| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
You Tube
पिछला पृष्ठ

Download Kruti News Download Chanakya News

मुख्यमत्री बाल श्रवण योजना से लब्धि को मिली बोलने-सुनने की शक्ति

 

भोपाल : मंगलवार, नवम्बर 14, 2017, 17:44 IST
 

नन्हीं परी लब्धि अब सुनने भी लगी है और बोलती भी खूब है। डेढ़ साल पहले ऐसा नहीं था। सभी के लिए साधारण सी दिखने वाली बोल-चाल उसके लिए असाधारण थी।

मंदसौर जिले की मल्हारगढ़ तहसील में है बूढ़ा गाँव। इस गाँव के श्रेणिक जैन की साढ़े तीन साल की बेटी लब्धि न कुछ बोल पाती थी और न ही सुन पाती थी। नियति मानकर उसके पिता अपनी लाचारी और बेबसी से अपनी बेटी की दशा देखकर रोया करते थे, पर कुछ कर नहीं पाते थे क्योंकि उनकी माली हालत ऐसी नहीं थी कि वे किसी बड़े और महंगे अस्पताल में अपनी बेटी का इलाज करा पाते। यह इलाज काफी खर्चीला था।

दिन-रात ईश्वर से प्रार्थना करते-करते जैसे एक दिन ईश्वर ने उनकी सुन ली। स्थानीय चिकित्सक ने उन्हें राज्य शासन की मुख्यमंत्री बाल श्रवण योजना की जानकारी दी। परेशान श्रेणिक ने तुरंत आवेदन दिया। कागजी औपचारिकताओं के बाद लब्धि के इलाज के लिए उन्हें 6 लाख 50 हजार रुपये की राशि मंजूर हो गई।

श्रेणिक जैन ने इंदौर के अरबिंदो अस्पताल में इस राशि से लब्धि को कॉकलियर इम्पलांट कराया। सफल ऑपरेशन के बाद लब्धि को चिकित्सकों ने 3-4 माह अंडर आब्जर्वेशन रखा। चौथे माह में तो जैसे चमत्कार हुआ। कुछ भी न सुनने-बोलने वाली लब्धि सुनने लगी। सभी की बातें समझकर जवाब भी देने लगी। एक अक्टूबर, 2012 को जन्मी लब्धि अब पूरे 5 साल की हो चुकी है और स्कूल जाती है।

मुख्यमंत्री से भी की बातें

लब्धि की यह उपलब्धि केवल मंदसौर जिले तक ही सीमित नहीं रही। लब्धि ने एक नवम्बर को मध्यप्रदेश विकास यात्रा-2017 के मौके पर जिले के भानपुरा में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान का बुके देकर स्वागत किया और उनसे कुछ बातें भी कीं। लब्धि के बारे में जानकर मुख्यमंत्री भाव-विभोर हो गए। लब्धि के पिता इस अभिनव योजना के लिए मुख्यमंत्री श्री चौहान को धन्यवाद देते नहीं थकते। मुख्यमंत्री ने अपनी कल्याणकारी योजनाओं के जरिए हजारों जीवन संवारे हैं।

सफलता की कहानी (मंदसौर)

Youtube
 
समाचारो की सूची
जनजातीय कार्य विभाग द्वारा संचालित छात्रावासों का युक्तियुक्तकरण करने की मंजूरी
प्रदेश में नई रेत खनन नीति 2017 लागू करने का निर्णय
ग्रामीण क्षेत्रों में विदयुत राजस्व संग्रहण की जिम्मेदारी महिला स्व-सहायता समूहों को देने पर विचार
सभी जिलों और तहसीलों में समाधान-एक दिन व्यवस्था लागू होगी
समाज के साथ नैतिक आंदोलन चलाने की आवश्यकता
स्वच्छता सर्वेक्षण 2018 में भोपाल को देश का नम्बर एक शहर बनाने में योगदान दें - मुख्यमंत्री श्री चौहान
"बिल्डिंग टूमॉरोस चैम्पियन" कार्यक्रम में खेल मंत्री श्रीमती सिंधिया होंगी मुख्य अतिथि
अयूब खां ने प्लास्टिक मल्चिंग विधि अपनाकर खेती को बनाया लाभ का धंधा
प्रदेश में टी.बी. के मरीजों को रोजाना दवा मिलना शुरू : स्वास्थ्य मंत्री श्री सिंह
महिला बाल विकास मंत्री श्रीमती चिटनिस ने बाल दिवस से आरंभ किया "मिशन पालना"
बच्चों को निर्भीक बनाएं : राज्य मंत्री श्रीमती ललिता यादव
राजस्व मंत्री द्वारा कोटरा में पेबिंग ब्लॉक का भूमि-पूजन
राजस्व मंत्री ने बाल दिवस पर विद्यार्थियों को किया पुरस्कृत
मुख्य सचिव ने केंद्रीय दल को प्रदेश में सूखे की स्थिति की दी जानकारी
अध्यापक संवर्ग के 4607 आवेदकों का हुआ अंतर-निकाय संविलियन
मुख्यमत्री बाल श्रवण योजना से लब्धि को मिली बोलने-सुनने की शक्ति
आयुर्वेद चिकित्सालय में हर माह दूसरे सोमवार को होगा नि:शुल्क मधुमेह परीक्षण
विश्व मधुमेह दिवस पर जे.पी. अस्पताल में हुई जागरूकता रैली
रेत खनन नीति - 2017 के प्रमुख बिन्दु
प्रत्येक पंचायत में होगी राशन दुकान : हर दुकान पर होगा स्वतंत्र विक्रेता
1