social media accounts

आज के समाचार

पिछला पृष्ठ

कामकाजी महिलाओं के लिये निजी भवनों में संचालित होंगे वसति गृह

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने नारायणी नम: कार्यक्रम में महिलाओं को सम्मानित किया 

भोपाल : गुरूवार, मार्च 8, 2018, 22:54 IST
 

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश की सरकार महिलाओं के राजनैतिक, आर्थिक और सामाजिक सशक्तिकरण की दिशा में कार्य कर रही है। महिलाओं के कल्याण और सशक्तिकरण कार्यों के लिये महिला कोष की स्थापना, बड़े शहरों में कामकाजी महिलाओं के लिए वसति गृहों का संचालन निजी भवनों को किराये पर लेकर किया जाने, विधवा पेंशन में बी.पी.एल. की शर्त खत्म करने, अविवाहित महिलाओं को 50 वर्ष के बाद पेंशन देने, बी.पी.एल. महिलाओं को नि:शुल्क सेनेटरी नेपकिन उपलब्ध करवाने, मजदूर महिलाओं को गर्भधारण के दौरान 4 हजार रूपये और संतान के जन्म उपरांत 12 हजार रूपये देने, तेंदूपत्ता संग्राहक महिलाओं को चप्पल, साड़ी और पेयजल की कुप्पी देने के कार्य करेगी। श्री चौहान आज निजी न्यूज चैनल द्वारा महिला दिवस पर आयोजित कार्यक्रम नारायणी नम: में चर्चा कर रहे थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बेटा-बेटी में भेदभाव का दर्द बचपन से ही था। इसलिये सामाजिक जीवन के प्रारंभ से ही भेदभाव को समाप्त करने को प्रयास किया है। इसी क्रम में बेटियों के विवाह कराने, उन्हें लाड़ली लक्ष्मी बनाने के प्रयासों ने आकार लिया यही से सबसे पहले बेटियों के साथ उनका मामा के रूप में आत्मीय रिश्ता कायम हुआ, जो अब बच्चे और बूढ़ों तक से हो गया है। प्रयास है कि परिवार बेटियों को बोझ नहीं समझे।

श्री चौहान ने कहा कि महिलाओं के आर्थिक, सामाजिक सशक्तिकरण के लिये सत्ता के सूत्र उन्हें सौंप गये हैं। नगरीय निकायों और शासकीय सेवा में अध्यापक के पदों में 50 प्रतिशत शेष सरकारी सेवाओं वन विभाग को छोड़कर 33 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था है। महिलाओं के लिये पृथक शौचालय बनाने का कार्य स्कूलों में अभियान के रूप में चल रहा है। सार्वजनिक स्थानों पर शौचालय निर्माण कार्रवाई अभियान में हो रही है। थानों में भी महिला पुलिस के लिए शौचालय और ग्रामीण थानों मे आवास के प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि स्वयं का उद्यम स्थापित करने के लिए भी प्रोत्साहित किया गया है। युवा उद्यमी योजना में 10 लाख से 2 करोड़ के ऋण में 15 प्रतिशत सब्सिडी, बैंक गारंटी 7 वर्ष तक ब्याज भरने का कार्य सरकार कर रही है। योजना में युवाओं का 5 प्रतिशत ब्याज का भरा जाता है जबकि महिलाओं के लिए यह 6 प्रतिशत है। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर जीवन के संघर्षों में सफलता प्राप्त करने वाली ग्रामीण नगरीय क्षेत्र की महिलाओं को सम्मानित किया।

कार्यक्रम में जल संसाधन एवं जनसंपर्क मंत्री श्री नरोत्तम मिश्रा, गृह मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह, नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह, महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनीस, ऊर्जा मंत्री श्री पारस जैन भी मौजूद थे।


अजय वर्मा
दिव्यांगों को शिक्षित करने वाले शिक्षक माता-पिता तुल्य- राज्यपाल श्रीमती पटेल
प्रदेश में विकास के लिये जो भी संभव होगा राज्य सरकार करेगी
कामकाजी महिलाओं के लिये निजी भवनों में संचालित होंगे वसति गृह
म.प्र में बनेगा मुख्यमंत्री महिला कोष : मुख्यमंत्री श्री चौहान
लोकसभा-विधानसभा निर्वाचन एक साथ कराने राज्य स्तरीय समिति गठित
गृह मंत्री ने गाड़ी रोककर किया महिला सुरक्षाकर्मी का सम्मान
सड़क सुरक्षा परिषद की बैठक 13 मार्च को
इन्दौर में 12 मार्च से तीन दिवसीय संगीत समारोह राग अमीर
पन्ना के दो प्राचीन स्मारक घोषित होंगे राज्य संरक्षित स्मारक
मंत्री श्री पवैया हिन्दी भाषा कार्यशाला का 9 मार्च को करेंगे शुभारंभ
सिर्फ महिलाओं को 60 हजार आबादी को 24 घंटे बिजली देने का जिम्मा
अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर उल्लेखनीय उपलब्धि के लिये महिलाएँ सम्मानित
सौभाग्य योजना से 9.64 गरीबों को मिले नि:शुल्क बिजली कनेक्शन
महिला सम्मान को अपने आचार-विचार में लायें : मंत्री श्री उमाशंकर गुप्ता
राष्ट्रीय लोक अदालत 14 अप्रैल को
उप सचिव श्री गिरीश कुमार शर्मा प्रशासन अकादमी, मसूरी में प्रतिनियुक्ति पर पदस्थ
कल तक सब्जी बेचने वाले मनोज बने दुकान के मालिक
एन.सी.सी. राज्य प्रकोष्ठ की कार्यालयीन समयावधि घोषित
प्रावधिक रूप से 233 शासकीय आवास आवंटित
मध्यप्रदेश में महिलाओं ने बनाई नई पहचान
कैक्टस चारे से दुग्ध उत्पादन में हो रही वृद्धि
5 से 16 अप्रैल के बीच होगी वैष्णो देवी, कामाख्या और पुरी तीर्थ की यात्रा
1