| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
You Tube
पिछला पृष्ठ

ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट
discount coupon for cialis new prescription coupons cialis free coupon

  
ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट-2016

उद्योगपतियों द्वारा मध्यप्रदेश के विकास की भरपूर सराहना

निवेश के माहौल को बताया बेहतर

भोपाल : शनिवार, अक्टूबर 22, 2016, 17:02 IST

इंदौर में ब्रिलियंट कन्वेंशन सेंटर में आज से शुरू हुई ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट-2016 में भाग लेने आये देश-विदेश के उद्योगपतियों और समिट के भागीदार देशों के प्रतिनिधियों ने मध्यप्रदेश के विकास की भरपूर सराहना की। प्रतिभागियों ने मध्यप्रदेश में निवेश के माहौल को बेहतर बताते हुए मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व ओर मध्यप्रदेश के विकास के प्रति उनकी प्रतिबद्धता की भूरि-भूरि प्रशंसा की।

यूनाईटेड किंगडम के अंडर सेक्रेट्ररी श्री आलोक शर्मा ने कहा कि भारत और ब्रिटेन आर्थिक और वैचारिक दृष्टि से स्वाभाविक सहयोगी हैं। जलवायु परिवर्तन, आतंकवाद जैसे विषयों पर भारत और ब्रिटेन के विचार अनुकूल हैं। यूनाईटेड किंगडम में विभिन्न तरह की लगभग 800 भारतीय कम्पनियाँ काम कर रही हैं। 'मेक इन इंडिया'' और 'डेवलप इंडिया'' में ब्रिटेन भारत के साथ है।

हिन्दुजा ऑटोमेटिव के को-चेयरमेन श्री गोपीचंद हिन्दुजा ने कहा कि वे ब्रिटिश नागरिक हैं, लेकिन उनका दिल भारतीय है। मध्यप्रदेश में पहली बार आने का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री का व्यक्तित्व और कृतित्व अदभुत है। अपनी खूबियों,कमियों और आंकाक्षाओं का उन्हें भलीभांति ज्ञान है। उनसे प्रभावित होकर ही वह इस समिट में आये हैं। उन्होंने कहा कि उनके औद्योगिक समूह के विशेषज्ञों का एक दल प्रदेश में निवेश की संभावनाओं का परीक्षण कर रहा है।

सिंगापुर के पार्लियामेंट सेक्रेटरी श्री मोहम्मद फेजल इब्राहिम ने कहा कि भारत में प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में सराहनीय प्रयास हो रहे हैं। स्मार्ट सिटी जैसे प्रयासों से सिंगापुर के निवेशकों में भारत और मध्यप्रदेश के प्रति उत्साह बढ़ा है। प्रदेश की सिंगापुर की बिजनेस कम्युनिटी में इन्वेस्टर्स फ्रेण्डली छवि बढ़ रही है। उन्होंने मुख्यमंत्री श्री चौहान के औद्योगिक विकास और जन-कल्याण कार्यों की भी भूरि-भूरि सराहना की। उन्होंने कहा कि सिंगापुर की कुछ कम्पनियाँ वर्तमान में विदेश में कार्यरत हैं। ऊर्जा और स्मार्ट सिटी आदि योजनाओं में सिंगापुर की कम्पनियों ने रूचि प्रदर्शित की है।

आदित्य बिरला समूह के चेयरमेन श्री कुमार मंगलम बिरला ने कहा कि मध्यप्रदेश में उनका समूह वर्षों से कार्यरत है। टेक्सटाईल, केमिकल,सीमेंट और सेल्युलर सेवाओं में समूह की अग्रणी भूमिका है। समूह अल्ट्राटेक सीमेंट की दो नई ईकाइयाँ स्थापित करने के साथ ही लगभग 20 हजार करोड़ रुपये के निवेश पर कार्य कर रहा है।

एडीएजी रिलायंस समूह के चेयरमेन श्री अनिल अंबानी ने कहा कि मध्यप्रदेश के विकास में रिलायंस समूह द्वारा प्रभावी सहयोग किया जा रहा है। आगामी 25 वर्षों तक रिलायंस पावर प्लांट द्वारा मात्र एक रूपये 20 पैसे की प्रति यूनिट दर पर विद्युत राज्य को उपलब्ध कराई जा रही है। उन्होंने कहा कि प्रतिरक्षा के क्षेत्र में निवेश की व्यापक संभावनाएँ हैं।

