| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
You Tube
पिछला पृष्ठ

"नमामि देवि नर्मदे''-सेवा यात्रा

धरती की प्राचीनतम नदियों में से एक है नर्मदा

लाखों-करोड़ों वर्ष पुराने वनस्पति और जीव-जंतुओं के जीवाश्म हैं मौजूद 

भोपाल : बुधवार, अप्रैल 26, 2017, 14:25 IST

नर्मदा नदी की गणना धरती की सबसे प्राचीन नदियों में होती है। नर्मदा घाटी में करोड़ों वर्ष पुरानी वनस्पति और जंतुओं के जीवाश्म बड़ी संख्या में मिले हैं। करोड़ वर्ष के दौरान जैव-विविधता के यहाँ अनेक रूप समय-समय पर प्रकट हुए और विलुप्त हुए। लगभग 6 करोड़ वर्ष पूर्व इस क्षेत्र में अनेक भूकंपों और भू-गर्भीय उथल-पुथल के कारण पृथ्वी की सतह पर पिघले हुए गर्म लावा की परतों ने झील और जलाशयों के बीच की वनस्पतियों को भू-चालिक राख से ढँक दिया था। लाखों वर्षों में पाषाणीकरण होने से वृक्षों के तने, फल-फूल, बीज, लताएँ, पत्तियाँ सब ज्यों के त्यों कठोर होकर जीवाश्मों में बदल गये।

नर्मदा कपाल

नर्मदा घाटी में पाये गये जंतु जीवाश्मों में हाथी, घोड़े, दरियाई घोड़ा, जंगली भैंसों के जीवाश्म के साथ सीहोर जिले के हथनौरा गाँव में प्राचीन मानव के कपाल अवशेष भी मिले हैं। हथनौरा में नर्मदा तट पर खुदाई से प्राप्त मानव कपाल का नाम 'नर्मदा कपाल' रखा जाकर इस प्राचीन मानव को वैज्ञानिकों द्वारा नर्मदा मानव का नाम दिया गया है। हथनौरा के पास ही ग्राम धांसी में नर्मदा के उत्तरी तट पर प्राचीनतम विलुप्त हाथी (स्टेगोडॉन) के दोनों दाँत तथा ऊपरी जबड़े का जीवाश्म मिला है। नरसिंहपुर के पास नर्मदा और शेर नदी के संगम के निकट भी प्राचीन पशुओं के अस्थि-जीवाश्म भारी मात्रा में मिले हैं।

डायनासोर के जीवाश्म

जबलपुर के पास नदी तट पर स्टेगोसारस नामक विशालकाय डायनासोर के पीठ के एक काँटे और राजासारस डायनासोर के ऊपरी जबड़े का जीवाश्म मिला है। धार जिले में कुक्षी के निकट लगभग 8 करोड़ साल पुराने सॉरोपोड डायनासोर के 104 अण्डे और दो बड़ी फीमर हड्डियाँ मिलीं। वैज्ञानिक सॉरोपोड का आकार 40 से 90 फीट मानते हैं। नर्मदा घाटी में 1.7 अरब वर्ष से लेकर कुछ हजार साल पहले तक समुद्री, स्वच्छ जलीय एवं थलीय वनस्पतियाँ, समुद्री सीपी-शंख, जमीनी कीड़े-मकोड़ों से लेकर दैत्याकार डायनासोरों तक के जीवाश्म मिले हैं। यहाँ शार्क मछलियों के 5000 से अधिक दँत जीवाश्म भी पाये गये हैं।

नर्मदा यात्रा आज प्रात: कालीन आरती के बाद लिंगा पौड़ी से पथपर सिंगारपुर पहुँची जहाँ पर स्थानीय जन-प्रतिनिधियों ने कलश और ध्वज का पूजन किया। साध्वी प्रज्ञा भारती ने माँ नर्मदा की स्वच्छता, जल संवर्धन और जल-संरक्षण के लिए लोगों को जागरूक किया। इस अवसर पर नर्मदा संवर्धन, नशामुक्ति, पर्यावरण संरक्षण, कन्या भूण हत्या, बेटी-बचाओ और जैविक खेती आदि के बारे में संकल्प दिलाया गया। कार्यक्रम में 'नर्मदे हर' के जयकारे एवं सिर पर कलश के साथ महिलाओं ने उत्साह से भाग लिया।

Youtube
 
समाचारो की सूची