| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
You Tube
पिछला पृष्ठ

सिंहस्थ - समाचार

  

सदी के दूसरे सिंहस्थ का अंतिम शाही स्नान आज

लाखों श्रद्धालु पावन क्षिप्रा में लगाएंगे आस्था और विश्वास के साथ डुबकियाँ दत्त अखाड़ा व रामघाट पर प्रात: 3 बजे स्नान के लिए पहुँचेंगे शैव एवं वैष्णव अखाड़े

भोपाल : शुक्रवार, मई 20, 2016, 21:37 IST

सदी के दूसरे महाकुंभ के तीसरे व अंतिम शाही स्नान के पावन प्रसंग पर आज 21 मई वैशाख शुक्ल पूर्णिमा पर लाखों श्रद्धालु मोक्षदायिनी क्षिप्रा में आस्था और विश्वास की डुबकियाँ लगाएंगे। अखाड़ों का शाही स्नान प्रात: 3 बजे से प्रारंभ होगा। सिंहस्थ में पहली बार दत्त अखाड़ा घाट पर शैव अखाड़ों के नागा सन्यासियों का स्नान प्रात: 3 बजे से प्रारंभ होगा। वहीं इसी समय रामघाट पर वैष्णव अखाड़े स्नान करेंगे। शाही स्नान सुबह 3 बजे से 11 बजे तक निर्धारित क्रमानुसार विभिन्न अखाड़ों के साधु, संत स्नान करेंगे। सिंहस्थ में यह पहला अवसर रहेगा जब रामघाट व दत्त अखाड़ा घाट पर शैव व वैष्णव सम्प्रदाय के साधु सन्यासी एक ही समय में दोनों घाट पर एक साथ स्नान करेंगे। श्रद्धालु इस अलौकिक अवसर का दर्शन लाभ प्राप्त कर सकेंगे। प्रशासन द्वारा शाही स्नान के लिए सभी आवश्यक व्यवस्थाएँ एवं प्रबंध सुनिश्चित कर लिए गए हैं।

स्नान के दौरान अखाड़ों के आगे-पीछे, दाँये-बाँये घाटों पर पर्याप्त संख्या में पुलिस और पैरामिलेट्री बल के जवान तैनात रहेंगे। भीड़ प्रबंधन और यातायात व्यवस्था भी सुनियोजित होगी। शाही स्नान के लिए जुलूस मार्ग की धुलाई, चूने की लाइनिंग, मार्ग पर पानी का छिड़काव एवं घाटों पर स्नान के लिए पहुँचे साधु-संतों का परम्परागत तरीके से स्वागत-सत्कार किया जायेगा। शाही स्नान के लिए सभी अखाड़ों के स्नान-क्रम और घाटों पर आने-जाने के लिए मार्ग निर्धारित किये गये हैं।

शैव अखाड़ों का स्नान

श्री पंचदशनाम जूना अखाड़ा, आवाहन अखाड़ा एवं अग्नि अखाड़े का स्नान प्रात: 3 बजे से, निरंजनी एवं आनंद अखाड़े का स्नान प्रात: 4 बजे से तथा महानिर्वाणी एवं अटल अखाड़े का शाही स्नान प्रात: 5 बजे से प्रारंभ होगा। शैव अखाड़ों के साधु सन्यासियों के स्नान के बाद प्रात: 7 बजे से दत्त अखाड़ा घाट आम श्रद्धालुओं के स्नान के लिए खुला रहेगा।

श्री पंचदशनाम जूना अखाड़ा, आवाहन अखाड़ा एवं अग्नि अखाड़े का जुलूस अपनी छावनी से रवाना होकर छोटी रपट पर पहुँचकर स्नान कर दत्त अखाड़ा के समीप बने रेम्प से अपने केम्प में पहुँचेगा। निरंजनी अखाड़े एवं आनंद अखाड़े का जुलूस बड़नगर रोड स्थित शिविर से रवाना होकर छोटी रपट होते हुए बाएं चलने के सिद्धांत का पालन करते हुए रोड डिवाइडर के बांयी तरफ जाकर खड़ा हो जाएगा तथा निरंजनी अखाड़े के जुलूस के वापस होने के तुरंत बाद दत्त अखाड़ा में प्रवेश करेगा। यहाँ स्नान के बाद अखाड़ा घाट खाली कर डिवाइडर के दूसरी ओर होते हुए बड़नगर रोड पर शंकराचार्य चौराहे होते हुए वापस अपनी छावनी में पहुँचेगा। महानिर्वाणी एवं अटल अखाड़े का जुलूस बड़नगर रोड स्थित केम्प से रवाना होकर छोटी रपट पर दत्त अखाड़ा घाट के समीप लगे रोड डिवाइडर के बांई ओर आकर खड़ा होगा तथा दत्त अखाड़ा घाट खाली होते ही घाट पर प्रवेश करेगा। स्नान के बाद डिवाइडर के दूसरी तरफ सड़क के बाएं चलने के सिद्धांत का पालन करते हुए वापस अपनी छावनी के लिए रवाना हो जाएगा।

