सक्सेस स्टोरीज

वर्षों से बिछड़े पति को देख खुशी से रो पड़ीं राजलक्ष्मी

सी.एम. हेल्पलाइन ने पुडुचेरी से बिछुड़े बैद्यनाथन को परिजन से मिलाया

भोपाल : शनिवार, दिसम्बर 23, 2017, 19:23 IST

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा प्रारंभ की गई सी.एम. हेल्पलाइन (181 टोल-फ्री) सेवा आमजन के आसपास की समस्याओं/शिकायतों के त्वरित निराकरण के लिए काफी प्रभावी व्यवस्था के रूप में कामयाब हुई है। यह सेवा सामान्य शिकायतों एवं समस्याओं का निराकरण कर रही है। बैतूल में 9 साल से परिवार से बिछुड़े पुडुचेरी निवासी डॉ. बैद्यनाथन अकेले रह रहे थे। डॉ. बैद्यनाथन को उनके परिजन से मिलाने में सी.एम. हेल्पलाइन में एक व्यक्ति द्वारा कराई शिकायत ने अहम् भूमिका निभाई।

विगत 9 जून, 2017 को बैतूल के श्री नरेन्द्र कुमार द्वारा की गई शिकायत के आधार पर मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा सी.एम. हेल्पलाइन में शिकायत की प्रविष्टि कराई गई कि ग्राम उड़दन में संचालित शिशु गृह एवं वृद्धाश्रम में करीब 5 वर्ष पूर्व एक व्यक्ति को लाया गया था, जो अपनी याददास्त खो चुका है एवं उसकी मानसिक स्थिति भी ठीक नहीं है। उसके द्वारा स्वयं के बारे में भी जानकारी नहीं दी जा पा रही है। उक्त मामले की उचित जांच की जाए। उक्त शिकायत विभिन्न स्तर से गुजरते हुए सी.एम. हेल्पलाइन के एल-3 स्तर के अधिकारी मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत के कार्यालय में पहुँची।

मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत द्वारा वृद्धाश्रम पहुँचकर जब समूचे प्रकरण की छानबीन की गई तो यह तथ्य प्रकाश में आया कि अपनी याददाश्त खो चुके डॉ. बैद्यनाथन तमिल एवं अंग्रेजी में कुछ अस्पष्ट बोलते हैं, जो समझ पाना संभव नहीं था। उनके द्वारा लिखे गए कागजों में पुडुचेरी निवासी होने की जानकारी मिली। जिला पंचायत कार्यालय द्वारा इस मामले में रुचि लेते हुए इंटरनेट के माध्यम से पुडुचेरी के सामाजिक संगठनों के दूरभाष नम्बरों की तलाश कर उनसे सम्पर्क किया गया। एक सामाजिक संगठन द्वारा पुडुचेरी पुलिस अधीक्षक सुश्री रचना सिंह का मोबाइल नम्बर दिया गया, जिनसे सम्पर्क करने पर उन्होंने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए डॉ. बैद्यनाथन के परिजनों को ढूंढ निकाला।

जब घर से लापता डॉ. बैद्यनाथन के बैतूल में होने की जानकारी उनके परिजन को दी गई तो वे खुशीमिश्रित आश्चर्य से झूम उठे। डॉ. बैद्यनाथन की पत्नी श्रीमती राजलक्ष्मी, उनका भाई एवं भतीजा एवं पुडुचेरी पुलिस के अधिकारी 11 दिसम्बर, 2017 को बैतूल पहुँचे एवं डॉ. वैद्यनाथन से मिले।

सफलता की कहानी (बैतूल)


राजेश पाण्डेय/सुरेन्द्र तिवारी
उद्यानिकी फसलों से राजकुमार की आय में 5 गुना वृद्धि
ग्रामीण आजीविका मिशन से तारा का परिवार बना आत्म-निर्भर
आजीविका मिशन से जुड़कर सफल कपड़ा व्यवसायी बनी अंजू धुर्वे
अब रंजना बेटी का दिल भी सामान्य बच्चों की तरह धड़कता है
होशंगाबाद के ग्राम मोरपानी की आदिवासी महिलाएँ हुईं आत्म-निर्भर
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से विवेक बना सफल व्यवसायी
ड्रिप सिंचाई से बंजर जमीन बनी उपजाऊ
स्वास्थ्य, स्वच्छता और आजीविका की बेहतरीन पहल बनी "मुस्कान " इकाई
उज्जवला योजना से शांति बाई को मिली धुएं से मुक्ति
जैविक खेती से प्रहलाद को मिला उत्कृष्ट कृषक पुरस्कार
आदिवासी कृषक दम्पत्ति को मिली ट्रैक्टर-ट्राली
उद्यानिकी एवं अंतरवर्ती फसलों से कृषक अजीत की आमदनी हुई दोगुनी
युवा उद्यमी योजना से सफल व्यवसायी बनी किरण
कियॉस्क एवं आधार सेवा सेंटर के मालिक बने दीपेश आचार्य
नि:शक्तजन विवाह प्रोत्साहन राशि से शुरू किया व्यवसाय
मत्स्य महिला कृषकों ने आत्म-निर्भरता से बनाई पहचान
उज्जवला योजना बनी गरीब महिलाओं की उजली मुस्कान
सोहागपुर में धर्मदास की है रंगीन फोटोकापी की दुकान
कृषक रामऔतार ने खेती को बनाया सर्वाधिक लाभ का व्यवसाय
किसान कल्याण का सशक्त माध्यम बनी भावांतर भुगतान योजना
झाबुआ के दल सिंह प्रगतिशील किसानों की श्रेणी में शामिल
राजपथ पर हरदा की जॉबाज दिव्या करेगी स्टंट
उज्जवला योजना से सकरी हटीला को मिली धुँए से मुक्ति
अब प्रिया स्वस्थ है और परिवार प्रफुल्लित
गुड्डी बाई अब नहीं रही बेसहारा, मिला आवास और गैस कनेक्शन
टिकरिया बनेगा लाख उत्पादक गांव
परम्परागत खेती के साथ उद्यानिकी फसल से मिला 10 लाख सालाना लाभ
पांच युवा बेरोजगारों को मिला स्व-रोजगार
आटो पार्टस कारखाने के मालिक बने शिवसागर बौरासी
निलेश ने ग्राम जामगोद में शुरू की ग्रामीण गैस एजेन्सी
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...