social media accounts
दिनांक
विभाग
भोपाल : शुक्रवार, अप्रैल 27, 2018, 13:52 IST

किसानों को भुगतान समय से हो, आवश्यकतानुसार नवीन उपार्जन केन्द्र खोले जायें

मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा गेहूँ, चना, मसूर और सरसों उपार्जन की समीक्षा

 

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने निर्देश दिये हैं कि सभी जिलों में आवश्यकतानुसार नवीन उपार्जन केन्द्र खोले जायें। किसानों को भुगतान समय से हो। उपार्जन कार्य की लगातार मानीटरिंग की जाये। उपार्जन के दौरान किसान हितैषी दृष्टिकोण रखा जाये। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज यहाँ वीडियो कान्फ्रेंस के माध्यम से प्रदेश में चल रहे गेहूँ, चना, मसूर और सरसों के उपार्जन की समीक्षा कर रहे थे। इस अवसर पर वित्त मंत्री श्री जयंत मलैया, वन मंत्री डॉ. गौरीशंकर शेजवार, सहकारिता राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग और मुख्य सचिव श्री बी.पी. सिंह भी उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि किसानों को समय से एसएमएस मिले तथा खरीदी केन्द्र पर उपार्जन सुनिश्चित किया जाये। उपार्जन के बाद शीघ्र परिवहन किया जाये। यह सुनिश्चित करें कि किसानों को खरीदी के तीसरे दिन भुगतान मिले। किसी कारण से एसएमएस से सूचना के बाद निर्धारित दिन पर किसान नहीं आ पाता है तो उन्हें दोबारा एसएमएस किया जाये। खरीदी, परिवहन और किसान को भुगतान की लगातार मानीटरिंग की जाये। खरीदी केन्द्रों पर पर्याप्त संसाधन और उपकरण हों। यह सुनिश्चित करें कि बोरे के निर्धारित वजन के बराबर ही कटौती की जाये। उपार्जन केन्द्रों पर छाया और पीने के पानी की व्यवस्था सुनिश्चित करें। उपार्जन केन्द्रों पर एक प्रशासनिक अधिकारी की ड्यूटी लगायें। मण्डियों में आवश्यकतानुसार मजदूरी की दरें बढ़ायें। जिन उपार्जन केन्द्रों पर नाफेड के सर्वेयर नहीं हो, वहाँ कृषि, खाद्य और सहकारिता की समिति बनाकर एफ.ए.क्यू गुणवत्ता का उपार्जन करें। ओला प्रभावित और सूखे से प्रभावित किसानों को राहत राशि मिलना शेष नहीं रहे। उपार्जित खाद्यान्न के परिवहन में देरी नहीं हो। आवश्यकतानुसार मण्डियों में विद्युत चलित ट्रेडिंग मशीनें लगायें।

प्रभारी मंत्री भी प्रतिदिन करेंगे उपार्जन की मानीटरिंग

मुख्यमंत्री ने कहा कि कलेक्टर उपार्जन कार्य के साथ भुगतान की स्थिति की प्रतिदिन समीक्षा करें। प्रभारी मंत्री भी प्रतिदिन उपार्जन कार्य की मानीटरिंग करेंगे। खरीदी, परिवहन, भुगतान और कैश की प्रतिदिन रिपोर्ट लें। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कृषि समृद्धि योजना के तहत वर्ष 2016-17 की प्रोत्साहन राशि अधिकांश किसानों के खातों में पहुँच गई है। वर्ष 2017-18 की प्रोत्साहन राशि 265 रूपये प्रति क्विंटल गेहूँ तथा चना, मसूर और सरसों में 100 रूपये प्रति क्विंटल की दर से आगामी 10 जून को किसानों के खातों में डाली जायेगी।

किसानों को एसएमएस की विकेन्द्रीकृत व्यवस्था

बताया गया कि उपार्जन के लिये किसानों को एसएमएस भेजने की विकेन्द्रीकृत व्यवस्था की गई है। खरीदी केन्द्रों पर तौल व्यवस्था का सुदृढ़ीकरण किया गया है। प्रदेश में अब तक 45 लाख मीट्रिक टन गेहूँ का उपार्जन किया गया है। गेहूँ, चना, मसूर, सरसों को मण्डियों में बेचने वाले किसानों को भी मुख्यमंत्री कृषक समृद्धि योजना में प्रोत्साहन राशि दी जायेगी। इन किसानों का पंजीयन किया गया है। बैठक में संबंधित विभागों के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

एस.जे.

प्रदेश में गरीबो की भलाई का नया इतिहास रचा - मुख्यमंत्री श्री चौहान
रावतपुरा धाम पर धर्मशाला बनेगी: मुख्यमंत्री श्री चौहान
रोजगारमूलक शिक्षा समय की सबसे बड़ी जरूरत - मुख्यमंत्री श्री चौहान
आदिवासी महिलाएँ जो कार्य कर रही है वह महिला सशक्तिकरण का प्रतीक : मुख्यमंत्री श्री चौहान
गरीबी से जंग में जीत की प्रतीक हैं पोल्ट्री प्रोड्यूसर्स कंपनी की बहनें- शिवराज सिंह चौहान
सर्वांगीण विकास सभी की सामूहिक जवाबदारी : मुख्यमंत्री श्री चौहान
पंचायत प्रतिनिधि ऐतिहासिक काम में अपनी शक्ति और समय लगाये : प्रधानमंत्री श्री मोदी
नर्मदा नियंत्रण मण्डल द्वारा 5993 करोड़ की सूक्ष्म उद्वहन सिंचाई परियोजनायें स्वीकृत
संग्रहालय से आदिगुरू के जीवन-दर्शन की प्रेरणा मिले : मुख्यमंत्री श्री चौहान
समाज को बदलने आगे आये जन अभियान परिषद
महिलाओं के विरुद्ध अपराधों को रोकने के लिये सभी समाज एकजुट हों : लोकसभा अध्यक्ष
परिचय सम्मेलन में छह जोड़ों का विवाह सम्पन्न
सभी समुदाय युवाओं को कैरियर और शिक्षा संबंधी परामर्श दें - मुख्यमंत्री श्री चौहान
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने की लोकसभा अध्यक्ष श्रीमती महाजन की अगवानी
सभी पात्र श्रमिकों को मिलेगा असंगठित श्रमिक कल्याण योजना का लाभ
उपार्जन में व्यवधान डालने वाले तत्वों पर होगी कार्रवाई - मुख्यमंत्री श्री चौहान
दुराचारियों को फाँसी देने का केन्द्र का अध्यादेश ऐतिहासिक : मुख्यमंत्री श्री चौहान
योजनाओं और कार्यक्रमों की सफलता सुनिश्चित करना सिविल सेवकों का दायित्व
महिला सशक्तिकरण के क्षेत्र में मध्यप्रदेश देश का अग्रणी राज्य बनेगा - मुख्यमंत्री श्री चौहान
इस वर्ष एक लाख सरकारी पदों पर होगी भर्तिंयां- मुख्यमंत्री श्री चौहान