आज के समाचार

पिछला पृष्ठ

मध्यप्रदेश में तम्बाकू उपयोग में 5 प्रतिशत की गिरावट-स्वास्थ्य मंत्री श्री सिंह

स्वास्थ्य मंत्री द्वारा वैश्विक वयस्क तम्बाकू सर्वेक्षण रिपोर्ट का विमोचन  

भोपाल : बुधवार, जनवरी 3, 2018, 21:25 IST
 

मध्यप्रदेश में गुटका, बीड़ी-सिगरेट, खैनी आदि के प्रयोग में 5 प्रतिशत की कमी आयी है। लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री रुस्तम सिंह ने आज ग्लोबल एडल्ट टोबेको सर्वे-2 वर्ष 2016-17 की मध्यप्रदेश रिपोर्ट का विमोचन करते हुए यह जानकारी दी। पहला सर्वेक्षण वर्ष 2009-10 में हुआ था, जिसमें तम्बाकू सेवन करने वालों का प्रतिशत 39.5 था, जो वर्ष 2016-17 में 34.2 हो गया। इसी तरह, धूम्रपान का प्रतिशत 16.9 से कम होकर 10.2 और धूम्ररहित तम्बाकू का सेवन का प्रतिशत 31.4 से घटकर 28.1 रह गया है।

छात्रों को तम्बाकू के विरुद्ध करें जागरूक

मंत्री श्री सिंह ने कहा कि स्कूल और कॉलेज छात्र-छात्राओं को नियमित रूप से तम्बाकू के खतरों से आगाह करते हुए जागरूक करें। स्कूल के प्राचार्य और अध्यापक विशेष रूप से 6वीं, 7वीं और 8वीं के बच्चों को हर दिन किसी न किसी रूप में इस बुरी आदत के नुकसानों को बतायें। अगर किशोरावस्था में ही इस बुराई पर काबू कर लिया गया, तो इसके अच्छे परिणाम मिलेंगे।

जुर्माना राशि बढ़े

श्री सिंह ने कहा कि सार्वजनिक स्थानों पर धूम्रपान में कमी आयी है लेकिन इस पर होने वाले जुर्माने की राशि 200 रुपये से बढ़ाकर कम से कम एक हजार रुपये की जानी चाहिये। यदि अभिभावक चाहते हैं कि उनके बच्चों में कोई बुरी लत न हो, तो पहले वे खुद मिसाल बनें। इसी तरह, वरिष्ठ अधिकारी भी कर्मचारियों के सामने उदाहरण पेश करें।

धूम्रपान और तम्बाकू से होती हैं बड़ी बीमारियाँ

कार्यक्रम में बताया गया कि धूम्रपान से न केवल मुँह और फेफड़े का कैंसर, बल्कि लकवा, डायबिटीज और ह्रदय रोग भी होते हैं। मुख कैंसर का सबसे ज्यादा शिकार 25 से 35 वर्ष आयु वर्ग के युवा होते हैं, जो अपना भविष्य सँवारने के बजाय रोग और गरीबी से जूझने लगते हैं। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन संचालक श्री एस. विश्वनाथन ने बताया कि बीमारियों की वजह से 7 प्रतिशत लोग गरीबी रेखा के नीचे चले जाते हैं। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में स्वास्थ्य विभाग एम्स के साथ मिलकर ओरल कैंसर का सर्वे करेगा।

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के राष्ट्रीय सलाहकार श्री प्रवीण सिन्हा ने कहा कि तम्बाकू के विरुद्ध जागरूकता कार्यक्रम मध्यप्रदेश के 16 जिलों में चल रहा है। इसे सभी जिलों में चलाया जाना चाहिये। मध्यप्रदेश देश के सर्वाधिक प्रभावित 6 राज्यों में से एक है। प्रदेश के 50 प्रतिशत पुरुष और 17 प्रतिशत महिलाएँ तम्बाकू का उपयोग करते हैं।

संचालक राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन डॉ. बी.एन. चौहान, डॉ. मुकेश सिन्हा, डॉ. बी.एम श्रीवास्तव और विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रतिनिधियों ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया। कार्यक्रम में प्रदेश के दंत चिकित्सक, स्वयंसेवी संगठन और चिकित्सक मौजूद थे


सुनीता दुबे
आदि गुरु शंकराचार्य एकात्म यात्रा
हाई स्कूल/हायर सेकेण्डरी स्कूलों के उन्नयन के लिए 335 करोड़ स्वीकृत
राजनीति में खेल भावना हो लेकिन खेलों में राजनीति नहीं हो : मुख्यमंत्री श्री चौहान
हितग्राही सम्मेलन में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने इंदौर के नागरिकों को दी करोड़ों रूपये की सौगात
नागरिकों को ज्यादा से ज्यादा लाभ दिलायें - मध्यप्रदेश को सर्वश्रेष्ठ प्रदेश बनायें
बेटियों ने क्रिकेट में बेहतरीन प्रदर्शन कर देश का नाम रोशन किया है : मुख्यमंत्री श्री चौहान
फ्रेंड्स ऑफ एमपी कॉन्क्लेव से मध्यप्रदेश की दुनिया में और प्रतिष्ठा बढ़ेगी- मुख्यमंत्री श्री चौहान
मध्यप्रदेश में तम्बाकू उपयोग में 5 प्रतिशत की गिरावट-स्वास्थ्य मंत्री श्री सिंह
ओमान में प्रति वर्ष देंगे 5 हजार युवाओं को रोजगार
क्रिश हार्वेस्टिंग सेंटर के मालिक बने निर्मल सिंह
साईकिल रिक्शा वालों को मदद करना चाहते हैं एनआरआई : श्री सुभाष अग्रवाल
कौशल प्रशिक्षण योजना से 59 बेरोजगारों को मिला रोजगार
फ्रेण्ड्स ऑफ एम.पी. समिट में आज के कार्यक्रम
कटनी जिले में प्रशासन ने की नवोदय विद्यालय में प्रवेश की नि:शुल्क कोचिंग व्यवस्था
सोलर पम्प से खेतों में सिंचाई; खर्चा एक रुपये भी नहीं
मदरसा बोर्ड द्वारा 5वीं एवं 8वीं की परीक्षाएं ओपन पद्धति से आयोजित की जाएंगी
पशुपालन से हितरलाल कमाते है 30 हजार रुपये महीने
1