सक्सेस स्टोरीज

पॉलीथीन का विकल्प डी-कम्पोजिवल बैग बनाती हैं महिलायें

भोपाल : शुक्रवार, दिसम्बर 22, 2017, 16:10 IST

 

दीनदयाल राष्ट्रीय आजीविका मिशन से मिली मदद से दूसरों के घरों में झाड़ू-पोंछा और बर्तन मांजने वाली महिलायें अब पॉलीथिन बैग के विकल्प के रूप में विशेष डी-कम्पोजिबल थैले बनाने का काम कर आत्मनिर्भर हो गई हैं। साथ ही शहर को पॉलीथिन मुक्त बनाने में भी जुटी हैं।

ग्वालियर शहर की हरिशंकरपुरम कॉलोनी में नगर निगम ने कम्युनिटी हॉल में इन महिलाओं को फिलहाल अपना कारोबार चलाने के लिये जगह दी है। चंद्रबदनी नाका एवं उससे सटी अन्य मलिन बस्तियों की निवासी इन 15 महिलाओं ने आस वेलफेयर फाउण्डेशन की मदद से अपना स्व-सहायता समूह गठित किया है। इस संस्था की प्रमुख श्रीमती अनुराधा घोड़के ने समूह की महिलाओं को और समूह संचालन का प्रशिक्षण दिलाया है।

मध्यप्रदेश सरकार द्वारा पर्यावरण संरक्षण को ध्यान में रखकर पॉलीथिन बैग के इस्तेमाल को रोकने का फैसला किया है। महिलाओं का यह समूह सरकार की इस मंशा को पूरा करने में जुटा है। नगर निगम ग्वालियर ने राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के तहत इस महिला समूह को तीन सिलाई मशीन दिलाई हैं। समूह द्वारा निर्मित विशेष कपड़े के थैले पूरी तरह डी-कम्पॉसिबल हैं, जो इस्तेमाल के बाद आसानी से नष्ट किए जा सकते हैं। जाहिर है पॉलीथिन बैग की तरह ये पर्यावरण को हानि नहीं पहुँचाते। साथ ही प्रदूषण और गंदगी का कारण भी नहीं बनते।

समूह की अध्यक्ष राधा झा और सचिव छुट्टन सभी महिलायें प्रतिदिन साथ काम करती हैं। नियमित बैठक कर अपनी आर्थिक गतिविधि को और ऊँचाईयाँ देने पर विचार मंथन करती हैं। समूह की इन सदस्यों का जीवन स्तर ऊँचा हो गया है।

आस वेलफेयर फाउण्डेशन की प्रमुख अनुराधा घोड़के बताती हैं कि समूह द्वारा निर्मित कपड़े के लगभग साढ़े तीन हजार थैले नगर निगम ने खरीद लिए हैं। साथ ही शहर के कारोबारियों और दुकानदारों को भी यह थैले खरीदने के लिये प्रोत्साहित किया जा रहा है। इस महिला स्व-सहायता समूह द्वारा निर्मित थैले ग्वालियर शहर को पॉलीथिन मुक्त बनाने में अहम भूमिका निभा रहे हैं।

सफलता की कहानी (ग्वालियर)


हितेन्द्र भदौरिया/बिन्दु सुनील
उद्यानिकी फसलों से राजकुमार की आय में 5 गुना वृद्धि
ग्रामीण आजीविका मिशन से तारा का परिवार बना आत्म-निर्भर
आजीविका मिशन से जुड़कर सफल कपड़ा व्यवसायी बनी अंजू धुर्वे
अब रंजना बेटी का दिल भी सामान्य बच्चों की तरह धड़कता है
होशंगाबाद के ग्राम मोरपानी की आदिवासी महिलाएँ हुईं आत्म-निर्भर
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से विवेक बना सफल व्यवसायी
ड्रिप सिंचाई से बंजर जमीन बनी उपजाऊ
स्वास्थ्य, स्वच्छता और आजीविका की बेहतरीन पहल बनी "मुस्कान " इकाई
उज्जवला योजना से शांति बाई को मिली धुएं से मुक्ति
जैविक खेती से प्रहलाद को मिला उत्कृष्ट कृषक पुरस्कार
आदिवासी कृषक दम्पत्ति को मिली ट्रैक्टर-ट्राली
उद्यानिकी एवं अंतरवर्ती फसलों से कृषक अजीत की आमदनी हुई दोगुनी
युवा उद्यमी योजना से सफल व्यवसायी बनी किरण
कियॉस्क एवं आधार सेवा सेंटर के मालिक बने दीपेश आचार्य
नि:शक्तजन विवाह प्रोत्साहन राशि से शुरू किया व्यवसाय
मत्स्य महिला कृषकों ने आत्म-निर्भरता से बनाई पहचान
उज्जवला योजना बनी गरीब महिलाओं की उजली मुस्कान
सोहागपुर में धर्मदास की है रंगीन फोटोकापी की दुकान
कृषक रामऔतार ने खेती को बनाया सर्वाधिक लाभ का व्यवसाय
किसान कल्याण का सशक्त माध्यम बनी भावांतर भुगतान योजना
झाबुआ के दल सिंह प्रगतिशील किसानों की श्रेणी में शामिल
राजपथ पर हरदा की जॉबाज दिव्या करेगी स्टंट
उज्जवला योजना से सकरी हटीला को मिली धुँए से मुक्ति
अब प्रिया स्वस्थ है और परिवार प्रफुल्लित
गुड्डी बाई अब नहीं रही बेसहारा, मिला आवास और गैस कनेक्शन
टिकरिया बनेगा लाख उत्पादक गांव
परम्परागत खेती के साथ उद्यानिकी फसल से मिला 10 लाख सालाना लाभ
पांच युवा बेरोजगारों को मिला स्व-रोजगार
आटो पार्टस कारखाने के मालिक बने शिवसागर बौरासी
निलेश ने ग्राम जामगोद में शुरू की ग्रामीण गैस एजेन्सी
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...