प्रीति ने अपने गांव के अलावा आसपास के 60 एकड़ में प्याज और लहसुन की खेती की शुरूआत की है और समूह की महिलाओं को लाभ की फसल से जोड़ा है।

 सफलता की कहानी (सागर)


महेश दुबे
उद्यानिकी फसलों से राजकुमार की आय में 5 गुना वृद्धि
ग्रामीण आजीविका मिशन से तारा का परिवार बना आत्म-निर्भर
आजीविका मिशन से जुड़कर सफल कपड़ा व्यवसायी बनी अंजू धुर्वे
अब रंजना बेटी का दिल भी सामान्य बच्चों की तरह धड़कता है
होशंगाबाद के ग्राम मोरपानी की आदिवासी महिलाएँ हुईं आत्म-निर्भर
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से विवेक बना सफल व्यवसायी
ड्रिप सिंचाई से बंजर जमीन बनी उपजाऊ
स्वास्थ्य, स्वच्छता और आजीविका की बेहतरीन पहल बनी "मुस्कान " इकाई
उज्जवला योजना से शांति बाई को मिली धुएं से मुक्ति
जैविक खेती से प्रहलाद को मिला उत्कृष्ट कृषक पुरस्कार
आदिवासी कृषक दम्पत्ति को मिली ट्रैक्टर-ट्राली
उद्यानिकी एवं अंतरवर्ती फसलों से कृषक अजीत की आमदनी हुई दोगुनी
युवा उद्यमी योजना से सफल व्यवसायी बनी किरण
कियॉस्क एवं आधार सेवा सेंटर के मालिक बने दीपेश आचार्य
नि:शक्तजन विवाह प्रोत्साहन राशि से शुरू किया व्यवसाय
मत्स्य महिला कृषकों ने आत्म-निर्भरता से बनाई पहचान
उज्जवला योजना बनी गरीब महिलाओं की उजली मुस्कान
सोहागपुर में धर्मदास की है रंगीन फोटोकापी की दुकान
कृषक रामऔतार ने खेती को बनाया सर्वाधिक लाभ का व्यवसाय
किसान कल्याण का सशक्त माध्यम बनी भावांतर भुगतान योजना
झाबुआ के दल सिंह प्रगतिशील किसानों की श्रेणी में शामिल
राजपथ पर हरदा की जॉबाज दिव्या करेगी स्टंट
उज्जवला योजना से सकरी हटीला को मिली धुँए से मुक्ति
अब प्रिया स्वस्थ है और परिवार प्रफुल्लित
गुड्डी बाई अब नहीं रही बेसहारा, मिला आवास और गैस कनेक्शन
टिकरिया बनेगा लाख उत्पादक गांव
परम्परागत खेती के साथ उद्यानिकी फसल से मिला 10 लाख सालाना लाभ
पांच युवा बेरोजगारों को मिला स्व-रोजगार
आटो पार्टस कारखाने के मालिक बने शिवसागर बौरासी
निलेश ने ग्राम जामगोद में शुरू की ग्रामीण गैस एजेन्सी
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...