social media accounts







सक्सेस स्टोरीज

कृषि की आधुनिक तकनीक अपना रही आदिवासी महिला कृषक

भोपाल : मंगलवार, दिसम्बर 19, 2017, 14:26 IST

 

मध्यप्रदेश में खेती को लाभ का धंधा बनाये जाने के लिये राज्य सरकार ने परम्परागत फसलों के साथ-साथ किसानों को उद्यानिकी फसलें लेने की समझाइश दी है। शहडोल जिला मुख्यालय से लगभग 20 किलोमीटर दूर ग्राम विचारपुर की आदिवासी महिला किसान चिन्ताबाई ने आधुनिक खेती की तकनीक को अपना कर लाभ अर्जित किया है।

आदिवासी महिला कृषक चिन्ताबाई पूर्व में जमीन ठेके पर लेकर सब्जी की पैदावार करती थीं और उसे बेचकर लाभ अर्जित करती थीं। इसके बाद उन्होंने 4 एकड़ जमीन ग्राम विचारपुर में खरीदी और ट्यूबवेल लगाने के लिये 50 हजार रुपये की राशि योजना में प्राप्त की। महिला किसान की सब्जी उत्पादन बढ़ाने की इच्छा को देखते हुए कृषि और उद्यानिकी विभाग ने उन्हें सब्जी उत्पादन का प्रशिक्षण दिया। चिन्ताबाई को आधुनिक शंकर बीजों को अपनाने की समझाइश दी गई। उन्हें यह भी बताया गया कि कम पानी में पकने वाली फसल किस तरह से ली जा सकती है।

आदिवासी महिला किसान ने आधुनिक उत्पादन की तकनीक को सीखा और अपने 4 एकड़ के खेत में फूलगोभी, पत्तागोभी, आलू, प्याज, लहसुन, करेला समेत अन्य सब्जियाँ लगाईं। आधुनिक तकनीक अपनाने से फसल की पैदावार में अच्छा-खासा इजाफा हुआ। आज वे खेत में हुई सब्जी की पैदावार को बेचकर भरपूर आमदनी प्राप्त कर रही हैं। अब बच्चों की शिक्षा पर भी राशि खर्च कर रही हैं। अपने खेत के पास पक्का मकान भी बनवा लिया है। चिन्ताबाई अब आसपास की महिलाओं के लिये मिसाल बन गई हैं।

सफलता की कहानी (शहडोल)


मुकेश मोदी
मैकेनिक से आटो पार्टस की दुकान का मालिक बना नितिन
खेती के मुनाफे को बढ़ाने में जुटे किसान
हरदा के वनांचल में हैं सुव्यवस्थित हाई स्कूल और आकर्षक भवन
आदिवासी परिवारों के भोजन और आर्थिक उन्नति का आधार है मुनगा वृक्ष
गुरूविन्दर के मेडिकल स्टोर पर मिलने लगी हैं सभी दवायें
किसानों ने खेती को बना लिया लाभकारी व्यवसाय
ग्रामीण आजीविका मिशन से उड़की बना समृद्ध ग्राम
नूरजहाँ और राजबहादुर के कूल्हे का हुआ नि:शुल्क ऑपरेशन
सुदूर अंचल के ग्रामीणों को भी मिली इंटरनेट सुविधा
अब खिलखिलाने लगी है नन्हीं बच्ची भावना
रेज्डबेड पद्धति से 4.5 क्विंटल प्रति बीघा हुआ सोयाबीन उत्पादन
प्रधानमंत्री सड़क ने खोले रोजगार के नये द्वार
प्रधानमंत्री आवास योजना से सरस्वती बाई को मिला पक्का आवास
युवाओं को सफल उद्यमी बना रही मुख्यमंत्री स्व-रोजगार योजना
रानी दुर्गावती महिला चिकित्सालय ने लगातार पाया एक्सीलेंस अवार्ड
खेती में नई-नई तकनीक अपना रहे हैं किसान
शौर्या दल ने घरेलू हिंसा के 240 मामले सुलझाये
खजुरिया जलाशय से 700 से अधिक किसानों को फायदा
नौकरी की बजाय स्व-रोजगार पसंद कर रहे युवा वर्ग
सरकारी मदद से घर में गूँजी किलकारी
ग्रामीण महिलाएँ गरीबी और निरक्षरता को हरा कर बनीं लखपति
पाँच रुपये में भरपेट स्वादिष्ट भोजन कराती दीनदयाल रसोई
खेती से आमदनी बढ़ाने के लिये किसान कर रहे हैं नये-नये प्रयोग
युवा बेरोजगारों को मिला स्व-रोजगार
महिला स्व-सहायता समूह कर रहे सड़कों का मेंटेनेंस
महिलाओं ने बनाया कैक्टस फार्म हाउस : लोगों को दिखाया तरक्की का नया रास्ता
डेयरी विकास योजना से रतनसिंह का जीवन हुआ खुशहाल
दीनदयाल रसोई में रोज 400-500 लोग करते हैं भरपेट स्वादिष्ट भोजन
राजूबाई के हर्बल साबुन की मुम्बई तक धूम
गुना की एन.आई.सी.यू. में 29 हजार नवजात शिशुओं को मिला नवजीवन
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...