| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
You Tube
पिछला पृष्ठ

सिहंस्थ-लेख/संदर्भ
prescription drug coupons cialis sample coupon cialis coupons printable
discount coupon for cialis prescription discount coupon cialis free coupon
discount coupon for cialis new prescription coupons cialis free coupon
transfer prescription coupon terceirarevelacao.net manufacturer coupons for prescription drugs
shot to stop drinking ldn and depression how to get naltrexone out of your system

  

पंचक्रोशी यात्रा में उमड़ा भक्‍तों का सैलाब

निरन्‍तर बढ़ रही श्रद्धालुओं की संख्‍या
यात्रियों के लिए की गई बेहतर व्‍यवस्‍थाएँ

भोपाल : रविवार, मई 1, 2016, 22:35 IST
 

महाकाल के प्रति आभार और आशीर्वाद के लिए पूरे सिंहस्‍थ मेला क्षेत्र में पंचक्रोशी पदयात्रियों का भारी सैलाब उमड़ रहा है। पंचक्रोशी यात्रा में दूर-दराज़ से लाखों की तादाद में श्रद्धालु उज्‍जैन पहुँच रहे हैं। इसी का परिणाम है कि बैशाख माह की दशमी से होने वाली पंचक्रोशी यात्रा 2 दिन पहले ही प्रारंभ हो गई है। श्रद्धालुओं का जो जत्‍था 30 अप्रैल को भगवान नागचंद्रेश्‍वर के मंदिर से शक्ति का वरदान प्राप्‍त कर निकला था, वह शाम होते-होते पहले पड़ाव 12 किलोमीटर दूर 'पिंगलेश्‍वर महादेव' पहुँच गया। प्रथम पड़ाव पर रात्रि 12 बजे तक लगभग ढाई लाख श्रद्धालु पहुँच चुके थे।

श्रद्धालु अपने साथ सिर पर रख कर लाए दाल, चावल, आटा से स्‍थल पर ही प्रसादी तैयार कर भोर होते ही दूसरे पड़ाव 'कायावरोहणेश्वर महादेव' की ओर जय महाकाल के उद्घोष के साथ बड़े जत्थों में आगे बढ़ रहे हैं।

पहले पड़ाव पर श्रद्धालुओं को कम से कम दिक्कतों का सामना करना पड़े, इसके लिए जिला प्रशासन द्वारा स्वयंसेवी संगठनों के माध्यम से व्यापक व्यवस्थाएँ की गई हैं। पिंगलेश्वर महादेव पर श्रद्धालुओं के आराम के लिए टेन्ट, पानी, शौचालय के साथ ही अस्थाई चिकित्सालय भी बनाया गया है। पदयात्रियों के पैरों पर आए छालों में राहत पहुँचाने के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा 2000 किलोग्राम वैसलीन, मलहम बाँटा गया है।

आले वाले 5 दिन तक श्रद्धालुओं के आगमन के मद्देनजर प्रशासन द्वारा व्यापक व्यवस्थाएँ की गई हैं।

लगभग 4 लाख से अधिक श्रद्धालु पहुँचे करोहन

देश की सबसे बड़ी पंचक्रोशी यात्रा का द्वितीय पड़ाव पिंगलेश्वर महादेव से 23 किलो मीटर दूर ग्राम करोहन में महाकाल के द्वितीय द्वारपाल 'कायावरोहणेश्वर महादेव मंदिर' है। लगभग 54 हेक्टेयर में फैले इस द्वितीय पड़ाव पर पहुँचने से पूर्व श्रद्धालु ग्राम करोंदिया, धतरावदा, लालपुर बावड़ी, नागझिरी होते हुए शनि मंदिर पर शनि महाराज के दर्शन कर आगे बढ़ रहे हैं। सभी स्थान पर प्रशासन की व्यापक व्यवस्था श्रद्धालुओं में भक्ति और उत्‍साह का संचार कर रही है।

राजगढ़ जिले की ग्राम नुन्हाखेड़ी की कमलाबाई और उनके 25 साथी का जत्था पूरे रास्ते ठंडे पानी और छाया की व्यवस्था से प्रसन्न है। कमलाबाई का कहना है कि 'बाबूजी मलहम से पावन के ऐंठा निकल जात है।' गुना के बमोरी तहसील के श्री जगराम खेड़ी तीसरे कुम्भ में गाँववालों के साथ आए हैं और यात्रा कर रहे हैं। उनका कहना है कि ' साब शासन बहुत ध्यान दे रहा है हम पर, भगवान महाकाल सबकी मनोकामना पूरी करे'।

 
सिहंस्थ-लेख/संदर्भ
prescription drug coupons cialis sample coupon cialis coupons printable
discount coupon for cialis prescription discount coupon cialis free coupon
discount coupon for cialis new prescription coupons cialis free coupon
transfer prescription coupon terceirarevelacao.net manufacturer coupons for prescription drugs
shot to stop drinking ldn and depression how to get naltrexone out of your system
अन्य राज्यों के श्रद्धालु सिंहस्थ की व्यवस्थाओं से खुश
पंचक्रोशी यात्रा में उमड़ा भक्‍तों का सैलाब
पंचक्रोशी यात्रा
मालवा की महिमामयी जीवन-रेखा क्षिप्रा
क्षिप्रा गंगा से भी अधिक पवित्र और पुण्य-प्रदायिनी
पुण्य-सलिला क्षिप्रा नदी
उज्जैन की बौद्ध परम्पराएँ
सिंहस्थ महापर्व पर आने वाले प्रमुख अखाड़े
उज्जैन के दर्शनीय स्थल
अवन्ति साम्राज्य का संस्थापक - सम्राट चण्डप्रद्योत
भर्तृहरि-सिद्ध और सत्र
तीर्थ हैं क्षिप्रा के तट
महाकवि कालिदास
तान्त्रिक साधना का केन्द्र-उज्जयिनी
मालव लोक नाट्य-माच और उसकी उत्सभूमि उज्जयिनी
वेदों के गूढ़ रहस्य और भावार्थ को जानने की प्राचीन नगरी है उज्जयिनी
प्राचीन वाणिज्य-केन्द्र उज्जयिनी
विक्रमादित्य और उनके नवरत्न
उज्जैन में 6 दशक पूर्व हुआ था अर्द्ध-कुम्भ
उज्जैन की वेधशाला
अवन्ती क्षेत्र के प्राचीन अभिलेख और इतिहास चयन
भगवान श्रीकृष्ण ने उज्जयिनी में पाया था 64 कला का ज्ञान
विदेशी प्रवासियों की दृष्टि में उज्जयिनी
अकाल के कारण वर्ष 1897 में सिंहस्थ उज्जैन की जगह महिदपुर में हुआ था
बीसवीं सदी के 9 सिंहस्थ में सिर्फ एक शाही स्नान
उज्जैन की भौगोलिक स्थिति अनूठी
सिंहस्थ स्नान की परम्परा
उज्जैन में 276 वर्ष पूर्व हुआ था महाकालेश्वर मंदिर का नव-निर्माण
महाकाल: प्रमुख ज्योतिर्लिंग
1