सक्सेस स्टोरीज

अब सुन-बोल सकता है छ: वर्षीय आदर्श

भोपाल : बुधवार, दिसम्बर 20, 2017, 12:26 IST

 

झाबुआ जिले के पेटलावद ब्लाक के ग्राम करवड निवासी 6 वर्षीय बालक आदर्श के पिता विजय मिस्त्री खेती-बाड़ी से जीवन-यापन करते हैं। घर में 6 वर्ष पहले जब बेटा पैदा हुआ, तो खूब जश्न मनाया गया। रिश्तेदारों एवं परिवारजनों ने खुशियां मनाई, लेकिन खुशियां उस समय मायूसी में बदल गईं, जब पता चला कि बेटा आदर्श जन्म से ही गूंगा एवं बहरा है। इस कारण वह बोल और सुन नहीं पाएगा। बच्चे के भविष्य को लेकर हमेशा चिंतित रहने लगे। विजय मिस्त्री। इनके पास इतने पैसे भी नहीं थे कि बच्चे का ऑपरेशन करवा पाते।

गांव में स्वास्थ्य विभाग की आरबीएसके टीम पहुँची तो विजय ने बच्चे का परीक्षण करवाया। टीम ने इन्हें बताया कि इसका इलाज हो सकता है और वह भी निःशुल्क। आरबीएसके में मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना के अंतर्गत बच्चे का ऑपरेशन हो जायेगा और आपका बेटा आदर्श भी दूसरे सामान्य बच्चों की तरह बोल और सुन सकेगा। आरबीएसके की टीम के डॉक्टर द्वारा समझाने पर विजय ने बच्चे का ऑपरेशन करवाया। ऑपरेशन के बाद जैसे ही पहली बार 6 वर्षीय आदर्श की आवाज पिता विजय मिस्त्री के कानों में पड़ी तो उनके आंसू छलक पड़े। बच्चे ने पिता की आवाज सुनी और मुस्कुरा कर बोलकर जवाब भी दिया।

आज आदर्श सुन एवं बोल सकता है। यह संभव हुआ है मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना से। यह योजना विजय मिस्त्री जैसे लाखों परिवारों के लिए वरदान है।

 सफलता की कहानी (झाबुआ)   


सुनीता दुबे
उद्यानिकी फसलों से राजकुमार की आय में 5 गुना वृद्धि
ग्रामीण आजीविका मिशन से तारा का परिवार बना आत्म-निर्भर
आजीविका मिशन से जुड़कर सफल कपड़ा व्यवसायी बनी अंजू धुर्वे
अब रंजना बेटी का दिल भी सामान्य बच्चों की तरह धड़कता है
होशंगाबाद के ग्राम मोरपानी की आदिवासी महिलाएँ हुईं आत्म-निर्भर
मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना से विवेक बना सफल व्यवसायी
ड्रिप सिंचाई से बंजर जमीन बनी उपजाऊ
स्वास्थ्य, स्वच्छता और आजीविका की बेहतरीन पहल बनी "मुस्कान " इकाई
उज्जवला योजना से शांति बाई को मिली धुएं से मुक्ति
जैविक खेती से प्रहलाद को मिला उत्कृष्ट कृषक पुरस्कार
आदिवासी कृषक दम्पत्ति को मिली ट्रैक्टर-ट्राली
उद्यानिकी एवं अंतरवर्ती फसलों से कृषक अजीत की आमदनी हुई दोगुनी
युवा उद्यमी योजना से सफल व्यवसायी बनी किरण
कियॉस्क एवं आधार सेवा सेंटर के मालिक बने दीपेश आचार्य
नि:शक्तजन विवाह प्रोत्साहन राशि से शुरू किया व्यवसाय
मत्स्य महिला कृषकों ने आत्म-निर्भरता से बनाई पहचान
उज्जवला योजना बनी गरीब महिलाओं की उजली मुस्कान
सोहागपुर में धर्मदास की है रंगीन फोटोकापी की दुकान
कृषक रामऔतार ने खेती को बनाया सर्वाधिक लाभ का व्यवसाय
किसान कल्याण का सशक्त माध्यम बनी भावांतर भुगतान योजना
झाबुआ के दल सिंह प्रगतिशील किसानों की श्रेणी में शामिल
राजपथ पर हरदा की जॉबाज दिव्या करेगी स्टंट
उज्जवला योजना से सकरी हटीला को मिली धुँए से मुक्ति
अब प्रिया स्वस्थ है और परिवार प्रफुल्लित
गुड्डी बाई अब नहीं रही बेसहारा, मिला आवास और गैस कनेक्शन
टिकरिया बनेगा लाख उत्पादक गांव
परम्परागत खेती के साथ उद्यानिकी फसल से मिला 10 लाख सालाना लाभ
पांच युवा बेरोजगारों को मिला स्व-रोजगार
आटो पार्टस कारखाने के मालिक बने शिवसागर बौरासी
निलेश ने ग्राम जामगोद में शुरू की ग्रामीण गैस एजेन्सी
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...