social media accounts

आज के समाचार

पिछला पृष्ठ

माँ, मातृ-भूमि और मातृ-भाषा का कोई विकल्प नहीं

उच्च शिक्षा मंत्री श्री पवैया ने किया हिन्दी भाषा कार्यशाला का शुभारंभ 

भोपाल : शुक्रवार, मार्च 9, 2018, 13:28 IST
 

उच्च शिक्षा मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया ने कहा है कि माँ, मातृभूमि और मातृभाषा का कोई विकल्प नहीं हो सकता। श्री पवैया 'हिन्दी भाषा में तकनीकी, चिकित्सा एवं वैज्ञानिक लेखन, अनुवाद एवं प्रकाशन' विषयक दो दिवसीय कार्यशाला के शुभारंभ समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। कार्यशाला अटल बिहारी वाजपेयी हिन्दी विश्वविद्यालय और मध्यप्रदेश विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद के तत्वाधान में हुई।

श्री पवैया ने कहा कि हिन्दी छोटी भाषा नहीं है, इसमें बहुता समायी है। कार्यशाला से निकलने वाले निष्कर्षों को आगे ले जाना होगा। निरंतर हर तीन माह में पुन: विचार-मंथन कर इसे आगे बढ़ाना होगा। भाषा का व्यक्ति पर बहुत प्रभाव पढ़ता है। भाषा के जरिये विचारधारा को प्रवाहित किया जा सकता है। राज-भाषा या मातृ-भाषा के जरिये जनमानस में परिवर्तन आता है।

उच्च शिक्षा मंत्री श्री पवैया ने कहा कि चिंतनीय विषय है कि आज पश्चिमी संस्कृति के सहारे आम आदमी जन्मदिन और शादी की वर्षगांठ मना कर खुशियां ढूंढ रहा है। समाज को बदलने के लिये किसी कानून अथवा डंडे की आवश्यकता नहीं होती। उन्होंने कहा कि शबरी के चार बेर खाकर भगवान श्री राम का पेट नहीं भरा; श्री राम ने सिर्फ समाज को बदलने और एक नई दिशा देने के लिये प्रतिकात्मक स्वरूप यह कार्य किया।

श्री पवैया ने कहा कि दुनिया में सकल घरेलू अनुपात उन 20 देशों का ज्यादा है, जिन्होंने अपनी मातृभाषा को आजादी के बाद अपनाया। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों को विकल्प देने कि आवश्यकता है। साक्षात्कार में हिन्दी भाषा में जवाब देने वाले बच्चों का चयन भी होना चाहिए। उनको हिन्दी भाषी होने पर भी रोजगार के अवसर मिलना चाहिए। श्री पवैया ने कहा कि हिन्दी के लिए सकारात्मक पहल की जरूरत है। हिन्दी को हेय-दृष्टि से नहीं देखा जाना चाहिए।

कार्यशाला में वैज्ञानिक तकनीकी शब्दावली आयोग नई दिल्ली के अध्यक्ष श्री अवनीश कुमार, मध्यप्रदेश विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद के महानिदेशक डॉ. नवीन चन्द्रा, हिन्दी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. रामदेव भारद्वाज और कुलसचिव डॉ. एस.के. पारे उपस्थित थे।


दुर्गेश रायकवार
शिक्षकों के कारण भारतीय संस्कृति और सभ्यता सुरक्षित : राज्यपाल श्रीमती पटेल
राष्ट्रीय गुणवत्ता हासिल करने वाला पहला जिला चिकित्सालय बना सतना
मंत्री डॉ. मिश्र द्वारा दुख व्यक्त
उद्योग मंत्री श्री शुक्ल द्वारा शोक व्यक्त
राज्य मंत्री श्री सारंग 16 मार्च को करेंगे स्मार्ट-फोन वितरित
प्रधानमंत्री आवास योजना में 5 लाख आवास स्वीकृत - मंत्री श्रीमती माया सिंह
11 मार्च को राष्ट्रीय सिंधी महिला कवयित्री सम्मेलन
माँ, मातृ-भूमि और मातृ-भाषा का कोई विकल्प नहीं
"एक भारत-श्रेष्ठ भारत" कार्यक्रम के तहत चयनित दल जायेगा नागालैंड-मणिपुर
राज्य मंत्री श्री जोशी का दौरा कार्यक्रम
स्काउट-गाइड मध्यप्रदेश में स्वर्णिम इतिहास के लिये कार्य करे
सौभाग्य योजना से 10 लाख से अधिक घरों में पहुँची बिजली
किसान राधेश्याम ने सोलर पंप से की गेहूँ और चने की सिंचाई
सिंगल क्लिक से 36 लाख हितग्राहियों को मिल रही 116 करोड़ सामाजिक सुरक्षा पेंशन
मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा पत्रकार श्री पांडे के निधन पर शोक व्यक्त
मजदूरी छोड़ स्वरोजगार स्थापित कर रहीं ग्रामीण महिलायें
आदिवासी अंचल में कस्तूरबा गाँधी विद्यालय एवं छात्रावासों ने बनाई विशिष्ट पहचान
ई-ऑफिस आटोमेशन पर मंत्रीगणों को दिया गया प्रशिक्षण
उज्जैन में 12 मार्च को होगा राजा भर्तृहरि व्याख्यान
स्व-रोजगार से महिला सशक्तिकरण पर कार्यशाला सम्पन्न
1