सक्सेस स्टोरीज

फ्लेसिड और मोटर डिले बिमारी से ग्रसित मासूम ऋषभ को मिला नि:शुल्क उपचार

भोपाल : गुरूवार, दिसम्बर 21, 2017, 15:52 IST

 

मासूम ऋषभ पिता सुखदेव महोबे जन्म से ही फ्लेसिड एवं मोटर डिले से ग्रसित था। जन्म के समय जब वो रोया नहीं तो मां ज्योति और परिजन घबरा गए। ज्योति के पति सुखदेव महोबे ड्रायवर हैं। सुखदेव की आमदनी भी ज्यादा नहीं है। कहीं बाहर उपचार कराना इनके लिये संभव नहीं था। ऋषभ की स्थिति को देखते हुए सामुदायिक स्वास्थ्य केंन्द्र चिकित्सकों ने बताया कि ऋषभ फ्लेसिड (अंगो का लुंजपुंजपन) एवं शरीर के विकास की धीमी गति (मोटर डिले) बीमारी से ग्रसित है।

ऋषभ को 15 दिन एस.एन.सी.यू. (गहन शिशु चिकित्सा इकाई) में भर्ती किया गया। ऋषभ ने रोना तो शुरू किया किन्तु उसे बहुत ज्यादा झटके आने लगे। तत्कालीन जिला टीकाकरण अधिकारी एवं वरिष्ठ शिशु रोग विशेषज्ञ द्वारा ऋषभ पर विशेष ध्यान देकर उपचार किया गया। चिकित्सकों ने परिजनों को बताया कि इस प्रकार की बीमारी में बच्चा धीरे-धीरे सीखेगा उसकी प्रगति देर से होगी।

इस बीच मई 2016 में सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र आमला में आर.बी.एस.के. (राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम) का शिविर हुआ। ऋषभ को लेकर माता-पिता पहुंचे। चिकित्सकों ने डी.ई.आई.सी. सेंटर (जिला शीध्र हस्ताक्षेप केन्द्र) बैतूल ले जाने की सलाह दी एवं संपूर्ण जानकारी से अवगत कराया। ज्योति ऋषभ को लेकर उपचार हेतु जिला शीघ्र हस्तक्षेप केन्द्र में आने लगी। यहां ज्योति को डी.ई.आई.सी. ने धीरज रखकर रोज आने के लिये परामर्श दिया। अब ज्योति को ऋषभ में थोड़ा सुधार परिलक्षित हुआ तो वह रोज आने लगी।

ज्योति के चेहरे पर असीम मुस्कान और संतोष के भाव हैं। वह कहती हैं कि जिला शीघ्र हस्तक्षेप केन्द्र में कार्यरत स्टाफ का व्यवहार बहुत सहयोगात्मक है। ऋषभ को मिली नि:शुल्क सहायता और सेवा से ज्योति बहुत प्रसन्न है। अब ऋषभ गर्दन सम्भाल लेता है, बैठ जाता है, खड़ा भी हो जाता है और मम्मी-पापा, अम भी बोल लेता है। अब मां को विश्वास है कि ऋषभ भी सामान्य बच्चे की तरह एक दिन स्कूल जायेगा। उनके सूने जीवन में उजियारा करेगा।


सुनीता दुबे
उद्यानिकी फसलों से राजकुमार की आय में 5 गुना वृद्धि
ग्रामीण आजीविका मिशन से तारा का परिवार बना आत्म-निर्भर
आजीविका मिशन से जुड़कर सफल कपड़ा व्यवसायी बनी अंजू धुर्वे
अब रंजना बेटी का दिल भी सामान्य बच्चों की तरह धड़कता है
होशंगाबाद के ग्राम मोरपानी की आदिवासी महिलाएँ हुईं आत्म-निर्भर
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से विवेक बना सफल व्यवसायी
ड्रिप सिंचाई से बंजर जमीन बनी उपजाऊ
स्वास्थ्य, स्वच्छता और आजीविका की बेहतरीन पहल बनी "मुस्कान " इकाई
उज्जवला योजना से शांति बाई को मिली धुएं से मुक्ति
जैविक खेती से प्रहलाद को मिला उत्कृष्ट कृषक पुरस्कार
आदिवासी कृषक दम्पत्ति को मिली ट्रैक्टर-ट्राली
उद्यानिकी एवं अंतरवर्ती फसलों से कृषक अजीत की आमदनी हुई दोगुनी
युवा उद्यमी योजना से सफल व्यवसायी बनी किरण
कियॉस्क एवं आधार सेवा सेंटर के मालिक बने दीपेश आचार्य
नि:शक्तजन विवाह प्रोत्साहन राशि से शुरू किया व्यवसाय
मत्स्य महिला कृषकों ने आत्म-निर्भरता से बनाई पहचान
उज्जवला योजना बनी गरीब महिलाओं की उजली मुस्कान
सोहागपुर में धर्मदास की है रंगीन फोटोकापी की दुकान
कृषक रामऔतार ने खेती को बनाया सर्वाधिक लाभ का व्यवसाय
किसान कल्याण का सशक्त माध्यम बनी भावांतर भुगतान योजना
झाबुआ के दल सिंह प्रगतिशील किसानों की श्रेणी में शामिल
राजपथ पर हरदा की जॉबाज दिव्या करेगी स्टंट
उज्जवला योजना से सकरी हटीला को मिली धुँए से मुक्ति
अब प्रिया स्वस्थ है और परिवार प्रफुल्लित
गुड्डी बाई अब नहीं रही बेसहारा, मिला आवास और गैस कनेक्शन
टिकरिया बनेगा लाख उत्पादक गांव
परम्परागत खेती के साथ उद्यानिकी फसल से मिला 10 लाख सालाना लाभ
पांच युवा बेरोजगारों को मिला स्व-रोजगार
आटो पार्टस कारखाने के मालिक बने शिवसागर बौरासी
निलेश ने ग्राम जामगोद में शुरू की ग्रामीण गैस एजेन्सी
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...