यूनाइटेड अरब अमीरात के श्री अब्दुल्ला सलेह ने कहा कि अमीरात के द्वारा लगभग 10 मिलियन डालर का भारत में निवेश हुआ है, जिसमें चार मिलियन डालर एफडीआई के रूप में है। अमीरात के कुल निर्यात का 15 प्रतिशत आयात भारत द्वारा किया जाता है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में दोनों देशों के द्विपक्षीय संबंधों को नई मजबूती मिली है और निवेश की नई संभावनाएँ निर्मित हुई हैं।

सन फार्मास्युटिकल के प्रबंध संचालक श्री दिलीप संघवी ने कहा कि समूह द्वारा देवास इकाई में अतिरिक्त निवेश, शोध संस्थान में निवेश किया जायेगा। उन्होंने बताया कि समूह द्वारा प्रदेश में मलेरिया उन्मूलन परियोजना के पायलट प्रोजेक्ट पर आईसीएमआर के साथ कार्य किया जा रहा है।

जापान के राजदूत श्री केनजी हीरामेत्सू ने कहा कि भारत और मध्यप्रदेश में जापान की कंपनियों द्वारा फूड प्रोसेसिंग और आईटीसी में निवेश की व्यापक संभावनाएँ हैं। मध्यप्रदेश में सरप्लस पावर, वाटर, लेण्ड बैंक की उपलब्धता और जीएसटी से निवेश की बेहतर संभावनाएँ निर्मित हुई हैं। उन्होंने जापानी कंपनियों की औद्योगिक ईकाइयों के लिये स्थान उपलब्ध करवाने के लिये प्रदेश सरकार के प्रति आभार व्यक्त किया।

एस्सार समूह के चेयरमेन श्री शशि रूईया ने कहा कि मध्यप्रदेश ने एग्रेरियन इकॉनामी से मैन्युफेक्चरिंग इकॉनामी में बदलने का सराहनीय कार्य किया है।

दक्षिण कोरिया के राजदूत श्री हेनचो ने कहा कि भारत और मध्यप्रदेश के मध्य द्विपक्षीय व्यापार की व्यापक संभावनाएँ हैं। कोरिया के पास ग्लोबल कंपनियाँ और हाई टेक्नालॉजी है, तो भारत के पास बाजार और खाद्यान्न है। उन्होंने कहा कि ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट द्वारा मध्यप्रदेश में निवेश की संभावनाओं पर चर्चा की जा रही है।

एसआरएफ के चेयरमेन श्री अरूण भरतराम ने कहा कि मध्यप्रदेश गतिशील राज्य है, जहाँ निवेशकों के लिये उत्साहजनक वातावरण है। उन्होंने बताया कि रासायनिक उद्योग के क्षेत्र में करीब 5 हजार करोड़ रूपये के निवेश की योजना है।

ट्रायडेंट ग्रुप के चेयरमेन श्री राजेन्द्र गुप्ता ने मध्यप्रदेश के औद्योगिक वातावरण की भरपूर सराहना की। उन्होंने कहा कि समूह द्वारा 30 वर्षों में पंजाब में जितनी प्रगति की थी, उससे अधिक प्रगति मध्यप्रदेश ने मात्र 7 वर्ष में कर ली है। उन्होंने कहा कि औद्योगिक प्रगति के साथ ही सामाजिक उत्तरदायित्व के प्रति भी कंपनी सचेत है। खुशी पहले खुशहाली बाद में, के मूल मंत्र के साथ समूह द्वारा भविष्य में 2500 करोड़ रुपये का निवेश कर 25000 परिवारों में खुशहाली के प्रयास किये जा रहे हैं।

आईटीसी ग्रुप के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री संजीव पुरी ने कहा कि कृषि में लगातार 20 प्रतिशत की वृद्धि दर चमत्कारिक है। मध्यप्रदेश शासन की कार्य-संस्कृति की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश से शुरू हुई ई-चौपाल ने आज 2000 इकाइयों के माध्यम से 10 लाख किसानों का सशक्तिकरण किया है। इसका हावर्ड बिजनेस स्कूल द्वारा भी अध्ययन करवाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि समूह ने फूड प्रोसेसिंग,स्वास्थ्य एवं स्वच्छता में निवेश किया है।