वैष्णव अखाड़ों का स्नान

रामघाट पर वैष्णव अखाड़ों के स्नान की व्यवस्था रहेगी। निर्मोही अणि अखाड़ा का स्नान प्रात: 3 बजे से, दिगम्बर अणि अखाड़े का स्नान प्रात: 4 बजे से एवं निर्वाणी अणि अखाड़े का स्नान प्रात: 5 बजे से रामघाट पर प्रारंभ होगा। सुबह 7.30 बजे तक रामघाट पर वैष्णव अखाड़ों का शाही स्नान पूरा हो जाएगा। रामघाट पर ही उदासीन अखाड़ों का स्नान होगा। रामघाट पर निर्मोही, दिगम्बर एवं निर्वाणी अखाड़ों का स्नान भी प्रात: 3 बजे से प्रारंभ होगा। यह अखाड़े खाकचौक से अंकपात, पटेल नगर, निकास चौराह, कंठाल, सतीगेट, छत्रीचौक, पटनी बाजार, गुदरी चौराहा, रामानुज कोट होते हुए रामघाट पर पहुँचेंगे। स्नान के बाद गंधर्व गेट से दानीगेट, बिलोटीपुरा, जूना सोमवारिया, वाल्मीकि धाम के सामने से पिपलीनाका, अंकपात मार्ग होते हुए यह अखाड़े वापस अपनी छावनी पहुँचेंगे।

उदासीन अखाड़ों का स्नान

बड़ा उदासीन अखाड़ा एवं नया उदासीन अखाड़ा प्रात: 8.30 बजे स्नान के लिए रामघाट पहुँचेगा और 9.30 बजे तक स्नान कर वापस अपनी छावनी में पहुँचेंगे। रामघाट पर निर्मल अखाड़े का स्नान 10 बजे से प्रारंभ होगा और 11 बजे तक स्नान पूर्ण होकर घाट आम श्रद्धालुओं के स्नान के लिए उपलब्ध रहेगा। इस तरह प्रात: 11 बजे से आम श्रद्धालु रामघाट व दत्त अखाड़ा घाट पर पहुँचकर स्नान कर सकेंगे।

 
सिंहस्थ - समाचार
मध्यप्रदेश के नव-निर्माण में साधु-संतों का आशीर्वाद मिलता रहे
स्वच्छ सिंहस्थ में सफाईकर्मियों की भूमिका महत्वपूर्ण
"आपकी सजायी उज्जैन नगरी में भरपूर सहयोग मिला"
मीडिया ने सिंहस्थ के सकारात्मक पहलुओं को देश-दुनिया के समक्ष रखा
सिंहस्थ में बरसा धर्म, अध्यात्म, आस्था और विश्वास का अमृत
सदी के दूसरे सिंहस्थ के सानंद संपन्न होने पर दिया सभी को धन्यवाद
अदभुत एवं अकल्पनीय सफलता के साथ संपन्न हुआ सिंहस्थ महाकुम्भ
अंतिम शाही स्नान में मुख्यमंत्री ने लगायी मोक्षदायिनी क्षिप्रा में डुबकी
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान उज्जैन पहुँचे
सिंहस्थ में कला उत्सव सांस्कृतिक महाकुंभ में कलाकारों की प्रस्तुति को सराहा श्रद्धालुओं ने
अंतिम शाही स्नान पर अखाडों के साथ एम्बुलेंस भी तैनात
सदी के दूसरे सिंहस्थ का अंतिम शाही स्नान आज
अंतिम शाही पर्व में महाकाल के दर्शन करने उमड़ेगा सैलाब
उज्जैन में बना सफाई का वर्ल्ड रिकार्ड
आनंद मंत्रालय का गठन स्वागत योग्य : स्वामी हर्षानन्द
सिंहस्थ में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने संतों को परोसा सुस्वादु भोजन
सदी के दूसरे सिंहस्थ के अंतिम शाही स्नान 21 मई को
सिंहस्थ में घाटों पर तैराक दल रख रहे लगातार चौकसी
सिंहस्‍थ में साम्‍प्रदायिक सौहार्द-मुस्लिम धर्मावलंबियों ने बाँटी खिचड़ी
ग्यारह हजार तीर्थयात्रियों का उपचार किया
प्रदोष पर्व पर लाखों श्रद्धालुओं ने लगाई क्षिप्रा में श्रद्धा की डुबकी
तप के रूप अनेक सम्मोहित हो रहे श्रद्धालु
रामेश्वर चौहान में जगा सेवाभाव
447 पशुओं का उपचार
तीर्थयात्रियों की 643 समस्याएँ निराकृत
उन सबने मन की आँखों से देखा सिंहस्थ का वैभव
विदिशा वृद्धाश्रम के वृद्धजनों ने लगाई डुबकी
सिंहस्थ में बीमार श्रद्धालुओं का आयुष से उपचार
ऐसे महाकुंभ के साक्षी बने जहाँ जाने की सब रखते इच्छा
तपोनिधि निरंजनी अखाड़ा में नागा दीक्षा का क्रम जारी
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 ...