सक्सेस स्टोरीज

डेयरी विकास योजना ने राजेन्द्र सिंह को बनाया सफल दुग्ध व्यवसायी

भोपाल : गुरूवार, दिसम्बर 21, 2017, 12:46 IST

 

मध्यप्रदेश के अन्तिम छोर पर पथरीली बंजर भूमि पर बसे ग्राम अंगारी तहसील-सुवासरा, जिला मंदसौर के किसान राजेन्द्र सिंह देवड़ा पर्याप्त कृषि भूमि, बिजली एवं सिंचाई के संसाधनों की उपलब्धता के बाद भी निरन्तर घटती जा रही आमदनी के कारण चिंतित रहते थे। एक दिन गांव के पास ही पशु चिकित्सा शिविर लगा तो वहां पहुंच गये। जहां उन्हें पशुपालन विभाग की हितग्राही मूलक आचार्य विद्यासागर गौ-संवर्धन डेयरी विकास योजना की विस्तृत जानकारी मिली। राजेन्द्र सिंह ने इस योजना में आवेदन किया। प्रकरण स्वीकृत होने पर उन्हें बैंक से 8 लाख 40 हजार का ऋण और पशुपालन विभाग से 1 लाख 50 हजार रूपये का अनुदान मिला।

राजेन्द्र सिंह ने प्राप्त धन राशि से 3 घरेलू और 10 अन्य उन्नत नस्ल की भेंस खरीद कर दूध डेयरी खोली। तब इन्हें दुग्ध व्यवसाय का व्यापारिक महत्व समझ में आया। बचपन से ही पशुपालन का अनुभव होने से हितग्राही को कामयाबी हासिल हुई। देखते ही देखते पिछले एक वर्ष में राजेन्द्र सिंह का दुग्ध व्यवसाय चल निकला। अब पशुपालन के कारण अपनी खुद की डेयरी से रोजाना 70 से 80 लीटर दूध बेचकर 2700 रूपये तक कमा रहे हैं।

सफलता के इस सफर में एक कड़ी और तब जुड़ गई, जब इन्होंने कुछ और पशुपालकों को जोड़कर दुग्ध संग्रहण केन्द्र प्रारंभ किया। प्रबंधित पशुपालन के जरिये धीरे-धीरे पूरे गांव की जीवन रेखा को बदल दिया। पशुओं से प्राप्त अन्य उत्पाद गोबर और मूत्र से उन्नत किस्म की जैविक खाद तैयार कर मिट्टी की उर्वर क्षमता में अभूतपूर्व इजाफा किया। उद्यानिकीय और औषधीय फसलों के उत्पादन से राजेन्द्र सिंह एवं गाँव के अन्य किसान बहुत खुश हैं। इससे गांव के विकास में तेजी दिखाई दे रही है।

अब राजेन्द्र सिंह देवड़ा अपने द्दढ़ संकल्पित प्रयासों के कारण क्षेत्र में युवा दुग्ध व्यवसायी के रूप में जाने जाते हैं। अपनी उपलब्धि के लिए वे आचार्य विद्यासागर गौ-संवर्धन डेयरी विकास योजना को श्रेय दे रहे हैं।

सफलता की कहानी (मंदसौर)


राजेश पाण्डेय
उद्यानिकी फसलों से राजकुमार की आय में 5 गुना वृद्धि
ग्रामीण आजीविका मिशन से तारा का परिवार बना आत्म-निर्भर
आजीविका मिशन से जुड़कर सफल कपड़ा व्यवसायी बनी अंजू धुर्वे
अब रंजना बेटी का दिल भी सामान्य बच्चों की तरह धड़कता है
होशंगाबाद के ग्राम मोरपानी की आदिवासी महिलाएँ हुईं आत्म-निर्भर
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से विवेक बना सफल व्यवसायी
ड्रिप सिंचाई से बंजर जमीन बनी उपजाऊ
स्वास्थ्य, स्वच्छता और आजीविका की बेहतरीन पहल बनी "मुस्कान " इकाई
उज्जवला योजना से शांति बाई को मिली धुएं से मुक्ति
जैविक खेती से प्रहलाद को मिला उत्कृष्ट कृषक पुरस्कार
आदिवासी कृषक दम्पत्ति को मिली ट्रैक्टर-ट्राली
उद्यानिकी एवं अंतरवर्ती फसलों से कृषक अजीत की आमदनी हुई दोगुनी
युवा उद्यमी योजना से सफल व्यवसायी बनी किरण
कियॉस्क एवं आधार सेवा सेंटर के मालिक बने दीपेश आचार्य
नि:शक्तजन विवाह प्रोत्साहन राशि से शुरू किया व्यवसाय
मत्स्य महिला कृषकों ने आत्म-निर्भरता से बनाई पहचान
उज्जवला योजना बनी गरीब महिलाओं की उजली मुस्कान
सोहागपुर में धर्मदास की है रंगीन फोटोकापी की दुकान
कृषक रामऔतार ने खेती को बनाया सर्वाधिक लाभ का व्यवसाय
किसान कल्याण का सशक्त माध्यम बनी भावांतर भुगतान योजना
झाबुआ के दल सिंह प्रगतिशील किसानों की श्रेणी में शामिल
राजपथ पर हरदा की जॉबाज दिव्या करेगी स्टंट
उज्जवला योजना से सकरी हटीला को मिली धुँए से मुक्ति
अब प्रिया स्वस्थ है और परिवार प्रफुल्लित
गुड्डी बाई अब नहीं रही बेसहारा, मिला आवास और गैस कनेक्शन
टिकरिया बनेगा लाख उत्पादक गांव
परम्परागत खेती के साथ उद्यानिकी फसल से मिला 10 लाख सालाना लाभ
पांच युवा बेरोजगारों को मिला स्व-रोजगार
आटो पार्टस कारखाने के मालिक बने शिवसागर बौरासी
निलेश ने ग्राम जामगोद में शुरू की ग्रामीण गैस एजेन्सी
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...