प्राक्टर गेम्बल इंडिया के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री अलरजवानी ने बताया कि समूह द्वारा स्वच्छता, बालिका सशक्तिकरण और मेक इन इंडिया के लक्ष्य में प्रभावी सहयोग किया जा रहा है। कम्पनी के लगभग 97 प्रतिशत उत्पाद भारत में निर्मित होते हैं।

फोर्ब्स मार्शल के चेयरमेन श्री नौशाद फोर्ब्स ने कहा कि मध्यप्रदेश की कृषि क्षेत्र की प्रगति अभूतपूर्व है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश ने विकास के लिये मजबूत अधोसंरचना तैयार कर अगली पीढ़ी के विकास के लिये आधार तैयार कर दिया है।

 
ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट
discount coupon for cialis new prescription coupons cialis free coupon
पाँचवां वैश्विक निवेशक सम्मेलन अत्यधिक सफल
रु. 5,62,847 करोड़ के 2,630 निवेश आशय प्रस्ताव प्राप्त
निवेश के लिये मध्यप्रदेश सबसे अधिक पसंदीदा राज्य बना-विदेश मंत्री श्रीमती स्वराज
आर्थिक मंदी से जूझते विश्व में आशा की किरण है भारत
मध्यप्रदेश में नवकरणीय ऊर्जा में निवेशकों के लिये अच्छी संभावनाएँ
केन्द्रीय मंत्री श्री नायडू ने की विकास-प्रिय राज्य सरकार की प्रशंसा
मध्यप्रदेश में इन्वेस्ट कर अपनी तरक्की के साथ प्रदेश की भी तरक्की करें
मध्यप्रदेश में इलेक्ट्रानिक्स, ऑटोमोबाइल तथा निर्माण क्षेत्र में निवेश की संभावनाएँ तलाशेगा कोरिया
मध्यप्रदेश अब देश का मुख्य प्रदेश
ड्रम्स ऑफ मध्यप्रदेश को राज्य संगीत की मिलेगी पहचान : मुख्यमंत्री श्री चौहान
जापान की लोकप्रिय टेक्नालॉजी का मध्यप्रदेश में विस्तार होगा
खाद्य प्र-संस्करण विकास के लिये राज्य शासन दृढ़ संकल्पित : मंत्री श्री गौरीशंकर बिसेन
मध्यप्रदेश में हर वर्ष 15-20 प्रतिशत बढ़ रही है पर्यटक संख्या
मध्यप्रदेश होगा ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री का बेस्ट "डेस्टिनेशन
उद्योगपतियों ने मुख्यमंत्री श्री चौहान के ईमानदार प्रयासों की दिल से तारीफ की
स्वास्थ्य मंत्री श्री रूस्तम सिंह द्वारा जीवनरक्षक दवाइयाँ मध्यप्रदेश में बनाने की अपील
प्रदेश में टेक्सटाइल इंडस्ट्रीज को प्रोत्साहन के लिये उद्योग नीति में विशेष प्रावधान
मध्यप्रदेश-यू.ए.ई. में निवेश संभावनाओं पर संयुक्त चर्चा
ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क से जुड़ेगी देश की सभी ग्राम पंचायत
ब्राण्ड मध्यप्रदेश का आधार - श्री शिवराजसिंह चौहान का मधुर व्यवहार
उद्योगपतियों द्वारा मध्यप्रदेश के विकास की भरपूर सराहना
मध्यप्रदेश बनेगा देश का सप्लाई हब - केन्द्रीय वित्त मंत्री श्री जेटली
6 लाख 89 हजार करोड़ रूपये के निवेश प्रस्ताव आये
मध्यप्रदेश में आईटी के क्षेत्र में अच्छा काम हुआ
"पीपीपी मॉडल-स्विस चेलेंज की चुनौतियाँ" सेक्टोरल सेमीनार
मध्यप्रदेश में टेक्सटाइल्स इंडस्ट्री में निवेश करने में मिलेंगे अच्छे परिणाम
प्रदेश की पर्यटन और भूमि निवर्तन नीति में हुए प्रभावी संशोधन
स्मार्ट सिटी के लिये बेहतर प्लानिंग जरूरी
मध्यप्रदेश नवकरणीय ऊर्जा क्षेत्र का नया पावर हब होगा
स्मार्ट सिटी निवेशकों के लिये बेहतर मौका
1 2 3 4