सक्सेस स्टोरीज

कौशल्या ने पिता को किया कर्जमुक्त

भोपाल : गुरूवार, दिसम्बर 21, 2017, 12:41 IST

 

सागर जिले के केसली ब्लॉक के ग्राम जेतपुर डोमा निवासी थम्मन सिंह को अपनी बेटी पर नाज़ है। उनका कहना है कि उनकी बेटी कौशल्या आज ना सिर्फ बेटों जैसा कमाकर अपने पिता के कंधे से कंधा मिलाकर घर चलाने में मदद कर रही हैं, बल्कि उसकी मेहनत ने मुझे कर्ज से मुक्त कर दिया है।

कौशल्या ने 10वीं तक शिक्षा प्राप्त की है। उसने दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल विकास योजना के अंतर्गत हॉस्पेटिलिटी ट्रेड में तीन माह का प्रशिक्षण लिया। इस आवासी प्रशिक्षण में उसे कस्टमर-डीलिंग, हाउस-कीपिंग, रिसेप्शन, औपचारिक अंग्रेजी बोलचाल,, काउंसिलिंग, कम्प्यूटर परिचालन विषयों पर प्रेक्टिकल एवं थ्योरी ज्ञान दिया गया। ये प्रशिक्षण विभिन्न संस्थाओं के माध्यम से आजीविका मिशन आयोजित करता है। प्रशिक्षण के बाद कौशल्या को अहमदाबाद (गुजरात) की कम्पनी में नौकरी मिली। इस कम्पनी में उसे कार्य के दौरान चाय-नाश्ता, भोजन एवं कम्पनी द्वारा ही संचालित हॉस्टल में आवास एवं रात्रि भोजन की सुविधा उपलब्ध होती थी। कौशल्या के पिता थम्मन सिंह ने अपने पारिवारिक विवाद के निपटान के लिये व्यापारी से ब्याज पर कर्ज उठाया था, जिसको चुकाना उन्हें भारी पड़ रहा था।

बेटी अपने पिता के दर्द से भली-भाँति परिचित थी। उसने फरवरी, 2017 में अपनी पहली तनख्वाह में से पाँच हजार रुपये पिता को भेजे। माह फरवरी के वेतन में उसके सामने दो विकल्प थे या तो वो होली मनाने अपने घर जाये, लेकिन आने-जाने, कपड़ा, मिठाई में 2 से 3 हजार रुपये खर्च होने की आशंका थी। दूसरा था वेतन से 5 हजार और होली में ओवर टाइम ड्यूटी करके कमाये अतिरिक्त दो हजार कुल मिलाकर 7 हजार रुपये पिता को भेजे और उन्हें साहूकार के चंगुल से मुक्त करे।

बेटी ने दूसरे विकल्प को चुनते हुए अपने पिता को कर्जमुक्त कर दिया। थम्मन सिंह का कहना है कि मेरे दो बेटे, तीन बेटियाँ हैं। कौशल्या इन सब में सबसे छोटी है जो छोटी ने कर दिखाया, बड़े नहीं कर पाये। डबडबाती आँखों से उन्होंने कहा कि मेरी बेटी बेटों से कम नहीं है।

सफलता की कहानी (सागर)


बिन्दु सुनील
युवा उद्यमी योजना से सफल व्यवसायी बनी किरण
कियॉस्क एवं आधार सेवा सेंटर के मालिक बने दीपेश आचार्य
नि:शक्तजन विवाह प्रोत्साहन राशि से शुरू किया व्यवसाय
मत्स्य महिला कृषकों ने आत्म-निर्भरता से बनाई पहचान
उज्जवला योजना बनी गरीब महिलाओं की उजली मुस्कान
सोहागपुर में धर्मदास की है रंगीन फोटोकापी की दुकान
कृषक रामऔतार ने खेती को बनाया सर्वाधिक लाभ का व्यवसाय
किसान कल्याण का सशक्त माध्यम बनी भावांतर भुगतान योजना
झाबुआ के दल सिंह प्रगतिशील किसानों की श्रेणी में शामिल
राजपथ पर हरदा की जॉबाज दिव्या करेगी स्टंट
उज्जवला योजना से सकरी हटीला को मिली धुँए से मुक्ति
अब प्रिया स्वस्थ है और परिवार प्रफुल्लित
गुड्डी बाई अब नहीं रही बेसहारा, मिला आवास और गैस कनेक्शन
टिकरिया बनेगा लाख उत्पादक गांव
परम्परागत खेती के साथ उद्यानिकी फसल से मिला 10 लाख सालाना लाभ
पांच युवा बेरोजगारों को मिला स्व-रोजगार
आटो पार्टस कारखाने के मालिक बने शिवसागर बौरासी
निलेश ने ग्राम जामगोद में शुरू की ग्रामीण गैस एजेन्सी
वैभव अब हैं विश्वकर्मा फुड प्रोडक्ट्स के मालिक
देवेन्द्र का कियॉस्क उद्यमिता के जुनून की पहचान बना
युवा उद्यमी निखिल का नमकीन व्यवसाय बना बेकरी उद्योग
आजीविका मिशन से एक परिवार की 4 बेटियाँ बनीं आत्म-निर्भर
नि:शुल्क संकल्प कोचिंग की छात्रा दिव्या जैन बनी सूबेदार स्टेनो
स्प्रिंकलर सिंचाई से अमरूद और मूसली की लाभकारी खेती
हाकी खिलाड़ी खुशबू को मिलेगा पक्का आशियाना
राजघाट नहर प्रणाली से किसान हुए समृद्ध
हर बच्चे की नींव मजबूत करने देवास जिले में लागू हुई शाला सिद्धि योजना
नेत्र ज्योति के साथ मंजू के जीवन में भी लौटीं खुशियाँ
दोना-पत्तल व्यवसाय से बहुत खुश है सागर
मुख्यमंत्री युवा उद्यमी योजना ने सारिका को बनाया कलर उद्यमी
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...