social media accounts







सक्सेस स्टोरीज

अब सुन-बोल सकता है छ: वर्षीय आदर्श

भोपाल : बुधवार, दिसम्बर 20, 2017, 12:26 IST

 

झाबुआ जिले के पेटलावद ब्लाक के ग्राम करवड निवासी 6 वर्षीय बालक आदर्श के पिता विजय मिस्त्री खेती-बाड़ी से जीवन-यापन करते हैं। घर में 6 वर्ष पहले जब बेटा पैदा हुआ, तो खूब जश्न मनाया गया। रिश्तेदारों एवं परिवारजनों ने खुशियां मनाई, लेकिन खुशियां उस समय मायूसी में बदल गईं, जब पता चला कि बेटा आदर्श जन्म से ही गूंगा एवं बहरा है। इस कारण वह बोल और सुन नहीं पाएगा। बच्चे के भविष्य को लेकर हमेशा चिंतित रहने लगे। विजय मिस्त्री। इनके पास इतने पैसे भी नहीं थे कि बच्चे का ऑपरेशन करवा पाते।

गांव में स्वास्थ्य विभाग की आरबीएसके टीम पहुँची तो विजय ने बच्चे का परीक्षण करवाया। टीम ने इन्हें बताया कि इसका इलाज हो सकता है और वह भी निःशुल्क। आरबीएसके में मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना के अंतर्गत बच्चे का ऑपरेशन हो जायेगा और आपका बेटा आदर्श भी दूसरे सामान्य बच्चों की तरह बोल और सुन सकेगा। आरबीएसके की टीम के डॉक्टर द्वारा समझाने पर विजय ने बच्चे का ऑपरेशन करवाया। ऑपरेशन के बाद जैसे ही पहली बार 6 वर्षीय आदर्श की आवाज पिता विजय मिस्त्री के कानों में पड़ी तो उनके आंसू छलक पड़े। बच्चे ने पिता की आवाज सुनी और मुस्कुरा कर बोलकर जवाब भी दिया।

आज आदर्श सुन एवं बोल सकता है। यह संभव हुआ है मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना से। यह योजना विजय मिस्त्री जैसे लाखों परिवारों के लिए वरदान है।

 सफलता की कहानी (झाबुआ)   


सुनीता दुबे
मैकेनिक से आटो पार्टस की दुकान का मालिक बना नितिन
खेती के मुनाफे को बढ़ाने में जुटे किसान
हरदा के वनांचल में हैं सुव्यवस्थित हाई स्कूल और आकर्षक भवन
आदिवासी परिवारों के भोजन और आर्थिक उन्नति का आधार है मुनगा वृक्ष
गुरूविन्दर के मेडिकल स्टोर पर मिलने लगी हैं सभी दवायें
किसानों ने खेती को बना लिया लाभकारी व्यवसाय
ग्रामीण आजीविका मिशन से उड़की बना समृद्ध ग्राम
नूरजहाँ और राजबहादुर के कूल्हे का हुआ नि:शुल्क ऑपरेशन
सुदूर अंचल के ग्रामीणों को भी मिली इंटरनेट सुविधा
अब खिलखिलाने लगी है नन्हीं बच्ची भावना
रेज्डबेड पद्धति से 4.5 क्विंटल प्रति बीघा हुआ सोयाबीन उत्पादन
प्रधानमंत्री सड़क ने खोले रोजगार के नये द्वार
प्रधानमंत्री आवास योजना से सरस्वती बाई को मिला पक्का आवास
युवाओं को सफल उद्यमी बना रही मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना
रानी दुर्गावती महिला चिकित्सालय ने लगातार पाया एक्सीलेंस अवार्ड
खेती में नई-नई तकनीक अपना रहे हैं किसान
शौर्या दल ने घरेलू हिंसा के 240 मामले सुलझाये
खजुरिया जलाशय से 700 से अधिक किसानों को फायदा
नौकरी की बजाय स्व-रोजगार पसंद कर रहे युवा वर्ग
सरकारी मदद से घर में गूँजी किलकारी
ग्रामीण महिलाएँ गरीबी और निरक्षरता को हरा कर बनीं लखपति
पाँच रुपये में भरपेट स्वादिष्ट भोजन कराती दीनदयाल रसोई
खेती से आमदनी बढ़ाने के लिये किसान कर रहे हैं नये-नये प्रयोग
युवा बेरोजगारों को मिला स्व-रोजगार
महिला स्व-सहायता समूह कर रहे सड़कों का मेंटेनेंस
महिलाओं ने बनाया कैक्टस फार्म हाउस : लोगों को दिखाया तरक्की का नया रास्ता
डेयरी विकास योजना से रतनसिंह का जीवन हुआ खुशहाल
दीनदयाल रसोई में रोज 400-500 लोग करते हैं भरपेट स्वादिष्ट भोजन
राजूबाई के हर्बल साबुन की मुम्बई तक धूम
गुना की एन.आई.सी.यू. में 29 हजार नवजात शिशुओं को मिला नवजीवन
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...