दिनांक
विभाग
भोपाल : शुक्रवार, दिसम्बर 15, 2017, 17:08 IST

जलवायु परिवर्तन और ग्लोबल वार्मिंग से निपटने नवाचार भी करें वनाधिकारी : केन्द्रीय मंत्री डॉ. हर्षवर्धन

बाघों को करंट शिकार से बचाने मध्यप्रदेश ने मांगे 1200 करोड़ रुपये

 

केन्द्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने गुरुवार को यहां वन विभाग की गतिविधियों की समीक्षा के दौरान कहा कि विकास के परिणाम स्वरूप जलवायु परिवर्तन और ग्लोबल वार्मिंग के समाधान के लिये पूरी दुनिया एकजुट होकर कार्य-योजना बना रही है। दुनिया को इस समस्या से उबारने में वनों की महत्वपूर्ण भूमिका है। डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि वन अधिकारियों को ईश्वरीय कार्य के साथ जुड़ने का मौका मिला है। वे रूटीन कामों के साथ ही ऐसे नवाचार भी करें जो देश और दुनिया में मिसाल बनें। उन्होंने कहा कि भारत में घने एवं स्वस्थ जंगल, नदी, हवा-पानी और संवेदनशील भाव विरासत में मिले हैं। अब हमारा कर्त्तव्य है कि भावी पीढ़ी को स्वस्थ और स्वच्छ प्राकृतिक विरासत सौंपें। केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि पृथ्वी के तापमान में इसी तरह वृद्धि जारी रही तो प्राणियों का अस्तित्व ही खतरे में पड़ जाएगा।

डॉ. हर्षवर्धन ने मध्यप्रदेश में विगत 2 जुलाई 2017 को 7 करोड़ से अधिक पौधारोपण की प्रशंसा करते हुए कहा कि यह अच्छी बात है कि 90 प्रतिशत से अधिक पौधे जीवित अवस्था में हैं। उन्होंने दूरस्थ अंचलों में वन विभाग द्वारा संचालित दीनदयाल योजना की भी सराहना की। उन्होंने वन अधिकारियों से कहा कि प्रयोगशाला और मैदानी कार्य का सम्मिश्रण करते हुए असाधारण लक्ष्य बनायें और उस पर काम करें।

दीनदयाल वनांचल सेवा से शिशु-मातृ मृत्यु दर और मलेरिया में कमी आई

वन मंत्री डॉ. शेजवार ने बताया कि दूरस्थ अंचलों में निवासरत लोगों की शिक्षा और स्वास्थ्य के लिये अक्टूबर 2016 से आरंभ की गई दीनदयाल वनांचल सेवा योजना के अच्छे परिणाम मिलने लगे हैं। इसमें स्वास्थ्य, शिक्षा, महिला एवं बाल-विकास और आदिम जाति कल्याण विभाग को जोड़ा गया है। ऐसे इलाकों में जहां इन विभागों के लोग नहीं पहुंच पाते, वहां वन कर्मियो की सहायता से टीकाकरण, शिक्षा, स्वास्थ्य आदि के कार्य करने से लोगों की स्थिति में काफी सुधार आया है। दीनदयाल वनांचल सेवा से हरदा, होशंगाबाद और बैतूल जिले में शत-प्रतिशत गर्भवती महिलाओं का टीकाकरण हुआ है और मलेरिया से होने वाली मृत्यु लगभग शून्य हो गई है। शिक्षा में सहायता से दूरस्थ अंचलों के बच्चों के शिक्षा परिणाम में भी सुधार हुआ है। डॉ. शेजवार ने डॉ. हर्षवर्धन को योजना का ब्रोशर भेंट किया।

बिजली लाइनों का होगा इन्सुलेशन

प्रधान मुख्य वन संरक्षक (वन्य प्राणी) श्री जितेन्द्र अग्रवाल ने केन्द्रीय मंत्री के समक्ष बाघों को करंट से बचाने के लिये 1200 करोड़ रुपये की मांग को दोहराया। श्री अग्रवाल ने कहा कि यदि केन्द्र से यह राशि मिल जाती है तो बिजली की लाइनों का इन्सुलेशन करवाया जायेगा। इससे शिकारी करंट लगाकर बाघ एवं अन्य वन्य प्राणियों का शिकार नहीं कर सकेंगे।

डॉ. हर्षवर्धन ने बैठक में मध्यप्रदेश के वनों के घनत्व, वृक्षावरण, कार्य आयोजना, केन्द्र प्रवर्तित योजनाओं, नवाचार, कैम्पा फंड, वृक्षारोपण, ग्रीन इंडिया मिशन, वन एवं वन्य प्राणी संरक्षण, संयुक्त वन प्रबंधन, वन्य प्राणी प्रबंधन, सूचना प्रौद्योगिकी, वन अधिकारों की मान्यता अधिनियम, राज्य लघु वनोपज संघ, राज्य वन विकास निगम आदि की समीक्षा की। अपर मुख्य सचिव श्री दीपक खांडेकर, प्रधान मुख्य वन संरक्षक एवं वन बल प्रमुख डॉ. अनिमेष शुक्ला, वन विकास निगम के प्रबंध संचालक श्री रवि श्रीवास्तव, राज्य लघुवनोपज संघ के प्रबंध संचालक श्री जव्वाद हसन सहित वन विभाग के वरिष्ठ अधिकारी बैठक में उपस्थित थे।

सुनीता दुबे

मध्यप्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अध्यक्ष होंगे पर्यावरण विभाग के प्रमुख सचिव
वायु प्रदूषण नियंत्रण के लिये निर्देश जारी
जलवायु परिवर्तन एवं पर्यावरण पर राज्य-स्तरीय मीडिया कार्यशाला 22 नवम्बर को
एप्को द्वारा मोगली उत्सव के लिए हर जिले से एक-एक क्विज मास्टर प्रशिक्षित
सिया एवं सेक समिति गठित
एप्को द्वारा मोगली बाल उत्सव के क्विज मास्टर ट्रेनर्स का प्रशिक्षण आज
वायु प्रदूषण नियंत्रण के लिए नरवई जलाने पर प्रतिबंध
ऑनलाइन "प्रकृति खोज-पर्यावरण क्विज 8 अक्टूबर को
ओजोन क्षरण जारी रहा तो पृथ्वी का अस्तित्व खतरे में होगा
पितृ पक्ष में पौध-रोपण कर भावी पीढ़ी को दें जीवन का उपहार
एप्को देगा जलवायु परिवर्तन विषय पर शिक्षकों को प्रशिक्षण
एप्को में पी.जी.डी.ई.एम 2016-17 का दीक्षांत समारोह सम्पन्न
डेढ़ सौ लोगों ने बनाये कलात्मक गणेश
गणेशमय हुई भोपाल नगरी
भोपाल में हुए मंथन के आधार पर बनेगी राष्ट्रीय खाद्य एवं औषधि नियंत्रण नीति
ग्रीन गणेश अभियान में 1200 लोगों ने बनाई मिट्टी से मूर्ति
हस्तशिल्प व खादी बोर्ड विक्रय केन्द्रों पर हैं मिट्टी गणेश प्रतिमाएँ
आओ मिट्टी के गणेश बनायें - पर्यावरण बचायें
एप्को टीम द्वारा उज्जैन में ग्रीन गणेश निर्माण प्रशिक्षण
केन्द्रीय क्लाइमेट स्मार्ट विलेज परियोजना में प्रदेश के 60 गाँव चयनित